खुश रहने के लिए जरूरी है हेल्दी स्लीप, पर इन 5 गलतियों से बचना है जरूरी

गहरी नींद असल में आपके लिए किसी औषधि से कम नहीं है। ये न सिर्फ आपको तरोताज़ा करती है, बल्कि आपको खुश रखने में भी मददगार है।

raat ki achhi nind hai jaruri
साउंड स्लीप जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published on: 18 May 2022, 21:21 pm IST
  • 120

कभी वेब सिरीज, कभी सोशल मीडिया तो कभी काम का बोझ आपको सोने नहीं देता। हालांकि जब आपकी गहरी नींद का समय बीत रहा होता है, तब आपको अहसास नहीं होता। पर अगले दिन आप भारी पलकों, थके हुए शरीर और झुंझलाए हुए मूड के साथ उठते हैं। तब लगता है कि कुछ तो गड़बड़ हुई है। असल में ये गड़बड़ है नींद पूरी न हो पाना। भले ही आप बिस्तर पर दस घंटे पड़े रहें, पर जब तक आप गहरी नींद नहीं लेंगी, तब तक आपके तन और मन को उसका पूरा लाभ नहीं मिल पाएगा। आइए जानते हैं वे गलितयां जो आपकी नींद को डिस्टर्ब कर देती हैं।

कैसे पता चलेगा कि आपकी नींद पूरी नहीं हो रही

चिड़चिड़ापन

थकान

बेचैनी, उबासी लेना

ज्यादा भूख लगना

उदास रहना

भूलने की समस्या

सुस्त रहना

anxiety se nipatne ke upaye
नींद की कमी बन सकती है आपके एंग्जायटी का कारन। चित्र ; शटरस्टॉक

नींद की कमी से बढ़ता है इन स्वास्थ्य जोखिमों का खतरा

1. डिप्रेशन और तनाव का खतरा

पर्याप्त नींद न लेने से आप एक जगह ध्यान केंद्रित रखना मुश्किल होता है। बेचैनी और बार-बार मूड में बदलाव आने जैसी समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं। नेशनल लिबर्टी ऑफ मेडिसिन द्वारा किये गए एक रिसर्च के अनुसार जो लोग रात को पर्याप्त नींद नहीं ले रहे थे, उनमें एंजाइटी और डिप्रेशन के लक्षण नज़र आए। नींद की कमी से दिमाग ज्यादा समय तक सक्रिय रहता है, जिस वजह से आप तनाव की शिकार हो सकती हैं। वहीं पूरे दिन गुस्सा, इर्रिटेशन, बेचैनी जैसी कई समस्याओं को झेलना पड़ सकता है।

2. हार्ट डिजीज का खतरा

नेशनल लिबर्टी ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए अध्ययन में देखा गया की जो लोग पर्याप्त नींद नहीं ले पाते और जिनमें नींद की कमी होती है, उन लोगों में अन्य लोगों की तुलना में हार्ट अटैक और हार्ट स्ट्रोक की संभावना काफी ज्यादा होती है। वहीं अध्ययन में देखा गया कि एक हेल्दी व्यक्ति ने एक रात केवल 3 घंटे की नींद ली और अगली सुबह उनका ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ पाया गया। नींद की कमी हार्ट वेसल्स को हेल्दी रखने वाले प्रोसेस को प्रभावित करती है।

3. मोटापे की समस्या

नींद की कमी आपके डाइजेस्टिव सिस्टम को प्रभावित करने के साथ आपको मोटापे की समस्या से भी ग्रसित कर सकती है। पब मेड द्वारा किए गए एक रिसर्च में बताया गया कि नींद की कमी एक हेल्दी व्यक्ति को भी मोटापे से ग्रसित कर सकती हैं। वहीं नींद की कमी के कारण खाने के बाद शरीर बहुत कम मात्रा में इंसुलिन रिलीज कर पाता है। जिसकी वजह से ब्लड शुगर लेवल बढ़ता है, और आपको डायबिटीज की समस्या हो सकती है।

baal jhhadne ka karan ho sakti hai nind ki kami
बाल झड़ने का कारण हो सकती है नींद की कमी। चित्र : शटरस्टॉक

4. बाल झड़ने की समस्या

पर्याप्त नींद न ले पाने के कारण शरीर में कई तरह की समस्याएं होती हैं। जो डायरेक्टली ओर इनडायरेक्टली बाल झड़ने की समस्या का एक कारण हो सकता है। नींद की कमी से स्ट्रेस लेवल बढ़ता है साथ ही डिप्रेशन और एंग्जाइटी जैसी समस्याएं सामने आती हैं। स्ट्रेस की वजह से बाल झड़ने लगते हैं। साथ ही स्लीप डिप्रिवेशन शरीर में हार्मोन इंबैलेंस पैदा करती हैं। जिसकी वजह से भी बाल की जड़े कमजोर होती हैं, और बाल झड़ने जैसी समस्या सामने आ सकती है।

अच्छी नींद चाहिए तो इन 5 गलतियों को करने से बचें

1. शाम के समय कैफीन लेना

दिन के समय कैफीन लेने से आपको बूस्ट अप रहने में मदद मिलती है। परंतु यही कैफीन शाम के बाद आपके नर्वस सिस्टम को उत्तेजित करती है, और रात को सोने समय शरीर रिलैक्स नहीं रह पाता। इसलिए सोने के समय से 6 घंटे पहले से कैफीन को अवॉइड करें। कैफीन ब्लड में 6 से 8 घंटे तक रहता है, इसलिए 3 से 4 बजे के बाद कैफीन युक्त किसी भी पदार्थ का सेवन आपकी नींद को प्रभावित कर सकता है।

2. अनियमित रूप से दिन के समय नैप लेना

दिन के समय छोटी झपकी लेना आपके लिए फायदेमंद होता है, परंतु अनियमित रूप से दिन में किसी भी वक़्त नैप लेने से आपकी नींद प्रभावित हो सकती है। वही नींद की कमी आपके स्वास्थ्य जोखिमों की संभावना को भी बढ़ा देती है।

 

bewaqt sona aur jagna aapki sehat ke liye ho sakta hai nuksandeh.
बेवक्त सोना और जागना आपकी सेहत के लिए हो सकता है नुकसानदेह।
चित्र : शटरस्टॉक

3. बेवक्त सोना और जागना

सोने और जागने की अनियमित आदत नींद की गुणवत्ता को प्रभावित करती हैं। रात को समय पर न सोने से आपका दिमाग सक्रिय रहता है, जिसकी वजह से सुबह अलार्म की मदद से उठना पड़ता है। यह आपकी सेहत के लिए बिल्कुल भी उचित नहीं है। एक अध्ययन में देखा गया कि अनियमित स्लीप पैटर्न नींद को लेकर ब्रेन को सिग्नल देने वाले सर्कैडियन रिदम और मेलाटोनिन लेवल को प्रभावित करती है।

4. योग और ध्यान की कमी

रात की पर्याप्त और अच्छी नींद के लिए अपने दिमाग को शांत और संतुलित रखना बहुत जरूरी है। आप में से कई लोग ऑफिस से दिमाग में 10 तरह का तनाव लेकर आते हैं, जिसकी वजह से दिमाग सक्रिय रहता है। ऐसे में सोने से पहले कुछ देर मेडिटेशन का अभ्यास आपको अच्छी नींद प्राप्त करने में मदद करेगा। साथ ही पूरे दिन अपने शरीर को एक्टिव रखने का प्रयास करें, अन्यथा स्थित शरीर भी नींद की कमी का कारण हो सकता है।

5. बेवक्त खाना

रात का डिनर आपकी नींद को प्रभावित कर सकता है। ऐसे में भारी भोजन और रात को देर से खाने की आदत आपके नींद और स्वास्थ्य दोनों के लिए हानिकारक हो सकते हैं। यह आदतें आपकी डाइजेस्टिव सिस्टम को असंतुलित कर देती हैं, जिसके कारण समय पर नींद न आने जैसी समस्याएं सामने आती हैं।

यह भी पढ़ें : आप कैसे पता लगाएंगी कि आपका यूरिक एसिड बढ़ने लगा है? यहां हैं उसके संकेत

  • 120
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory