IWD 2022: नोक-झोंक के बावजूद मेंटल हेल्थ को दुरुस्त रखती हैं बहनें, 5 महिलाएं साझा कर रहीं हैं अपने अनुभव

Updated on: 10 March 2022, 19:04 pm IST

मार्च के महीने में अपनी बहनों का शुक्रिया करना न भूलें। जी हां, आपकी मेंटल हेल्थ के लिए किसी थेरेपी से कम नहीं हैं बहनापा।

Behen hona hai mental health ke liye faydemand
बहन होना है मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद। चित्र:शटरस्टॉक

एक बहन के रूप में, मैं इस तथ्य की पुष्टि कर सकती हूं कि बहनों का होना वास्तव में अद्भुत है। हां, कभी-कभी वे थोड़ा परेशान कर सकती हैं। खासकर जब आप एक छोटी बहन के साथ व्यवहार कर रहे हों। लेकिन निश्चित रूप से, भाई-बहन या बहनों की लड़ाई का अपना ही मज़ा है। कुल मिलाकर, एक बहन सबसे अच्छा उपहार है जो आपके माता-पिता आपको दे सकते हैं। यह न केवल आपके बड़े होने पर कपड़े और मेकअप चुनने के लिए दो या अधिक विकल्प प्रदान करता है, बल्कि एक बहन का होना आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य दोनों के लिए भी फायदेमंद है।

कई अध्ययनों में पाया गया है कि बहन होने का सभी भाई-बहनों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। वे परिवारों के लिए कुछ ऐसा लाती हैं, जो अकेले भाई नहीं ला पाते। वे बचपन को खुशहाल बनाती हैं, जो खुश वयस्कों में विकसित होते हैं। दूसरे शब्दों में, वे भावनात्मक और मानसिक रूप से एक उपहार से कम नहीं है।

तो अगली बार जब आप और आपकी बहन के बीच किसी ऐसी बात को लेकर तीखी नोकझोंक हो जाए, जिसे आप अगले एक घंटे में भूल सकती हैं, तो याद रखें कि यह सिर्फ मजे के लिए है। लंबे समय में, आप अपनी बहन की वजह से स्वस्थ और खुश हैं।

NCBI पर प्रकाशित शोध के अध्ययन से संकेत मिलता है कि बहन स्वस्थ तरीके से भावनाओं को व्यक्त करने की अधिक संभावना रखती है। वो दूसरों के साथ अच्छा संचार करने का कौशल रखती है, और यहां तक ​​कि अवसाद और अकेलेपन के प्रति अधिक लचीले होने में मदद करती हैं।

एक बहन होने के सुखद अनुभवों को सांझा कर रही हैं 5 महिलाएं

1. “सारी नकारात्मक भावनाओं को दूर कर देती है मेरी बहन।”
सृष्टि अग्रवाल- 32 वर्ष

सृष्टि का मानना है, “बहनें, चाहे बड़ी हों या छोटी, सिबलिंग के रिश्ते में अधिक सकारात्मक भावनाओं का एक प्रमुख कारक हैं। जब भी मैं व्यक्तिगत या काम से संबंधित किसी नकारात्मक विचार से जूझती हूं, तो मेरी बहन को मेरा मूड लिफ्ट करना आता है। मेरी पसंदीदा कॉफी के साथ वो मेरे बगल में बैठकर बातें करती है और मेरी परेशानी हल करने की कोशिश भी करती है। कभी-कभी लगता है मैं इसके बिना अधूरी हूं।”

Positive rehne ein madad karti hai behne
पॉजिटिव रहने में मदद करती हैं बहने। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसके अलावा ब्रिघम यंग यूनिवर्सिटी के एक अध्ययन में पाया गया कि बहनों के साथ लोगों को बिना बहन के लोगों की तुलना में कम अपराधबोध, अकेलापन और भय की भावनाओं का अनुभव होता है। दिलचस्प बात यह है कि जैसे-जैसे वे बड़े होते जाते हैं, वे उन चीजों के बारे में भी बात करने की अधिक संभावना रखते हैं, जिनके बारे में वे अपने माता-पिता से बात नहीं करना चाहते हैं।

भाई-बहनों के बीच उम्र के अंतर से कोई फर्क नहीं पड़ता। बस यह तथ्य काफी है कि उनके बीच एक बहन है जो नकारात्मक भावनाओं को सीमित करती है।

2. “तू-तू मैं-मैं के अलावा मेरी बहन मुझसे बहुत प्यार करती है”
आरज़ू चावला- 24 वर्ष

आरज़ू कहती है, “बहनों के बीच लड़ाई न हो यह तो नामुमकिन है। हम दोनों बहनें भी बहुत लड़ते हैं और कभी तो यह इतना ज्यादा हो जाता है कि मम्मी पापा को बीच में सुलह करवानी पड़ती है। वरना एक का घर छोड़कर जाना तो तय रहता है! लेकिन कुछ भी कहा जाए, एक-दूसरे से प्यार भी हम बहुत करते हैं। बचपन से लेकर आज तक मुझे तंग करने और रुलाने का हक सिर्फ उसे है। यदि कोई और ऐसा करने की कोशिश करता है, तो सबसे पहले ढाल बनकर वो मेरी मदद करती है।”

ब्रिघम यंग अध्ययन में यह भी पाया गया कि बहनों वाले लोग बिना बहनों की तुलना में प्यार किए जाने की अधिक भावना की रिपोर्ट करते हैं। यह विशेष रूप से किशोरों के लिए है। जो अपने जीवन में कई शारीरिक और भावनात्मक बदलाव से गुजरते है।

3. “मेरे जैसे इंट्रोवर्ट को भी बात करने पर मजबूर कर देती है मेरी बहन।”
गार्गी द्विवेदी- 28 वर्ष

28 वर्षीय गार्गी अपनी बहन के बारे में बताती हैं, “मैं स्वभाव से बहुत शांत और रिजर्व्ड हूं। लेकिन मेरे बिल्कुल विपरीत स्वभाव की है मेरी बहन सुरभि। अक्सर चीजों को व्यक्त न कर पाने के कारण मैं अंदर घुटती रहती हूं और पैनिक या नर्वस ब्रेकडाउन का अनुभव करने लगती हूं। लेकिन जब मेरी बहन मेरे पास होती है, मैं अपने मन की सारी बात उससे बेझिझक कर सकती हूं। वो एक अच्छी श्रोता होने के साथ अच्छी सलाहकार भी है। कई बार तो मेरे लिए घर और बाहर दोनों जगह लड़ जाती है। मैं बहुत लकी हूं जो सुरभि मेरे जीवन का हिस्सा है।”

Man ki baat kehna hota hai aasaan
मन की बात कहना हो जाता है आसान। चित्र:शटरस्टॉक

न केवल बहन की उपस्थिति से सिबलिंग को फायदा होता है, बल्कि पूरे परिवार को भी इसका लाभ होता है। कम से कम एक बेटी वाले परिवार में बातचीत में शामिल होने और भावनाओं को व्यक्त करने की अधिक संभावना होती है। संवाद की संभावना जो एक बहन होने के साथ आती हैं, वह मानसिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। इसका मतलब है कि वे आपको और अधिक संतुलित बनाती हैं।

अल्स्टर विश्वविद्यालय में शोधकर्ताओं के अनुसार, भावनात्मक अभिव्यक्ति अच्छे मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। बहनें स्वाभाविक रूप से इसे कम तनावग्रस्त और अधिक संतुलित बनाने में मदद करती हैं।

4. “उम्र के इस पड़ाव में भी मेरी सबसे पक्की सहेली है मेरी बहन।”
निहारिका शाह- 53 वर्ष

निहारिका कहती हैं, “बचपन से लेकर आज तक मेरी बहन मेरी सबसे पक्की सहेली है। आज जब बच्चे अपने जीवन में व्यस्त है, तो कभी-कभी मन की बात कहने के लिए किसी दोस्त की जरूरत होती है। ऐसे में एक बहन से अच्छा दोस्त और कौन होगा! एक दूसरे के जीवन को इतनी करीब से जानने का यही फायदा है कि हम बिना कहे मन की बात जान जाते हैं। अगर वो नहीं होती, तो आज के इस बिजी शेड्यूल वाली दुनिया में मैं अकेली पड़ जाती।”

2010 के एक अध्ययन में पाया गया कि बहनों वाले लोग आम तौर पर अच्छे और अधिक दयालु होते हैं। भले ही आपस में मनमुटाव हों। लेकिन जब बात एक-दूसरे की आती है, तो वे मदद के लिए तैयार रहते हैं।

अध्ययन में एक से अधिक बच्चों वाले 395 परिवारों की जांच की गई। उन्हें अपने भाई-बहन के बारे में प्रश्नों की एक श्रृंखला दी गई, जो उनके सबसे करीब थे, और उनके उत्तरों की वीडियोग्राफी की गई। अगले वर्ष, फिर से वही प्रश्न पूछे गए और उन्हें रिकॉर्ड किया गया।

Saheliyon se kam nahi hoti hai behne
सहेलियों से कम नहीं होती हैं बहने। चित्र : शटरस्टॉक

शोधकर्ताओं ने पाया कि यह बहनें थीं जिनका भाई बहन के रिश्ते पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ा जब यह आया कि वे कितने दयालु थे। बहन की उपस्थिति सद्भाव की अधिक संभावना को बढ़ावा देती है।

5. “अपनी हर छोटी-बड़ी परेशानी के लिए अपनी बहन से करती हूं संपर्क।”
अंकिता छेत्री- 21 वर्ष

अंकिता कहती है, “स्कूल में होमवर्क खत्म करने से लेकर कंप्लेन लेटर पर साइन करवाने तक, मेरी बहन ने हमेशा मेरी मदद की है। आज जब मैं कॉलेज में हूं, तो मेरी बड़ी बहन एक वकील की तरह मेरी हर इच्छा को पूरा करवाने के लिए घरवालों से अनुमति लेती है। ट्रिप पर जाना हो या कॉलेज फेस्ट में हिस्सा लेना, मेरी हर ताले की चाबी है मेरी बहन।”

अल्स्टर विश्वविद्यालय के एक अध्ययन में पाया गया कि एक बहन होने से सिबलिंग अधिक स्वतंत्र होते हैं और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए तैयार रहते हैं। यह विशेष रूप से टूटे हुए घरों में होता है जहां बहनें अपने माता-पिता की तुलना में एक-दूसरे पर भरोसा करने की अधिक संभावना रखती हैं। इससे आपस में एक सपोर्ट सिस्टम का निर्माण होता है।

यह भी पढ़ें: अगर आपका दोस्त या करीबी अपने ब्रेकअप फेज से गुजर रहा है, तो एक्सपर्ट से जानिए इस परिस्थिति के डूज और डोंट्स

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें