बर्नआउट से बचाकर, आपकी प्रोडक्टिविटी बढ़ा सकती है एक छोटी सी झपकी , जानिए इसके फायदे

थकान, उबासियां और फोकस का बिगड़ना किसी की भी परफॉर्मेंस खराब कर सकता है। पर क्या आप जानती हैं कि एक छोटी सी पावर नैप आपको इन सभी चीजों से बचा सकती है।

kam ke dauran bich bich me jhapaki lene se performance badhati hai
काम के दौरान झपकी आने से परफार्मेंस बेहतर होती है। चित्र : शटरस्टॉक
मिथिलेश कुमार पटेल Published on: 9 May 2022, 16:19 pm IST
  • 100

घर, ऑफिस और लोगों के बीच आप पहले की तरह अब कान्फिडेंट नहीं रहती। आपकी बॉस आपके परफार्मेंस से नाखुश रहती हैं। एक तरफ आप अपनी परफार्मेंस को लेकर परेशान हैं और दूसरी तरफ आपकी सेहत साथ नहीं दे रही। हमेशा चिंतित रहती हैं। जो भी करने की सोंचती हैं वो कर नहीं पाती हैं। शरीर में काफी थकावट बनी रहती है। आपकी भावनाएं कमजोर पड़ गई है, तो हो सकता है कि आप बर्नआउट की शिकार हों। काम के ओवर लोड और समय की कमी के कारण कोई भी बर्नआउट का शिकार हो सकता है। पर एक छोटी सी पावर नैप आपको इस समस्या से उबरने में मदद कर सकती है। आइए जानते हैं आपकी सेहत और प्रोडक्टिविटी के लिए कैसे फायदेमंद है पावर नैप (Power nap benefits)।

पहले समझिए क्या है बर्नआउट

बर्नआउट हमेशा चिंता में रहने, भावनात्मक रुप से कमजोर पड़ने और एक के बाद एक अपनी मांगों को पूरा कर पाने में असमर्थ होने के कारण शुरु होती है। इस समस्या की चपेट में आने के बाद हम भावनात्मक, शारीरिक और मानसिक थकान से जूझने लगते हैं।
दरअसल जैसे-जैसे तनाव बढ़ता है, इच्छाएं और कुछ कर गुजरने की प्रेरणाएं खत्म होने लगती हैं। जिसके चलते हम पहले की तरह परफार्मेंस नहीं दे पाते हैं। परफार्मेंस घटने के साथ-साथ खुद को काफी कमजोर समझने लगते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि हम खुद को नाकारा समझने लगते हैं। और इस स्थिति से बचना जरूरी है। कभी-कभी यह चिड़चिड़ेपन और गुस्से के साथ आता है।

यह भी पढ़ें :- आधी रात में नींद खुलने की समस्या है, तो 6 टिप्स फॉलो कर ले सकती हैं साउंड स्लीप

क्यों आपके लिए बर्नऑउट से बचना है जरूरी

जर्मनी के डॉर्टमुंड यूुनिवर्सिटी के डॉ. स्टीफ़न डायस्टेल ने एक स्टडी में पाया कि जिन लोगों को बर्नआउट की समस्या है, उनमें तनाव संबंधी बीमारीयों के होने का खतरा बाकियों की अपेक्षा 50 फीसदी अधिक देखा गया है। यह तनाव न केवल आपकी प्रोडक्टिविटी, बल्कि रिलेशनशिप को भी प्रभावित करता है। इसलिए यह जरूरी है कि आप समय रहते इससे बचें।

क्या पावर नैप बर्नआउट से बचा सकती है?

जी हां ये सच है, दिन के समय एक छोटी सी पावर नैप आपको बर्नऑउट की समस्या से निजात दिला सकती है। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के शोध में यह सामने आया है कि एक छोटी सी झपकी (power nap) आपको बर्नआउअ से बचा सकती है।
दरअसल हर रोज लगातार एक ही काम में व्यस्त रहने से हमारे दिमाग के कुछ हिस्से में थकान होने लगती है। ऐसे में झपकी हमारे दिमाग को विराम देती है। ऐसा होने के बाद दोबारा हमारा दिमाग अपनी क्षमताओं को हासिल कर लेता है। हार्वर्ड की स्टडी बताती है कि झपकी आने के बाद दिमाग की खोई क्षमता वापस आ जाती है। और इससे हमारी परफार्मेंस बढ़ जाती है। साथ ही मूड भी बूस्ट होता है।

यह भी पढ़ें :- आपके ब्रेन के लिए सुपरफूड है चुकंदर, मेमोरी बढ़ाने के साथ अवसाद को भी करता है कंट्रोल

पॉवर नैप कैसे काम करती है

थोड़े समय की नींद या झपकी आने पर कॉगनिटीव परफार्मेंस बेहतर हो जाती है। जिस किसी को यह आती है, उसकी मनोदशा बाकियों की तुलना में अच्छी होती है। काम के दौरान झपकी आना अच्छी बात है और इससे हमारे सीखने और याद रखने की क्षमता पर पॉजिटिव असर पड़ता है।

कितनी लंबी हो पावर नैप

वहीं अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने भी एक स्टडी में पाया है कि जो पायलट कॉकपिट पर बैठकर एयरक्राफ्ट ड्राइविंग के दौरान 26 मिनट के लिए झपकी लेते हैं उनके अंदर झपकी न लेने वाले पायलट की तुलना में 54 फीसदी अधिक सतर्कता (naps improve alertness) देखी गई। झपकी लेने वाले इन पायलटों की जॉब परफार्मेंस में भी 34 फीसदी सुधार (naps improve job performance) देखा गया। 26 मिनट की झपकी काफी लंबी है। वैसे इससे कम समय की झपकी लेने के बाद नींद अचानक खुलें और दिमाग पूरी क्षमता से काम करने के लिए तैयार हो जाए तो ऐसी झपकी भी अच्छी है।

यह भी पढ़ें :- सुपरफूड है तरबूज, पर क्या आप जानती हैं इसे खाने का सही समय और तरीका?

नासा की सिफारिश है कि 10 से 20 मिनट की झपकी काफी कारगर है। सोते समय आप बिना किसी घबराहट बेचैनी के लंबी नींद लेते हैं, तो उससे भी आपको कई फायदे होते हैं। झपकी लेने से हमारी यादाश्त को बढ़ावा मिलता है, परफार्मेंस में सुधार होता है। दिमाग बेहतर ढंग से काम करती है और शरीर के तनाव में कमी होती है।

sone ke kayi fayde hain
अच्छी नींद लेने से सेहत बेहतर होती है। चित्र : शटरस्टॉक

यह भी जानें

नेशनल स्लीप फाउंडेशन के अनुसार भरपूर नींद से दिमाग की कोशिकाओं, मांसपेशियों और शरीर के अंगों को विराम मिलता है और इससे हमारे शरीर के तनाव में कमी व मनोदशा में सुधार होती है। अच्छी नींद लेने से हमारी सतर्कता, रचनात्मकता और सेहत से जुड़े बाकी अहम पहलुओं में सुधार होती है।

यह भी पढ़ें :- ब्रेन को पॉज़िटिव बनाना है, तो उसे इन 5 तरीकों से करें ट्रेन

  • 100
लेखक के बारे में
मिथिलेश कुमार पटेल मिथिलेश कुमार पटेल

भारतीय जनसंचार संस्थान, नई दिल्ली से पत्रकारिता में डिप्लोमा कर चुके मिथिलेश कुमार सेहत, विज्ञान और तकनीक पर लिखने का अभ्यास कर रहे हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
nextstory