इन 5 पोषक तत्वों की कमी बन सकती है डिप्रेशन और एंग्जाइटी का कारण

शोध बताते हैं कि विटामिन डी और बी 12 की कमी आपको चिड़चिड़ा और उदास बना सकती है। जानना चाहती हैं कैसे, तो इसे अंत तक पढ़ें।
एंटी डिप्रेसेंट भी है स्टार चक्र चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 9 August 2022, 15:36 pm IST
ऐप खोलें

दोस्तों से मिलना, योगा, मेडिटेशन और आउटिंग भी जब आपके मूड को लिफ्ट न कर पा रही हो, तो जरूरी है कि आप अपने डेली डाइट को चेक करें। हो सकता है आपके आहार में कुछ पोषक तत्वों की कमी आपको चिड़चिड़ा, गुस्सैल और उदास बना रही हो। जी हां, वैज्ञानिक मानते हैं कि शरीर में विटामिन डी और बी 12 की कमी तनाव, एंग्जाइटी और अवसाद जैसे जोखिमों का कारण बन सकती है। आइए जानते हैं आपके मूड, ब्रेन हेल्थ और पोषक तत्वों का कनेक्शन।

यदि आप अवसाद, एंग्जइटी, या दोनों से ग्रसित हैं, तो आपको बताया गया होगा कि आपके मूड को प्रबंधित करने का एकमात्र तरीका दवाई लेना है। वाकई में एंटीडिप्रेसेंट और एंटी-एंग्जाइटी पिल्स प्रभावी होती हैं। मगर, लंबे समय तक, इन दवाओं के खतरनाक साइड एफेक्ट्स हो सकते हैं। एंटीडिप्रेसेंट दवाएं आपके मानसिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं के मूल कारण को भी कवर कर सकती हैं। वे आपको यह जानने से रोक सकते हैं कि आपके शरीर को आपके मूड और ऊर्जा को संतुलित करने के लिए वास्तव में क्या चाहिए।

मगर क्या आप यह जानती हैं कि मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए पोषक तत्व, विटामिन और खनिज भी उतने ही महत्वपूर्ण हैं? इतना ही नहीं, जब ये चीजें संतुलन से बाहर हो जाती हैं, तो अवसाद, चिंता और थकान जैसे लक्षण आप पर हावी होने लगते हैं। यदि आपका मानसिक स्वास्थ्य सही नहीं है, तो आप इन समस्याओं से निपटने के लिए अपने आहार में ये पोषक तत्व शामिल कर सकती हैं।

चलिये जानते हैं उन पोषक तत्वों के बारे में जो आपको अवसाद और एंग्जाइटी से निपटने में मदद कर सकते हैं

1 ओमेगा -3 फैटी एसिड

ओमेगा -3 फैटी एसिड मस्तिष्क के कार्य, विशेष रूप से स्मृति और मनोदशा के लिए महत्वपूर्ण हैं। यदि आपका आहार ओमेगा -3 जैसे गुड फैट में कम है, तो आपका शरीर लो क्वालिटी नर्व सेल मेम्ब्रेन बनाएगा। सैल्मन और टूना जैसी मछली ओमेगा -3 फैटी एसिड के महान स्रोत हैं। ये स्वस्थ वसा अलसी और अखरोट में भी पाए जा सकते हैं।

2 विटामिन डी

विटामिन डी एड्रेनालाईन, नॉरएड्रेनालाईन और डोपामाइन के उत्पादन को नियंत्रित करता है, और हार्मोनल संतुलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन डी की कमी एक सक्रिय मनोदशा विकार से जुड़ी हुई है। अपने आहार को विटामिन डी से भरपूर बनाने के लिए अंडे, वसायुक्त मछली और मशरूम जैसे प्राकृतिक स्रोतों और दूध, आटा, चावल, पनीर और जई जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

विटामिन और जिंक से भरपूर भोजन लेने से मेंटल हेल्थ स्ट्रॉन्ग होती है।चित्र: शटरस्टॉक

3 आयरन

आयरन आपके लाल रक्त कोशिकाओं को आपके मस्तिष्क, अंगों और आपके शरीर के हर छोटे कोने में ऑक्सीजन ले जाने में मदद करता है। आपके मस्तिष्क और आपके तंत्रिका तंत्र का स्वास्थ्य स्वस्थ आयरन के स्तर पर निर्भर करता है। आयरन के निम्न स्तर के परिणामस्वरूप आपकी कोशिकाओं में कम ऑक्सीजन जा सकती है। आयरन की कमी से अवसाद, थकान, कम ऊर्जा, कमजोरी और चिड़चिड़ापन सहित कई लक्षण हो सकते हैं। इसलिए अपने आहर में आयरन युक्त खाद्य पदार्थ शामिल करें।

4 जिंक

जिंक, एक अन्य आवश्यक खनिज जो मस्तिष्क और शरीर की तनाव के प्रति प्रतिक्रिया को नियंत्रित करता है। मस्तिष्कमें सबसे अधिक मात्रा में जिंक पाया जाता है। यह न केवल आपके केंद्रीय और परिधीय तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करने के लिए जिम्मेदार है, बल्कि न्यूरोट्रांसमीटर, एंजाइमेटिक और हार्मोनल प्रक्रियाओं के लिए भी आवश्यक है। जिंक की कमी से चिंता, सिज़ोफ्रेनिया और खाने के विकार होते हैं। जिंक के समृद्ध स्रोतों में मांस, मुर्गी पालन, सीप, पालक, कद्दू के बीज, किशमिश और डार्क चॉकलेट शामिल हैं।

5 मैगनीशियम

अवसाद के साथ मैग्नीशियम के स्तर का संबंध है। मैग्नीशियम की कमी को कई मानसिक सिंड्रोम जैसे चिड़चिड़ापन, भ्रम, अस्टेनिया, नींद न आना, सिरदर्द, मतिभ्रम और अतिउत्तेजना की घटना को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। इसलिए, मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थ जैसे कद्दू के बीज, बादाम, मूंगफली को अपने दैनिक आहार में शामिल करना चाहिए।

यह भी पढ़ें : इस त्योहार घर के बने हेल्दी कलाकंद से कराएं सबका मुंह मीठा, नोट कीजिए रेसिपी

लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
Next Story