औरों से वाकई अलग होते हैं जीनियस माइंड, हम बता रहे हैं उनकी खासियत

Published on: 23 July 2022, 17:30 pm IST

एक ही माहाैल, एक ही क्लास या एक से अनुभवों से गुजरने वाले दो लोग अलग-अलग तरह से रिएक्ट करते हैं। ऐसा उनके माइंड के कारण होता है।

Genius mind
औरों से वाकई अलग होते हैं जीनियस माइंड। चित्र शटरस्टॉक।

आजकल के ज्यादातर लोग मोबाइल फोन और इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स में उलझे रहते हैं। जिसके कारण उनका दिमाग अपनी क्रिएटिविटी को खोता जा रहा है। ऐसे में अभी भी कुछ जीनियस माइंडेड लोग बचे हैं, जो कि सामान्य लोगों की तुलना में थोड़े अलग होते हैं। ऐसे व्यक्ति के सोचने- समझने का तरीका सामान्य व्यक्ति की तुलना में अलग होता है। चलिए जानते है किस तरह अलग होते है जीनियस माइंड (Genius mind) के लोग।

क्या वाकई जीनियस माइंड जैसा कुछ होता है?

जीनियस शब्द एक्स्ट्राऑर्डिनरी इंटेलेक्चुअल और क्रिएटिव लोगों के लिए प्रयोग किया जाता है। ऐसे लोगों की इमेजिनेशन काफी ज्यादा क्रिएटिव होती है और यह किसी भी चीज को ज्यादा प्रभावी तरीके से सोचते हैं।

जीनियस माइंडेड होने का कोई व्यक्तिगत कारण नहीं होता, यह जेनेटिकल भी हो सकता है। यदि सामान्य लोगों की तुलना जीनियस व्यक्ति से की जाए, तो दोनों में काफी ज्यादा अंतर देखने को मिलेगा।

जानिए किस तरह जीनियस माइंड के लोग दूसरों से अलग होते हैं

1. वे बहुत गहराई से सोचते हैं

जीनियस माइंड हमेशा चलता रहता है। यह न केवल सोच में डूबे रहते हैं, बल्कि इनकी प्रॉब्लम सॉल्विंग पावर भी अन्य लोगों की तुलना में काफी ज्यादा प्रोडक्टिव होती है। वहीं यह गहराई से सोच कर किसी भी समस्या को बेहतर तरीके से हैंडल कर सकते हैं। इसके साथ ही उस समस्या का कस्टमाइज सॉल्यूशन भी निकाल लेते हैं।

genius mind
गहराई से सोचते है जीनियस व्यक्ति। चित्र : शटरस्टॉक

2. अन्य लोगों की तुलना में कम सोते हैं

कई रिसर्च में यह भी देखा गया कि जीनियस माइंडेड लोग अन्य लोगों की तुलना में रात को कम सोते हैं क्योंकि उनके लिए उनका काम ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। इसके साथ ही यह किसी भी काम को लेकर बहुत ज्यादा गंभीरता से सोचते हैं। जिस वजह से रात को जग कर दिमाग में चल रही थी जो को लेकर आईडिएशन और कंटेंपलेशन करते हैं। वहीं सामान्य लोग ऐसा करने में परेशानी महसूस करते हैं।

3. इनमें सेल्फ कंट्रोल बहुत ज्यादा होता है

साइंटिफिक डाटा के अनुसार सेल्फ कंट्रोल और इंटेलिजेंस के बीच एक लिंक जुड़ा होता है। ज्यादातर इंटेलिजेंट लोग जल्दबाजी में किसी तरह का फैसला नहीं लेते। वह कुछ भी शुरू करने से पहले प्लानिंग और स्ट्रेटेजी तैयार करते हैं। जीनीयस माइंड चीजों को सोचने समझने और एनालाइज करने के बाद ही किसी प्रकार का निर्णय लेते हैं। इसीलिए सामान्य लोगों की तुलना में इंटेलिजेंट लोगों के फेलियर की संभावना भी बहुत कम होती है।

genius mind
खुद के साथ वक्त बिताना चाहते हैं जीनियस व्यक्ति। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. खुद के साथ वक्त बिताना चाहते हैं

जीनियस लोग ज्यादा से ज्यादा समय खुद के साथ बिताना पसंद करते हैं। वहीं समान्य लोग अकेले समय बिताने में हिचकिचाते हैं। जीनियस माइंडेड व्यक्ति अपने दिमाग में हमेशा कुछ न कुछ सोचता रहता हैं, इस वजह से यह लोगों की कंपनी से सैटिस्फाइड नहीं रहते। इन्हें लोगों के साथ रहना डिस्ट्रेक्शन लगता है।

5. नॉलेज का भंडार हो सकते हैं

जीनियस माइंडेड लोगो की ज्ञान की बात की जाए, तो इनके पास हर क्षेत्र से जुड़ा उचित ज्ञान जरूर होता है। सोने जाने से लेकर सुबह आंख खुलते के साथ यह अपने दिमाग में कुछ न कुछ नया सोचना शुरु कर देते हैं। बाद में फिर उसके बारे में जानने की क्यूरोसिटी में नई नई चीजों को एक्सप्लोर करते रहते हैं। वहीं सामान्य लोग जितना जरूरत हो उतना ही ज्ञान प्राप्त कर पाते है।

यह भी पढ़ें : 5 अच्छे कारण, जो साबित करते हैं कि जल्दी उठना है आपके लिए ज्यादा फायदेमंद

अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें