इमोशनल स्ट्रेस भी पहुंचा सकता है आपके ह्रदय स्वास्थ्य को नुकसान, यहां जानिए कैसे

इमोशनल स्ट्रेस बन सकता है हार्ट हेल्थ इशूज़, चित्र: शटरस्टॉक
शालिनी पाण्डेय Updated on: 8 September 2022, 14:47 pm IST
  • 111

जब आप किसी मानसिक स्वास्थ्य समस्या के साथ जी रहे हों, तब स्वयं की देखभाल करना कठिन हो सकता है। स्ट्रेस इटिंग, डिप्रेशन, एंज़ाइटी जैसी दिक्कतों के कारण आपको दिल से जुड़ी बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है।

एक स्वस्थ जीवन शैली की दिशा में छोटे कदम उठाकर आप अपने समग्र स्वास्थ्य में सुधार कर सकते हैं और बेहतर महसूस कर सकते हैं। चलिए जानें क्या है आपकी  मानसिक स्थिति और हार्ट हेल्थ का कनेक्शन (emotional stress and heart attack) और किस तरह इमोशनल स्ट्रेस आपके हार्ट हेल्थ पर प्रभाव डाल सकती है।

मानसिक स्वास्थ्य समस्या या स्थिति क्या है?

हर कोई अपने जीवन में कभी न कभी कठिन या चुनौतीपूर्ण समय से गुजरता है, इसलिए कभी-कभी चिंतित होना सामान्य है। लेकिन अगर ये भावनाएं दूर नहीं होती हैं और आपके दैनिक जीवन को प्रभावित करती रहती हैं, तो यह एक मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्या हो सकती है।

2017 में एनसीबीआई के एक शोध के अनुसार लगभग चार में से एक व्यक्ति अपने जीवनकाल में मानसिक स्वास्थ्य समस्या का अनुभव करते हैं। कुछ कॉमन मेंटल हेल्थ इशूज़ हैं: 

अवसाद (Depression)– एक लंबे समय तक चलने वाला मनोदशा विकार है

चिंता विकार (Anxiety)– ऐसा विकार जिसमें सामाजिक चिंता विकार, भय और तनाव विकार (PTSD) है 

मूड स्विंग्स (mood swings)- जिसे उन्मत्त अवसाद कहा जाता था, जो हद से ज़्यादा अप्रत्याशित मूड परिवर्तन का कारण बनता है

क्यों आती है यह स्थिति

डॉक्टर खेर इस बारे में बात करते हुए कहते हैं कि इमोशनल स्ट्रेस, ब्रोकन हार्ट सिंड्रोम, जिसे स्ट्रेस कार्डियोमायोपैथी के रूप में भी जाना जाता है, तब होता है जब कोई व्यक्ति अचानक बहुत ज़्यादा तनाव का अनुभव करता है जो हृदय की मांसपेशियों को तेजी से कमजोर कर सकता है।

मेंटल हेल्थ इशूज़ का हार्ट हेल्थ कनेक्शन (emotional stress and heart attack)

डॉक्टर फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट गुरूग्राम के कार्डियोलॉजी डिपार्टमेंट के चेयरमैन, टी.एस खेर कहते हैं कि यदि आपको मेंटल हेल्थ इशूज़ हैं तो आपको हृदय संबंधी बीमारियों के विकसित होने का आपको अधिक खतरा है। आप इस जोखिम को कम करने और अपने सामान्य स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए अपनी दिनचर्या में कई स्वस्थ परिवर्तन कर सकते हैं। 

धूम्रपान छोड़ें
स्वस्थ वजन रखें
शारीरिक रूप से सक्रिय रहें

CBD-linked-heart-attack
हृदय संबंधी समस्याओं को बढ़ा सकता है इमोशनल ब्रेकडाउन। चित्र: शटरस्टॉक


स्वस्थ संतुलित आहार लें
उच्च रक्तचाप का प्रबंधन करें
मधुमेह का प्रबंधन करें
उच्च कोलेस्ट्रॉल का प्रबंधन करें
शराब में कटौती

कैसे निपटें मेंटल इशूज़ के कारण होने वाले हार्ट इशूज़ से 

डॉक्टर खेर के अनुसार यदि आपकी मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति गड़बड़ है तो खुद की देखभाल करना आपको कभी-कभी भारी लग सकता है, लेकिन एक स्वस्थ जीवन शैली की दिशा में कदम उठाने से आपके शरीर और दिमाग दोनों को हेल्दी रहने में मदद मिलेगी। 

1 फिजिकली एक्टिव रहें 

शारीरिक गतिविधि आपके मानसिक स्वास्थ्य कोबेहतर रख सकती है। यह आपके मस्तिष्क में ऐसे रसायनों को पैदा कर सकती है जो कुछ हद तक एंटीडिपेंटेंट्स की तरह काम करते हैं और चिंता या अवसाद को कम करने में मदद कर सकते हैं। यह आपको ध्यान केंद्रित करने में मदद करेगा और अपने बारे में बेहतर महसूस करने में भी मदद करेगा।

हर दिन सक्रिय (active) रहने की कोशिश करें। हर मिनट मायने रखता है! सक्रिय रहने से आपको बेहतर नींद लेने, इससे निपटने में मदद मिल सकती है, आपकी ऊर्जा का स्तर बढ़ सकता है और आपको एक व्यवस्थित दिनचर्या मिल सकती है। 

स्वस्थ संतुलित आहार लें

अपने पूरे शरीर को अच्छी तरह से काम करने के लिए स्वस्थ और संतुलित आहार लेना महत्वपूर्ण है। आपकी मानसिक स्वास्थ्य स्थिति भोजन के बारे में आपके महसूस करने के तरीके को बदल सकती है।

Periods ke dauran healthy khaye
हेल्दी लाइफस्टाइल से रखें दिल और मानसिक स्वास्थ्य दोनों का ख्याल। चित्र: शटरस्टॉक

कुछ दवाएं आपकी भूख को बढ़ा या घटा सकती हैं। यदि आप चिंतित हैं कि आप जो दवा ले रहे हैं वह आपके वजन को प्रभावित कर रही है, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

2 धूम्रपान छोड़ने का करें प्रयास

यह एक आम धारणा है कि धूम्रपान आपको आराम करने में मदद करता है, हालांकि, धूम्रपान वास्तव में चिंता और तनाव को बढ़ाता है। धूम्रपान आपकी मानसिक स्वास्थ्य दवा को ठीक से काम करने से भी रोक सकता है। इसका मतलब है कि यदि आप धूम्रपान नहीं करते हैं तो आपको दवा की अधिक खुराक लेने की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए, जब आप धूम्रपान छोड़ देते हैं या धूम्रपान कम कर देते हैं, तो आपका डॉक्टर आपके द्वारा आमतौर पर ली जाने वाली खुराक को कम कर सकता है।

यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो यह जो अल्पकालिक लाभ देता है, वह धूम्रपान से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं जैसे फेफड़ों के कैंसर और हृदय और संचार संबंधी बीमारियों के विकास के आपके उच्च जोखिम से अधिक हो सकता है। धूम्रपान बंद करने से आपके स्वास्थ्य को बहुत लाभ होता है और धूम्रपान छोड़ने में कभी देर नहीं होती है।

3 शराब में कटौती

शराब एक डिप्रेसेंट है और आपके मूड को बहुत जल्दी बदल सकती है। आप बेहतर महसूस करने या अपनी मानसिक स्वास्थ्य स्थिति के लक्षणों से निपटने में मदद करने के लिए पी सकते हैं, लेकिन यह आपकी स्थिति को और खराब कर सकता है। बहुत अधिक शराब पीने से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

शराब पीना आपकी भावनाओं की इंटेंसिटी को बढ़ा सकता है। यही कारण है कि बहुत से लोग शराब पीते समय विशेष रूप से क्रोधित, आक्रामक, चिंतित या दुखी हो जाते हैं।

कुछ खास प्रकार दवाएं लेते समय, आपको शराब नहीं पीनी चाहिए। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने डॉक्टर से इसकी जांच कराएं।

यह भी पढ़ें: टर्निंग 30? मिडल एज तनाव से मुक्त कर बरसों बरस खुश रहने में मदद करेंगे ये 11 नियम

  • 111
लेखक के बारे में
शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory