आपकी मेंटल हेल्थ और प्राेडक्टिविटी के लिए खतरनाक हो सकते हैं एरोगेंट लोग, जानिए उनसे कैसे बचना है

खुद को सही और दूसरों को गलत साबित करने वाले एरोगेंट लोगों की ये आदत इन्हें दूसरों से अलग थलग कर देती है। जानते हैं इनकी पहचान कैसे करें और किस प्रकार से इनसे दूरी बनाकर चलें।

Arrogant logon ko kaise pehchaanein
हर दम दूसरों को गलत और नीचा दिखाने वाले ये लोग खुद को स्पॉटलाइट में रखने के लिए आतुर रहते हैं। चित्र : एडॉबीस्टॉक
ज्योति सोही Published: 26 May 2023, 11:00 am IST
  • 141

हमारे आसपास बहुत से लोग ऐसे होते हैं, जो इस बात पर विश्वास करते हैं कि उनसे बेहतर इस दुनिया में कोई नहीं है। हरदम दूसरों को गलत और नीचा दिखाने वाले ये लोग खुद को स्पॉटलाइट (Spotlight) में रखने के लिए आतुर रहते हैं। दूसरों के इमोशंस को दरकिनार कर खुद के लिए सोचने वाले ऐसे लोग घमण्डी (arrogant people) कहलाते हैं। गर्दन तानकर चलने की इनकी आदत इन्हें दूसरों से अलग थलग कर देती है। जानते हैं इनकी पहचान कैसे करें और किस प्रकार से इनसे दूरी बनाकर चलें।

एरोगेंस (Arrogance) की शुरूआत कैसे होती है

इस बारे में राजकीय मेडिकल कालेज हलद्वानी में मनोवैज्ञानिक डॉ युवराज पंत बताते हैं कि हर व्यक्ति का मानसिक और सामाजिक विकास अपने आस पास के माहौल के हिसाब से होने लगता है। अगर आप किसी व्यक्ति को हर बात में सबसे बेहतर घोषित करने लगेंगे, तो वो धीरे धीरे एरोगेंट होने लगेगा। उसकी जिद्द को मानना और बात बात पर उसकी तारीफ करना। ये सभी चीजें किसी व्यक्ति के मांइड को प्रभावित करने लगती हैं। अब उसका दिमाग उसे इस बात के लिए तैयार करने लगता है कि तुम से बेहतर कोई भी व्यक्ति काम नहीं कर सकता है।

Arrogant logon ko kaise pehchanein
ईर्ष्यालु स्वभाव के ये लोग दिल के बुरे नहीं होते हैं। मगर इनकी सोच इन्हें अन्य लोगों के करीब आने से रोकती है। चित्र: शटरस्टॉक

कौन सी चीजें किसी व्यक्ति को घमण्डी या एरोगेंट बना सकती हैं (Causes of arrogancy)

ओवर प्रोटेक्शन
बात बात पर एपरीसिएशन
मनमानी करने से मना न करना
अच्छे और बुरे हर काम के लिए एनकरेज करना
हर काम में आपको आगे रखना

यहां हैं वे संकेत जिनसे आप एरोगेंट व्यक्तियों को पहचान सकते हैं

1. दूसरों से ईर्ष्या करना

दूसरों को आगे बढ़ते हुए देख ये लोग अंदर ही अंदर परेशान होने लगते हैं। किसी के प्रति किए गए काम को सिरे से नकारना और जलन करना ऐसे लोगों की पहचान है। ईर्ष्यालु स्वभाव के ये लोग दिल के बुरे नहीं होते हैं। मगर इनकी सोच इन्हें अन्य लोगों के करीब आने से रोकती है।

2. खुद की आलोचना न सुनना

ऐसे लोग अपने बारे में कटु शब्दों को नहीं सुन पाते हैं। वे खुद को अधिक प्रभावी और हर काम में बेहतर मानते हैं। वे दूसरों के सुझावों को प्राथमिकता नहीं देते हैं। अगर कोई व्यक्ति उनकी आलोचना करता है, तो वे उससे कुछ सीखने की जगह उस व्यक्ति का बायोकॉट करने में समय नहीं लगाते हैं।

3. सहानुभूति की कमी

इस तरह से लोग अन्य लोगों के प्रति प्रेम और समर्पण का भाव नहीं करते हैं। इन लोगों का मकसद केवल फायदे और नुकसान पर टिका होता है। ये दूसरों के भावों और विचारों को समझने में समय नहीं लगाते हैं। ऐसे लोग अधिकतर सेल्फ सेंटर्ड होते हैं। ये किसी के दर्द को समझना नहीं चाहते हैं।

Arrogant logon ki nishaaniyan
अगर कोई व्यक्ति उनकी आलोचना करता है, तो वे उससे कुछ सीखने की जगह उस व्यक्ति का बायोकॉट करने में समय नहीं लगाते हैं। चित्र : एडोबी स्टॉक

एरोगेंट लोगों को कैसे डील करें (how to deal with arrogant people)

1. ज्यादा बातचीत करने से बचें

एरागेंट लोग खुद को बेहतर और समझदार मानते हैं। ऐसे में अगर कोई और उन्हें किसी तरह की सलाह या राय देता है, तो वे उसे आसानी से नहीं मानते हैं। उनका मानना है कि लोग उनसे ज्यादा और बेहतर नहीं जानते हैं। ऐसे में इन लोगों से डील करने के लिए इनसे बहुत ज्यादा बातचीत करने से बचें।

2. सोच समझकर इनके साथ काम करें

अगर आप एरोगेंट व्यक्ति के साथ किसी प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं, तो कुछ लिमिटस को सेट ताकि, वो आपके अधिकार क्षेत्र में घुसकर काम करने से दूर रहे। इसके अलावा मिडिएटर का होना भी ज़रूरी है, जो दो लोगों के मध्य संतुलन को बनाए रखने का काम करें।

3. इनकी बातों को दिल पर न लें

ये लोग हर वक्त सामने वाले में गलतियां खोजते रहते हैं। इन्हें ये गलत फहमी हो जाती है कि इनसे बेहतर दुनिया में और लोग नहीं हो सकते हैं। अगर ये लोग काम के दौरान कमियां निकालते हैं यां आप पर चिल्लाते हैं या आपको किसी परैंक का हिस्सा बना देते हैं, तो इन्हें ग्रेसफुली डील करें। इनकी किसी बात को दिल पर लेकर रिएक्ट न करें।

ये भी पढ़ें- ये 5 चीजें धीरे-धीरे खोखली कर देती हैं आपकी हड्डियां, बाेन हेल्थ के लिए जरूरी है इनसे बचना

  • 141
लेखक के बारे में
ज्योति सोही ज्योति सोही

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें