आपकी मेंटल हेल्थ के लिए कमाल कर सकती है अरोमाथेरेपी, जानिए ये कैसे काम करती है

Published on: 30 June 2022, 20:49 pm IST

खुशबुएं न केवल आपको किसी चीज या व्यक्ति के प्रति आकर्षित करती हैं, बल्कि ये आपके मानसिक स्वास्थ्य पर भी सकारात्मक असर डालती हैं।

Aromatherapy ke fayde
मानसिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है अरोमाथेरेपी। चित्र शटरस्टॉक।

हजारों वर्षों से, मानव जाति ने औषधीय और सुगंधित गुणों के लिए जड़ी-बूटियों का उपयोग किया है। धार्मिक और सांस्कृतिक जीवन में भी खुशबुओं का अपना महत्व है। मंदिरों में या किसी आयोजन में धूप-अगरबत्ती और फूलों से सुगंध की जाती है। रोज़मर्रा के जीवन में, सुगंध, या अरोमाथेरेपी (benefits of aromatherapy for mental health) का उपयोग आपको रिलैक्स करता है और मूड को बेहतर बनाने में भी मदद करता है।

एसेंशियल ऑयल (सुगंधित पौधों के अर्क) का उपयोग हमारे नियमित जीवन में किया जा सकता है। ताकि हम विशेष पौधों के गुणों से लाभान्वित हो सकें। अरोमाथेरेपी (Aromatherapy) का उपयोग मानसिक स्वास्थ्य से संबंधित लक्षणों जैसे चिंता, तनाव, अवसाद और अनिद्रा के इलाज के लिए किया जा सकता है।

तनाव से संबंधित लक्षणों और अवसाद के लिए उपयोग किए जाने वाले तेलों के कुछ उदाहरण हैं बरगामोट, जेरेनियम, लैवेंडर, लेमन बाम, पेपरमिंट, गुलाब, चंदन और स्वीट लेमन। स्वीट आमंड ऑयल की सुगंध का उपयोग त्वचा पर मालिश के तेल और इंद्रियों को शांत करने के लिए किया जा सकता है। अरोमाथेरेपी एक व्यक्ति के स्वास्थ्य, मनोदशा और ऊर्जा को बेहतर बनाने के लिए एसेंशियल ऑयल और प्लांट बेस्ड सामग्री चिकित्सीय इस्तेमाल करती है।

पहले जानिए अरोमाथेरेपी क्या है?

अरोमाथेरेपी एसेंशियल ऑयल और अन्य सुगंधित पौधों की कम्पोजिशन का कंट्रोल्ड यूज़ है। इसके माध्यम से किसी व्यक्ति के शारीरिक, भावनात्मक, संज्ञानात्मक और मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने का काम किया जाता है। इन प्राकृतिक रूप से निकाले गए सुगंधित तेलों को आमतौर पर वाहक तेल या क्रीम से पतला किया जाता है और इन्हें स्किन पर लगाया जाता है। फिर त्वचा पर मालिश की जाती है।

इन तेलों की सुगंध सीधे भी ली जा सकती है। स्नान के गर्म पानी में एसेंशियल ऑयल को मिलाना, त्वचा पर लगाए जाने वाले तेल में मिला कर लगाना, या सुगंधित भाप लेना अरोमाथेरेपी के ही इस्तेमाल के तरीके हैं।

अपने विशेष लाभों के कारण अरोमाथेरेपी को एक प्रकार की वैकल्पिक चिकित्सा माना जा सकता है। अरोमाथेरेपी को कुछ प्रकार की मालिश चिकित्सा में इस्तेमाल करना भी काफी सामान्य है।

aroma oil benefits
दर्द निवारक अरोमा थेरेपी हो सकती है मददगार। चित्र शटरस्टॉक।

मानसिक स्वास्थ्य के लिए अरोमाथेरेपी

चिंता में कमी पर अरोमाथेरेपी के प्रभाव की जांच करने वाले कई अध्ययनों ने इस प्रकार के उपचार के सकारात्मक परिणामों की पुष्टि की है। 1990 और 2010 के बीच किए गए 16 परीक्षणों की समीक्षा में, शोधकर्ताओं ने बताया कि बिना किसी प्रतिकूल प्रभाव के अरोमाथेरेपी ने चिंता के लक्षणों को कम किया।

2000-2008 के अध्ययनों की समीक्षा में अवसाद से पीड़ित लोगों को दिए जाने वाले एसेंशियल ऑयल की प्रभावशीलता का पता लगाया गया। जिसमें पाया गया कि अवसाद के प्राथमिक या माध्यमिक लक्षणों के इलाज के लिए पूरक या वैकल्पिक चिकित्सा के रूप में अरोमाथेरेपी का कुछ लाभ हो सकता है।

वहीं कुछ अन्य प्रयोगों ने सुझाव दिया है कि अरोमाथेरेपी तनाव और तनाव से संबंधित स्थितियों को दूर करने में मदद कर सकती है। एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि लैवेंडर के तेल का उपयोग संज्ञानात्मक कार्य पर तीव्र तनाव के प्रभाव से राहत दिलाने में फायदेमंद हो सकता है।

इस बारे में ज़्यादा जानकारी के लिए हमने बात की दिल्ली की अरोमाथाई स्पा की अरोमा थेरेपी विशेषज्ञ शोभना महनसरिया से।

कैसे काम करती है अरोमाथेरेपी

थेरेपी विशेषज्ञ शोभना कहती हैं कि दो प्रमुख सिद्धांत हैं जो उस तंत्र को समझाने का प्रयास करते हैं जिसके द्वारा अरोमाथेरेपी काम करती है। पहले में एसेंशियल ऑयल को त्वचा के माध्यम से और दैहिक ऊतकों में अवशोषित किया जाता है। जब त्वचा में मालिश की जाती है, तो एसेंशियल ऑयल त्वचा के थर्मल रिसेप्टर्स को सक्रिय कर सकते हैं और कवक, बैक्टीरिया, वायरस और अन्य सूक्ष्मजीवों को नष्ट कर सकते हैं।

कुछ अध्ययनों के अनुसार एसेंशियल ऑयल में सूजन-रोधी प्रभाव होते हैं जो शरीर के रोग जैसे गठिया, जलन और मांसपेशियों में दर्द में भी राहत प्रदान करते हैं।

Backache ke liye faydemand hai aroma oil
अरोमा का तेल आपको मांसपेशियों के दर्द से राहत दिला सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

दूसरा सिद्धांत बताता है कि एसेंशियल ऑयल घ्राण तंत्रिका (सूंघने की शक्ति) को उत्तेजित करते हैं। गंध मस्तिष्क के लिम्बिक सिस्टम को संकेत भेजती हैं – जटिल तंत्रिका नेटवर्क (limbic system) जो यादों, भावनाओं और प्रवृत्ति से निकटता से जुड़ा होता है। माना जाता है कि यह उत्तेजना उन रसायनों की रिहाई को ट्रिगर करती है, जो रिलैक्सेशन या उत्तेजना की भावनाओं में योगदान करती है।

आपकी मेंटल हेल्थ के लिए इस तरह फायदेमंद है अरोमा थेरेपी

थेरेपी विशेषज्ञ शोभना के अनुसार अरोमाथेरेपी में इस्तेमाल होने वाले एसेंशियल ऑयल कई तरह से मानसिक प्रभाव डालते हैं। अरोमाथेरेपी में इस्तेमाल होने वाले एसेंशियल ऑयल व्यक्ति को रिलैक्स करती हैं:

1 चिंता और तनाव कम होता है

चिंता और तनाव के लिए अरोमाथेरेपी में शामक प्रभाव ( sedating effect) पड़ता है, जिससे शांति और तनाव से राहत मिलती है। इसमें लैवेंडर, नेरोली, स्वीट मार्जोरम और मैंडरिन जैसे एसेंशियल ऑयल मदद कर सकते हैं।

2 नींद की समस्या से निजात दिलाती है

अनिद्रा या अन्य नींद संबंधी विकारों के लिए अरोमाथेरेपी में लैवेंडर, कैमोमाइल, इलंग इलंग, चमेली, मार्जोरम और बर्गमोट एसेंशियल ऑयल उपचार में शामिल हो सकते हैं।

एक अच्छी नींद आपको जंक फूड की क्रेविंग से बचा सकती है। चित्र: शटरस्टॉ
एक अच्छी नींद के लिए आजमाए एरोमा ऑयल. चित्र:शटरस्टॉक।

3 अवसाद से बचाती है

एक अध्ययन जिसमें पाया गया कि अरोमाथेरेपी अवसाद के लक्षणों के उपचार में सहायक हो सकती है, ने बताया कि लैवेंडर, बरगामोट और युज़ू कुछ सबसे लोकप्रिय तेल हैं। अवसाद के शिकार लोगों के लिए चमेली और मेंहदी के एसेंशियल ऑयल भी मददगार साबित हो सकते हैं।

4 मनोभ्रंश में भी है कारगर

एक जापानी अध्ययन में पाया गया कि मनोभ्रंश , लैवेंडर, स्वीट लेमन और देवदार के तेल के साथ बुजुर्ग रोगियों में अनिद्रा के इलाज के लिए एसेंशियल ऑयल प्रभावी रहेगा।

5 एडीएचडी को कंट्रोल करती है

एसेंशियल ऑयल जो फोकस और मानसिक स्पष्टता में सुधार करने में मदद करते हैं, एडीएचडी के लक्षणों के लिए अरोमाथेरेपी का उपयोग करने में सहायक हो सकते हैं । वेटिवर, लैवेंडर, मेंहदी, नीलगिरी और लोबान के तेल में सतर्कता और ध्यान में सुधार करने के गुण पाए गए हैं।

6 मासिक धर्म और रजोनिवृत्ति के मुद्दे

मासिक धर्म संबंधी समस्याएं, जैसे कि पीएमएस और प्रीमेंस्ट्रुअल डिस्फोरिया (पीडीडी) और रजोनिवृत्ति से जुड़ी समस्याएं जैसे विभिन्न प्रकार के असहज शारीरिक, मनोदशा और मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े लक्षण पैदा कर सकती हैं। काली मिर्च, अंगूर, अदरक और जेरेनियम जैसे आवश्यक तेल मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : वेट लॉस करना हो या पानी हो ग्लोइंग स्किन, इन 5 तरीकों से करें व्हीटग्रास पाउडर का उपयोग

शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें