वैलनेस
स्टोर

टॉक्सिक पॉजिटिविटी! यह आपकी इमोशनल हेल्थ पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है

Published on:11 August 2021, 11:02am IST
सकारात्मक दृष्टिकोण विकसित करना महत्वपूर्ण है, लेकिन टॉक्सिक पॉजिटिविटी आपके भावनात्मक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकती है। जानिए यह क्या है और आपको इससे दूर रहने की जरूरत क्यों है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 84 Likes
toxic positivity se bachen
टॉक्सिक पॉजिटिविटी से बचकर रहें. चित्र : शटरस्टॉक

हम में से बहुत से लोग अपने दुख और समस्याओं को एक विश्वासपात्र व्यक्ति के साथ साझा करते हैं, और वे आक्सर यह कहते हैं कि – “आपके पास जो कुछ भी है उसके लिए भगवान् का धन्यवाद करें। सब ठीक हो जाएगा।”

जिस विश्वासपात्र या मित्र के साथ आप अपने दुख, परेशानियों को साझा कर रहे हैं, वह नहीं समझ रहा है जो आप बताने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसा व्यक्ति, वास्तव में, आपसे आग्रह करता है कि आप अपनी नकारात्मक भावनाओं को दूर करें, और किसी तरह चमत्कारिक रूप से उनसे पार पा लें। इस व्यवहार को टॉक्सिक पॉजिटिविटी कहा जाता है, और यह उस व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है, जो टॉक्सिक पॉजिटिविटी में लिप्त व्यक्ति के साथ अपनी भावनाओं और विचारों को साझा करने की कोशिश कर रहा है।

टॉक्सिक पॉजिटिविटी क्या है?

ऐसे व्यक्ति को या तो सब कुछ महसूस होता है या कुछ भी नहीं! वे अच्छा या बुरा महसूस कर सकते हैं मगर इन सब बातों को समझना और इतनी जटिल भावनाओं से पार पा लेना उनके लिए मुश्किल होता है।

टॉक्सिक पॉजिटिविटी चरम सीमा पर काम करती है कि केवल खुश या सकारात्मक भावनाएं ही स्वीकार्य हैं, और एक सकारात्मक दृष्टिकोण जीवन के सभी दुखों और परेशानियों को हल करने में मदद करेगा। इस तरह के व्यवहार में लिप्त व्यक्ति, निर्मित सकारात्मकता की झूठी भावना को लागू करके, दूसरे व्यक्ति की भावनाओं को समझ नहीं पाता है।

Toxic positivity se bachne ke tips
टॉक्सिक पॉजिटिविटी को कहें अलविदा, यह आपके लिए हानिकारक है । चित्र: शटरस्‍टॉक

वहीं पॉजिटिव अफर्मेशन मानसिक स्वास्थ्य और आत्म-सम्मान में सुधार के लिए सहायक मानी जाती है, लेकिन नकारात्मक भावनाओं को लगातार नकारना जीवन जीने का एक स्वस्थ तरीका नहीं है। जो लोग अपने दोस्तों और करीबी लोगों पर अपनी सकारात्मकता थोपते हैं, अंत में उन्हें अपने मुद्दों के साथ पूरी तरह से परिचित होने के अनुभव से वंचित कर देते हैं, और उन्हें बुरी या नकारात्मक भावनाओं को बोलने या सोचने के लिए हतोत्साहित करते हैं।

यहां बताया गया है कि कैसे टॉक्सिक पॉजिटिविटी भावनात्मक स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है

“मैं सिर्फ आपको प्रेरित करने की कोशिश कर रही हूं, यह कितना बुरा हो सकता है?”

यह उन लोगों में एक सामान्य भावना है जो टॉक्सिक पॉजिटिविटी के लक्षण प्रदर्शित करते हैं। ऐसा रवैया उन लोगों के भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, जो अपने मुद्दों के बारे में बात करना चाहते हैं:

भ्रम और अलगाव:

यह लगभग भ्रमित करने वाला है कि कैसे कुछ लोग दूसरों की भावनाओं और विचारों को अनदेखा करते हैं और उन्हें ‘अच्छा’, ‘बुरा’, ‘स्वीकार्य’ और ‘अस्वीकार्य’ के रूप में लेबल करते हैं। कल्पना कीजिए कि आप अपने घुटनों पर घाव के लिए डॉक्टर से मदद मांग रहे हैं, और अपना दर्द बताएं।

डॉक्टर, आपकी बात सुनने और मरहम देने के बजाय, आपको बताए कि घुटने के दर्द के बारे में बात करना ‘बुरा’ है, और सांस लेने के व्यायाम आपको बेहतर महसूस करने में कैसे मदद कर सकते हैं।

toxic positivity
टॉक्सिक पॉजिटिविटी का आपके स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। चित्र- शटरस्टॉक।

यह उस व्यक्ति से बात करते समय भ्रम, अमान्यता और अलगाव महसूस कर सकता है जो लगातार सकारात्मकता को सभी समस्याओं के अंतिम समाधान के रूप में पेश कर रहा है।

सेल्फ – जजमेंट :

अप्रिय भावनाओं, दु: ख, क्रोध और उदासी को दबाने की आवश्यकता वास्तव में उन लोगों के लिए अधिक हो सकती है, जो टॉक्सिक पॉजिटिविटी की धारणा पर विश्वास करते हैं। ऐसे लोग अंत में और भी बुरा महसूस कर सकते हैं, क्योंकि वे पहली बार में ‘बुरी’ भावना का अनुभव करने के लिए खुद का न्याय कर सकते हैं। वे एक व्यक्ति के रूप में उनकी कार्यक्षमता और सकारात्मकता पर सवाल उठाना भी शुरू कर सकते हैं।

यह नकारात्मक भावनाओं को जोड़ता है, जिससे व्यक्ति अपनी वास्तविक भावनात्मक स्थिति के बारे में खुद से झूठ बोलता है, जिससे उनका क्रोध और उदासी बढ़ जाती है।

यह भी पढ़ें : FREEDOM : ये उन चीजों को छोड़ने का समय है, जो आपकी नींद डिस्टर्ब करती हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।