मेंटल हेल्थ को दुरुस्त रखने के लिए जरूरी है भावनाओं को अभिव्यकत करना, यहां कुछ पॉजिटिव तरीके हैं

एक मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ का कहना है कि हमें अपनी फीलिंग्स के बारे में खुलकर बात करनी चाहिए और इन्हें छुपना नहीं चाहिए। फीलिंग्स बताने को लोग कमजोरी समझते हैं , लेकिन इन्हें मन में दबाकर रखना आपकी मानसिक स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है।

apni bhaavnaon n dabaen
अपनी भावनाओं को दबाना आपके मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। चित्र: शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 27 May 2022, 13:23 pm IST
  • 122

जैसे – जैसे हम बड़े होते हैं, हमारे आसपास हर कोई हमें सिखाता है कि ‘रोते नहीं हैं’ तुम वीक नहीं हो’, ‘तुम्हें मजबूत बनना पड़ेगा’। भले ही इन बातों के पीछे किसी की अच्छाई छुपी हो, लेकिन हम इन बातों को सुनकर बड़े हुए हैं। पर ज़रूरी नहीं है कि इनका प्रभाव हमेशा अच्छा ही हो।

किसी की फीलिंग्स को सिरे से नकार देने के कई दुष्परिणाम हो सकते हैं। ऐसे में उन भावनाओं का दमन होता है और इसका हानिकारक प्रभाव पड़ता है। जो कुछ भी लंबे समय तक दबाया जाता है वह हमारे अवचेतन में बैठ जाता है। जो अंततः हमारे व्यवहार में झलकता है। इसलिए, लोगों की और अपनी फीलिंग्स की कद्र करना ज़रूरी है।

भावनाएं क्यों महत्वपूर्ण हैं?

असल में भावनाएं चेतावनी संकेत के रूप में कार्य करती हैं। यह दर्शाती है कि हम किसी भी समय जीवन के माध्यम से कैसे प्रगति कर रहे हैं। जब हम किसी खास भावना का अनुभव करते हैं, तो इसका मतलब है कि हमारे मस्तिष्क ने अपने आसपास बदलाव महसूस किया है। यह उन चीजों को हमारे ध्यान में लाता है, जो हमें भावनाओं को दबाने पर जोर देती हैं।

अपनी भावनाओं को दबाना आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है। यह मानसिक बीमारियों को पैदा करने का कारण बन सकती हैं। इसलिए उन्हें व्यक्त करना शारीरिक और भावनात्मक कल्याण के लिए जरूरी है। मगर लोग ऐसा करने से डरते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि लोग हमारे बारे में क्या सोचेंगे।

आपको अपनी भावनाओं को छुपाना क्यों बंद करना चाहिए?

भावनाओं को दबाने या छिपाने से मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच सकता है। ऐसे में लोग गलत आदतें अपना लेते हैं जैसे ड्रग्स, शराब या सेक्स। कुछ लोग अपनी भावनाएं व्यक्त नहीं कर पाते हैं। जबकि कुछ को ऐसा करने से डर लगता है। मगर, ज़रूरी नहीं है कि लोगों को बताने से ही अपनी भावनाएं व्यक्त होती हैं, नहीं! इन्हें कई अन्य तरीकों से भी व्यक्त किया जा सकता है।

apni feelings ko n dabaen
अपनी फीलिंग्स को न दबाएं। चित्र: शटरस्‍टॉक

समझिए आप कैसे बेहतर तरीके से अपनी भावनाओं को व्यक्त कर सकती हैं

भावनाओं को कई तरह से व्यक्त किया जा सकता है – बात करना, व्यायाम करना, अपनी कला का प्रदर्शन करना – नृत्य, संगीत, या एक वाद्य बजाना आदि। बस ज़रूरी है कि आप खुद को व्यक्त करें, जिस तरह से भी आपको पसंद हो।

यह समझना महत्वपूर्ण है कि प्रत्येक व्यक्ति में खुद की मदद करने की क्षमता होती है। उन्हें केवल किसी ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता होती है, जो बिना जजमेंटल हुए उनकी बात सुन सकें। न कि उनकी समस्या को हल करने का प्रयास करे। इसलिए एक अच्छे श्रोता बनें।

apni feelin ke baare mein baat karein
अपनी भावनाओं के बारे में बात करना मुश्किल तो है, पर यह जरूरी भी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

आप भावनाओं को व्यक्त करने में किसी की मदद कैसे कर सकती हैं?

भावनाएं सही या गलत नहीं होतीं, बल्कि ये आपका अपना अनुभव हैं और इसे किसी भी आधार पर नकारा नही जा सकता। यह ज़रूरी नहीं है कि आप हर किसी की फीलिंग्स को समझ पाएं, लेकिन कम से कम उनकी कद्र करें।

काफी बार किसी की फीलिंग्स को सुनना काफी मुश्किल हो सकता है, यह बिल्कुल स्वाभाविक है। ऐसी स्थिति में, आलोचनात्मक होने के बजाय, हमें उन्हें किसी मेंटल हेल्थ प्रॉफेशनल के पास भेजना चाहिए।

हम में से बहुत से लोगों को यह मुश्किल लगता है जब कोई अपनी भावनाओं को व्यक्त करने की कोशिश कर रहा है, क्योंकि हम मानते हैं कि हमें उनकी समस्या को हल करना है, जो असहायता या दबाव की भावना लाता है। जबकि कई बार सिर्फ किसी की बात सुनना, उसकी मदद कर सकता है।

यह भी पढ़ें : बॉस से लगातार पड़ रही है डांट, तो जानिए आपको किन चीजों पर है ध्यान देने की जरूरत

  • 122
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory