वैलनेस
स्टोर

क्या वाकई ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ संबंध रखना आपके लिए अच्छा है, चलिए पता करते हैं

Updated on: 23 January 2021, 11:14am IST
अगर आप इससे सही तरीके से निपटती हैं, तो 'फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स' की स्थिति काफी आरामदायक हो सकती है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 98 Likes
एक परफेक्ट पार्टनर अपनी भावनाओं को कभी नहीं छुपाता है । चित्र: शटरस्‍टॉक

‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’- खैर, यह अपने समय की बहुत लोकप्रिय फिल्म थी, इसके चलते ‘मिला कुनिस’ और ‘जस्टिन टिम्बर्लेक’ तुरंत हमारे नए क्रश बन गए थे। दो लोग, एक जोड़े के रूप में या हमें कहना चाहिए ‘फ्रेंड्स’, जिसने हमें कपल गोल्‍स प्रदान किये हैं। हमें यकीन है कि आपने भी कभी ऐसा कुछ किया होगा।

लेकिन क्या आपको ऐसा लगता है कि वास्तव में यह काम कर सकता है? सच कहें तो हां, यह काम कर सकता है। दुनिया भर के मिलेनियल्स (millennials) और जेन्ज़ (GenZs) ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ को लेकर बहुत ही सकारात्‍मक हैं। इसकी सफलता पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करती है कि आप भावनात्मक, मानसिक और यौन रूप से किस तरह इसमें निवेश करते हैं।

इससे पहले कि हम आपको ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ के बारे में बताएं, आइए जानते हैं कि प्रसिद्ध मनोचिकित्सक डॉ. राहुल खेमानी का इस विषय पर क्या कहते हैं।

डॉ. खेमानी कहते हैं, ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ आमतौर पर एक विशेष रोमांटिक रिश्ते की प्रतिबद्धताओं के बिना, दोस्ती और शारीरिक अंतरंगता का एक एकीकरण है। लोकप्रिय मीडिया की धारणाओं के विपरीत, इनमें से अधिकांश पूर्ण, दीर्घकालिक, सार्थक संबंधों में परिवर्तित नहीं होते हैं।

अब सवाल यह उठता है कि लोग ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ का विकल्प क्यों चुनते हैं

जानिए लोग क्‍यों चुनते हैं इस तरह के संबंधों को। चित्र: शटरस्‍टाॅॅक
जानिए लोग क्‍यों चुनते हैं इस तरह के संबंधों को। चित्र: शटरस्‍टाॅॅक

इसके अनेक कारण हो सकते हैं जैसे:

1. वे प्रतिबद्धता फ़ोबिक (commitment phobic) हैं और जैसा कि इस स्थिति के लिए किसी प्रकार के वादे की आवश्यकता नहीं है।

2. वे किसी रेंडम व्‍यक्ति के बजाय एक दोस्त के साथ यौन संबंध में ज्‍यादा सहज महसूस करते हैं।

3. वे अब अपने दोस्तों से बहुत ज्‍यादा आत्‍मीय हो सकते हैं। यह मानसिक और भावनात्मक दोनों तरह से काम कर सकता है।

4. वे वह सब ड्रामा नहीं चाहते हैं, जो एक सामान्य रिश्ते में होता है। क्योंकि ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ किसी भी तरह से इसके साथ जुड़ा हुआ नहीं है।

5. दोस्त एक-दूसरे को जानते हैं, इसलिए एसटीआई (STIs) और एसटीडी (STDs) होने की संभावना कम है।

पर ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ की स्थिति को बुरा माना जाता है, क्या सच में ऐसा है?

अब, यह पूरी तरह से दोनों भागीदारों पर निर्भर करता है। आप देखते हैं कि ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ एक नियमित संबंध के विपरीत ऐसी स्थिति है, जिसमें कोई प्रश्न नहीं पूछा जाता है। इसकी बहुत अच्छी तरह से परिभाषित सीमाएं हैं।

विश्‍वास हर रिश्‍ते की नींव है। चित्र: शटरस्‍टॉक
विश्‍वास हर रिश्‍ते की नींव है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यदि आप नियमों में रहते हैं, तो आप पूरी तरह से एक होने का आनंद ले सकते हैं, लेकिन यदि आप आगे बढ़ते हैं, तो यह आपके लिए एक भावनात्मक उथल-पुथल का कारण बन सकता है। ठीक वैसे ही, जैसा कि फिल्म में मिला कुनिस के किरदार जेमी में दर्शाया गया है।

अगर ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ की स्थिति में बॉन्डिंग अच्छी है, तो यह संभावना है कि एक या दोनों प्रतिभागी इसे गहन, प्रतिबद्ध रोमांस में अपग्रेड करना चाहेंगे।

डॉ. खेमानी बताते हैं, जब केवल एक साथी को दूसरे के साथ प्यार हो जाता है, तो एक बड़ी कठिनाई पैदा हो सकती है। ऐसे मामले में, यह व्यक्ति ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ की सीमाओं को पार कर सकता है और एक प्रेमी की तरह व्यवहार करना शुरू कर सकता है। पारस्परिकता की कमी तब दर्दनाक और विनाशकारी हो सकती है।

‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ की स्थिति होने पर अजीब क्षणों से बचने के लिए यहां कुछ नियम दिए गए हैं:

अपने और अपने दोस्त के बीच चीजें स्पष्ट रखें। उन्हें बताएं कि आप इस रिश्ते में क्या देख रहे हैं। किसी भी अन्य रिश्ते की तरह, संचार एक स्वस्थ रिश्ते की कुंजी है।

एक-दूसरे की भावनाओं का जवाब दें और उन्हें समझने की कोशिश करें।

एक-दूसरे के निजी स्थान का सम्मान करें और जब तक कि दूसरा व्यक्ति सहज न हो, तब तक चढ़ाई करने की कोशिश न करें।

उम्मीद करना शुरू न करें।

पिछले शोध से पता चला है कि संचार एक स्वस्थ ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ (FWB) संबंध को बनाए रखने की कुंजी है। डा. खेमानी के अनुसार, वास्तविकता काफी अलग है; जैसा कि हम जानते हैं कि संचार काफी दुर्लभ है।

रोमांस बनाए रखने के लिए दोस्‍ती होना बहुत जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
रोमांस बनाए रखने के लिए दोस्‍ती होना बहुत जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जब दोनों प्रतिभागी एक ही स्‍तर पर होते हैं, तो ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ संबंध (FWBRs) सुचारू रूप से चलता है। मगर ज्‍यादातर लोगों के पास वार्तालाप के ये साधन नहीं होते, क्योंकि वे थोड़े अजीब होते हैं।

तो अब गेंद आपके पाले में है, यह आप पर निर्भर है कि आप ‘फ्रेंड्स विद बेनेफिट्स’ संबंध में रहना चाहते हैं या नहीं।

यह भी पढ़ेें – क्या आपका पार्टनर भी आपसे झूठ बोल रहा है? बिना ड्रामा किए जानिए कैसे पकड़ना है उनका झूठ

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।