महिलाओं को बांझपन का दोष देना बंद करें! यह उनके मानसिक स्वास्थ्य के लिए है हानिकारक

Published on: 14 March 2022, 16:30 pm IST

बांझपन अक्सर एक मूक संघर्ष होता है, खासकर महिलाओं के लिए! कई बार ये उन्हें गंभीर अवसाद में भी धकेल देता है। इसलिए जरूरी है कि उन पर इसका बोझ न डालें।

umr prajanan kshmta ko prabhavit karti hai
उम्र प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती है। चित्र:शटरस्टॉक

बांझपन से निपटना पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए वास्तव में निराशाजनक हो सकता है। बांझपन के कारण मेंटल-इमोशनल स्ट्रेस एक कपल के मानसिक स्वास्थ्य पर भारी पड़ सकता है। अक्सर महिलाओं को गर्भ धारण करने में असमर्थता के बारे में अपमानजनक टिप्पणियों का सामना करना पड़ता है। लोग अक्सर पूछते हैं कि क्या उनके शरीर में कुछ गड़बड़ है या उन्हें इलाज की जरूरत है, और इससे महिला परेशान हो सकती है। यह अनुचित लग सकता है, लेकिन पुरुषों की तुलना में महिलाओं को बांझपन के मुद्दों के लिए दोषी ठहराया जाता है।

हेल्थशॉट्स ने इस सामाजिक वास्तविकता पर चर्चा करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर नोवा आईवीएफ फर्टिलिटी, पूर्वी भारत के चिकित्सा निदेशक डॉ रोहित गुटगुटिया से संपर्क किया और जाना कि यह कैसे महिलाओं के मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है।

डॉ गुटगुटिया कहते हैं, “यद्यपि पुरुष और महिला दोनों प्रजनन समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं। दुर्भाग्य से, अकसर इसके लिए महिला को दोषी ठहराया जाता है। इन्फोडेमिक के समय में भी हमारे देश में बांझपन के बारे में बहुत सारी गलत जानकारियां हैं। प्रजनन समस्याओं से पीड़ित महिलाओं की भावनात्मक स्वास्थ्य पर इसका गंभीर प्रभाव पड़ सकता है।”

बांझपन क्या है?

यह एक ऐसी स्थिति है जब कोई दंपत्ति बिना किसी गर्भनिरोधक के कम से कम एक वर्ष तक गर्भ धारण करने की कोशिश करने के बाद भी बच्चे पैदा करने में असमर्थ होता है। यह चिकित्सकीय और वैज्ञानिक रूप से सिद्ध है कि बांझपन का मूल कारण पुरुषों और महिलाओं दोनों में खोजा जा सकता है।

वास्तव में, बांझपन के लगभग एक-तिहाई मामलों के लिए पुरुषों को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, एक तिहाई महिलाओं को, और दूसरा एक-तिहाई दोनों के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।

Infertility aurat k eliye mentally exhausting hota hai बांझपन एक महिला के लिए भावनात्मक रूप से भारी हो सकता है। चित्र:शटरस्टॉक

लेकिन समाज बड़े पैमाने पर महिलाओं को दोषी मानता है। खासकर उन क्षेत्रों में जहां शिक्षा की कमी है। बच्चे पैदा न करने के कारण महिलाओं को बहिष्कृत कर दिया जाता है। तब चीजें और मुश्किल हो जाती हैं जब पुरुष साथी प्रजनन संबंधी मुद्दों के परीक्षण के लिए अनिच्छुक हो। क्योंकि उन्हें लगता है कि उनकी मर्दानगी पर सवाल उठाया जा रहा है।

पुरुष कारक बांझपन गर्भ धारण करने में असमर्थता का एक प्रमुख कारण है। उनमें स्पर्म की संख्या कम हो सकती है या स्पर्म की खराब एक्टिविटी या असामान्य शेप हो सकता है। लेकिन सामाजिक कलंक के कारण, पुरुष बांझपन का अक्सर निदान नहीं किया जाता है।

पुरुष और महिला दोनों को करना पड़ सकता है बांझपन का सामना

इस मुद्दे के बारे में जागरूकता की एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है और इसकी शुरुआत जमीनी स्तर से होनी चाहिए। एक महिला के जीवन में लोग – चाहे वह माता-पिता, पति या पत्नी, ससुराल वाले, दोस्त, सहकर्मी, नियोक्ता आदि हों, उन्हें प्रजनन समस्याओं के बारे में शिक्षित करने की आवश्यकता है। अवैज्ञानिक और गलत मान्यताओं को चुनौती देने की जरूरत है। ताकि महिलाओं को कलंक से पीड़ित न होना पड़े और पारिवारिक एवं सामाजिक संपर्क होने पर उन्हें अनावश्यक शर्म और अपराधबोध महसूस न हो।

इसके लिए आप क्या कर सकते हैं?

डॉ गुटगुटिया सुझाव देते हैं, “फर्टिलिटी अवेयरनेस कैंप, सामुदायिक बैठकें आयोजित करके और मुख्यधारा के मीडिया में इस मुद्दे को उजागर करके जागरूकता पैदा की जा सकती है। इस तरह इस मुद्दे पर बातचीत शुरू होती है। जब भी कोई दंपत्ति प्रजनन संबंधी समस्याओं का सामना कर रहा हो, तो पुरुष और महिला साथी दोनों का परीक्षण किया जाना चाहिए। प्रियजनों को सहायक और सहानुभूति रखने की आवश्यकता है। समझदारी से भावनात्मक सहारा देना बहुत मददगार होगा।

Apne partner se kare dil ki baat अपने पार्टनर से करें दिल की बात। चित्र: शटरस्टॉक

क्या बांझपन के प्रति धारणा बदल रही है?

यह देखना उत्साहजनक है कि इस दिशा में थोड़ा सुधार हुआ है। महिलाएं बांझपन के अपने संघर्षों के बारे में बोलने के साथ, जानकारी आम जनता तक पहुंच रही है। लेकिन हमें अभी भी एक लंबा रास्ता तय करना है। इस मुद्दे के बारे में सरकारी संगठनों, प्रजनन स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं, प्रसिद्ध हस्तियों और मीडिया को शामिल करते हुए एक समग्र जागरूकता अभियान की आवश्यकता है। तभी हम इस देश की महिलाओं के बांझपन के बोझ को कम करने में कुछ प्रगति कर पाएंगे।

यह भी पढ़ें: आपका कॉन्फीडेंस लेवल भी बढ़ा सकता है टैटू, यहां जानिए टैटू बनवाने के फायदे और सावधानियां

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें