वैलनेस
स्टोर

ज्‍यादा माइंडफुल बनना चाहती हैं, तो ये 10 टिप्स करेंगे सेल्फ अवेयरनेस बढ़ाने में आपकी मदद

Updated on: 3 February 2021, 13:38pm IST
माइंडफुलनेस बेहतर मानसिक स्वास्थ्य की कुंजी है। लेकिन अगर आप यह नहीं समझ पा रहीं कि असल में विचारशील व्यक्ति होना क्या है, तो इन सुझावों का पालन करें।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 77 Likes
खुद के प्रति जागरुक होना मेंटल हेल्‍थ के लिए फायदेमंद है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इन दिनों हम सभी घर पर अधिक समय बिता रहे हैं। इस बारे में फिलहाल कुछ भी पता नहीं है कि दुनिया कब खुलेगी या सबकुछ पहले जैसा कब होगा। इसका मतलब है कि हमें वर्तमान में और अधिक जीना चाहिए। हालांकि, ऐसा करना हमेशा आसान नहीं होता है। हम अपने जीवन में बहुत अधिक विचलित हो जाते हैं और अपने अतीत या भविष्य को लेकर इतने आशंकित हो जाते हैं कि हम वर्तमान क्षण में जीना भूल जाते हैं।

जो टास्क आप सेट करती हैं, वे हो सकते हैं। लेकिन आप वर्तमान समय के साथ अपना संबंध खो सकती हैं, जैसे कि आप क्या मिस कर रही हैं और आप कैसा महसूस कर रही हैं। जब आप वर्तमान में कुछ नोटिस करती हैं, तो आप अक्सर तुरंत जज करती हैं और जल्दी प्रक्रिया देती हैं।

अक्सर दोष पूर्ण या सीमित परिप्रेक्ष्य से काम करना, किसी भी विकल्प को प्रतिबंधित करता है या अधिक समस्‍याएं पैदा करता है। ऐसे में दिन में सिर्फ पांच से पंद्रह मिनट के लिए बाहर निकलने पर ध्यान केंद्रित करने का अभ्यास बहुत गहरा प्रभाव डाल सकता है।

यह एक व्यस्त दुनिया है। कपड़े धोते समय आपकी एक आंख बच्चों पर होती है। वहीं दूसरी नजर टेलीविजन पर। आप अपना दिन प्लान करती हैं और ब्रेकफास्ट करती हैं। आप अपनी कुकिंग करने के साथ ही काम की कॉल लेती हैं, आप घर की सफाई करते-करते, अपने दोस्तों से बात करती हैं और अगर इस सब के बाद जब एक ब्रेक लेती हैं तो अपने फोन को स्क्रोल करते हुए एक फिल्म देखती हैं।

मेंटल हेल्‍थ के लिए जरूरी आत्‍म जागरुकता। चित्र: शटरस्‍टॉक
मेंटल हेल्‍थ के लिए जरूरी आत्‍म जागरुकता। चित्र: शटरस्‍टॉक

माइंडफुलनेस सतर्कता की स्थिति में अपना ध्यान वर्तमान क्षण में केंद्रित करने का अभ्यास है। बिना किसी निर्णय के, विचारों और संवेदनाओं पर जान-बूझकर ध्यान केंद्रित करने की अवस्था को प्राप्त करने के लिए। अगर आप चिंता या तनाव की भावनाओं से जूझ रही हैं और इससे आपको ध्यान केंद्रित करने में परेशानी हो रही है या किसी भी मुश्किल भावनाओं का अनुभव कर रही हैं, तो इसमें यह आपकी मदद कर सकता है।

यह आत्मग्‍लानि को कम करने में मदद कर सकता है क्योंकि इसमें आराम करने और अपनी अंतर्रात्‍मा के संपर्क में आने में समय लगता है।

माइंडफुलनेस का अभ्यास करने का एक बेहतरीन तरीका है। हालांकि, आपको खुद पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित करने के लिए खुद को प्रशिक्षित करने में थोड़ा समय लग सकता है, इसकी शुरुआत करना आसान है। लगातार अभ्यास से माइंडफुलनेस स्वाभाविक रूप से बढ़ जाएगी। माइंडफुलनेस की सबसे अच्छी बात यह है कि इसका अभ्यास आप कभी भी, कहीं भी कर सकती हैं।

इन बिंदुओं पर ध्यान दें और माइंडफुलनेस के लिए अपनी यात्रा शुरू करें:

1. बॉडी चेक-इन

अपनी पीठ के बल आराम से लेटें और अपना ध्यान धीरे-धीरे और जानबूझकर अपने शरीर के प्रत्येक हिस्से पर केंद्रित करें। अपने पैर की उंगलियों से शुरू करें और इसे अपने सिर तक ले जाएं। अपने शरीर की प्रत्येक उत्तेजना से अवगत रहें।

2. मन से खुश रहें

एक माइंडफुल गतिविधि में भाग लें, जिसका आप आनंद लेती हैं और जो वर्तमान में आपके पास है। यह ड्राइंग, जर्नलिंग, योग का अभ्यास या किसी अन्य शौक के माध्यम से हो सकता है जो आपको शांति प्रदान करता है।

कुछ सामान्य गतिविधियां करने से आपको हैप्पी हार्मोन्स को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। चित्र-शटरस्टॉक।

3. अपनी इंद्रियों के माध्यम से ध्यान दें

आप बाहरी संवेदनाओं जैसे कि आवाज़, जगह और स्पर्श को नोटिस करती हैं। जो आपके पल-पल के अनुभव को बनाते हैं। देखें कि आपके मन में क्या आता है और पता चलता है कि कौन सी मानसिक आदतें कल्याण या पीड़ा की भावना पैदा करती हैं।

4. बस निरीक्षण करें

माइंडफुलनेस का उद्देश्य मन को शांत करना या शाश्वत शांत अवस्था प्राप्त करने का प्रयास नहीं है। इसका लक्ष्य सरल है: वर्तमान क्षण पर ध्यान देना, बिना निर्णय के।

5. बिना रुकावट के कुछ मिनट इसकी कुंजी है

आपको अपने माइंडफुलनेस स्किल्स को एक्सेस करने के लिए एक विशेष कुशन या किसी भी प्रकार के विशेष उपकरण की आवश्यकता नहीं है। लेकिन आपको कुछ समय और स्थान निर्धारित करने की आवश्यकता है।

6. अपने भटकते मन के प्रति दयालु रहें

जो भी विचार आते हैं, उसके लिए अपने आप को न आंकें। बस यह पहचानने का अभ्यास करें कि आपका मन कब भटक गया है और धीरे से उसे वापस लाएं।

7. फ्लो के साथ आगे बढ़ें

एक बार जब आप एकाग्रता स्थापित कर लेती हैं, तो आप आंतरिक विचारों, भावनाओं और शारीरिक संवेदनाओं के प्रवाह का निरीक्षण करते हैं, उन्हें अच्छा या बुरा मानकर।

आप पूरी तरह अपने हैप्पी हार्मोन्स को कंट्रोल कर सकती हैं। चित्र-शटरस्टॉक।

8. इसके साथ रहें

कभी-कभी, यह प्रक्रिया बिल्कुल भी सहज नहीं लगती। लेकिन समय के साथ यह अधिक से अधिक खुशी और आत्म-जागरूकता की कुंजी प्रदान करती है क्योंकि आप अपने अनुभवों की व्यापक श्रेणी के साथ सहज हो जाते हैं।

9. बार-बार कोशिश करें

जब आप एक आराम सत्र के लिए अपना इच्छित समय याद करते हैं, तो आप चले जाते हैं, या आप उस दिन के लिए रुकना चाहते हैं। यह ठीक है, रुकें और बस फिर से शुरू करें। अगले दिन वापस आने के लिए याद रखें।

10. इसमें खुद को खोजें

बहुत सारे ऐप, पाठ्य सामग्री और वीडियो प्रशिक्षण इंटरनेट पर मौजूद हैं। जो आपका कई तरीकों से माइंडफुलनेस के लिए मार्गदर्शन करते हैं। लेकिन यह सब इसी के साथ शुरू और खत्म होता है कि आप अपने आपको इस प्रक्रिया में किस हद तक ला पाते हैं, प्रक्रिया को अनुकूलित करते हैं, यह आपके लिए जो काम करते हैं उन्हें पर्सनलाइज करते हैं और इसका अधिक उपयोग करते हैं।

इस महामारी से हमने खुद का ख्याल रखना और खुश रहना भी सीखा है। चित्र-शटरस्टॉक।

ऊपर दी गई सभी माइंडफुलनेस प्रैक्टिस में प्रत्येक क्षण में आपने अपनी जागरुकता में जो कुछ भी सीखा है, उसे स्वीकार करना शामिल है। इसमें दयालु होना और खुद को क्षमा करना शामिल है। माइंडफुलनेस के दौरान अपने अनुभव को स्वीकार करने का अभ्यास करने से, अपने बाकी दिनों के दौरान जो भी आपके रास्ते में आता है, उसे स्वीकार करना आसान हो जाता है।

यह भी पढ़ें – ये 10 लक्षण बताते हैं कि आप या आपका पार्टनर हैं अति संवेदनशील व्‍यक्ति

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।