वैलनेस
स्टोर

एक आत्‍ममुग्‍ध व्‍यक्ति के साथ रिश्‍ते में हैं, तो जानिए कैसे और क्‍यों जरूरी है इसे पहचानना

Published on:17 February 2021, 15:00pm IST
यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति के प्रति आकर्षित हो रहीं हैं, जो खुद को श्रेष्ठ बताता है और उसमें सहानुभूति की कमी है, तो लेडीज आप शायद एक आत्‍ममुग्‍ध व्‍यक्ति (narcissist) के साथ डेट कर रही हैं।
Jyotsna Ahuja Kapoor
  • 80 Likes
आत्‍ममुग्‍ध पार्टनर आपकी मानसिक सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जब हम नार्सिसिज्म (narcissism) के बारे में सोचते हैं, तो अक्सर एक चुटकुला याद आ जाता है। “जब कोई व्‍यक्ति लगातार अपने बारे में ही बात करने के बाद कहता है कि, खैर मेरे बारे में तो बहुत हुआ, अब आप कुछ बताइए कि आप मेरे बारे में क्‍या सोचती हैं!”

हम एक ऐसी दुनिया में रहते हैं, जो तेजी से आत्‍ममुग्‍धता (narcissistic) की ओर बढ़ रही है। यह विभिन्‍न वैज्ञानिक शोधों में भी साबित हो चुका है। लुक ऐट मी (look at me) फेसबुक जैसे सामाजिक नेटवर्क द्वारा अक्सर प्रचारित की जाने वाली मानसिकता लोगों को सकारात्मक रूप से दुनिया में मौजूद छवि से रूबरू कराती है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

इसके अलावा, हम अब बड़े पैमाने पर आत्म-सम्मान आंदोलन के नकारात्मक प्रभावों को देख सकते हैं। असल में नार्सिसिज्म या आत्‍ममुग्‍धता (narcissism) का उदय हमारे व्यक्तिगत संबंधों को कैसे प्रभावित करता है? किसी व्यक्ति के लिए, अधिक नार्सिसिज्म (narcissism) का अर्थ अधिक नार्सिसिस्टिक (narcissistic) संबंध है।

क्‍यों बनते हैं ऐसे संबंध

नार्सिसिस्टिक संबंध तब बनते हैं जब एक या दोनों साथी एक नार्सिसिस्टिक व्यक्तित्व के साथ संघर्ष करते हैं। नार्सिसिस्टिक व्यक्तित्व विकार (narcissistic personality disorder) वाले लोग मानते हैं कि वे दूसरों से बेहतर हैं और अन्य लोगों की भावनाओं से बहुत कम संबंध रखते हैं। अति-आत्मविश्वास के इस मुखौटे के पीछे एक नाजुक आत्म-सम्मान है, जो थोड़ी सी आलोचना से भी आहत हो जाता है।

जब आप किसी तरह की असुरक्षा महसूस करती हैं, तब ऐसे व्‍यक्तियों से संबंध बनते हैं। चित्र : शटरस्टॉक
जब आप किसी तरह की असुरक्षा महसूस करती हैं, तब ऐसे व्‍यक्तियों से संबंध बनते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

यदि आप एक नार्सिसिस्टिक रिश्ते (narcissistic relationship) में शामिल हैं, तो आप इसे कैसे पहचान सकती हैं?

नीचे कुछ सामान्य लक्षण दिए गए हैं जिनसे आप एक नार्सिसिस्टिक रिलेशनशिप को समझ सकती हैं

नोट: जिस हद तक ये लक्षण स्वयं प्रकट होते हैं, वह काफी हद तक व्यक्ति के आधार पर अलग-अलग होंगे।

  1. अधिकार या श्रेष्ठता का भाव
  2. सहानुभूति की कमी
  3. व्यवहार में बाधा या नियंत्रण
  4. प्रशंसा की प्रबल आवश्यकता है
  5. अक्सर दूसरों की जरूरतों को नजरअंदाज करते हुए अपनी जरूरतों को पूरा करने पर ध्यान देते हैं।
  6. आक्रामकता का उच्च स्तर
  7. उनके व्यवहार को लेकर कोई प्रतिक्रिया लेने में कठिनाई

तब आप कैसे एक नार्सिसिस्टिक पार्टनर से निपट सकती हैं?

यदि आप अपने आप को एक नार्सिसिस्टिक रिश्ते में महसूस कर रहीं हैं, तो आपको सबसे पहले उन अचेतन उद्देश्यों (unconscious motives) को पहचानने और प्रतिबिंबित करने की आवश्यकता होती है जो आपको ऐसे साथी को चुनने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।

क्या आप अपने साथी के नियंत्रण में होने के कारण अधिक सहज हैं, तो क्या आप अधिक निष्क्रिय हो सकती हैं? क्या आपको सुर्खियों में रहने वाले किसी व्यक्ति से जुड़े रहना पसंद है? या आप अपनी नकारात्मक छवि की आलोचना और बेहतर दृष्टिकोण के साथ सुदृढ़ हो रहीं है।

कुछ सीमाएं तय करना जरूरी है। चित्र : शटरस्‍टॉक

कुछ सीमाएं तय करना जरूरी है। चित्र : शटरस्‍टॉककई लोग जो नार्सिसिस्टिक के साथ प्यार में पड़ जाते हैं, उनके पास कोडपेंडेंसी (codependency) के आसपास की समस्याएं हैं। वे निश्चित ही इसके दुरुपयोग के शिकार हो सकते हैं, क्योंकि वे सीमाएं तय करने या अपने निर्णय लेने में आत्मविश्वास महसूस नहीं करते।

नार्सिसिस्टिक संबंधों में अपनी भूमिका को समझना महत्वपूर्ण है। फिर आप अपने सक्रिय आधे हिस्से को बदलने के लिए खुद को चुनौती देना शुरू कर सकती हैं। यह बदले में, आपके साथी को उनके रिश्ते की शैली को बदलने के लिए चुनौती देगा।

आप अपने साथी के आत्मसम्मान की नजाकत को पहचान सकती हैं और इस बात के लिए करुणा रखें कि आत्‍म मुग्‍धता और भव्यता के प्रति उसका भाव आत्म-घृणा और अधूरेपन की भावनाओं के लिए एक आवरण है। आप आत्म-करुणा का अभ्यास करना सीखकर अपना आत्मविश्वास और आत्म-मूल्य भी विकसित कर सकती हैं।

तो पीड़ित ना बनें! सभी मुठभेड़ों के लिए सशक्‍त महसूस करें और अपने साथी के साथ बराबरी का व्‍यवहार करें।

यह भी पढ़ें – धोखेबाज़ सावधान रहें : एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के हो सकते हैं ये 4 मानसिक दुष्परिणाम

Jyotsna Ahuja Kapoor Jyotsna Ahuja Kapoor

Jyotsna Ahuja Kapoor is the founder of The White Space, a personal counsellor, and transformational coach.