Commonwealth Games 2022 : जानिए एथलीट्स के लिए क्यों जरूरी है फिजिकल स्ट्रेंथ के साथ मेंटल हेल्थ पर भी ध्यान देना 

Published on: 27 July 2022, 18:00 pm IST

28 जुलाई से राष्ट्रमंडल खेल 2022 बर्मिंघम में शुरू होने जा रहे हैं। जानिए क्या वजह है कि खिलाड़ियों की मेंटल हेल्थ पर खास ध्यान दिया जा रहा है। 

mental health ke fayde
खेल मनोरोग एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह कथित सपनों और वास्तविकता के बीच संतुलन स्थापित करता है।चित्र: शटरस्टॉक

2022 राष्ट्रमंडल खेलों (Commonwealth games) के लिए बर्मिंघम में सैकड़ों एथलीट जुट गए हैं। आइए उनकी मानसिक शक्ति के लिए शुभेच्छा रखें। उन खिलाड़ियों की शक्ति और ताकत का प्रतिनिधित्व उनका मन करता है, जो लगातार प्रतिस्पर्धा में बने रहने, अपने देश का प्रतिनिधित्व करने और सभी की अपेक्षाओं को पूरा करने के तनाव से जूझता रहता है।

भारत की ओलंपिक कांस्य पदक विजेता लवलीना बोरगोहेन राष्ट्रमंडल खेलों में भाग लेंगी। उन्होंने हाल ही में खेलों में अपने कोच की अनुपस्थिति के कारण मानसिक रूप से प्रताड़ित महसूस करने के बारे में अपनी चुप्पी तोड़ी। 

उन्होंने सोशल मीडिया की एक पोस्ट में पूछा “मुझे अपने खेल पर कैसे ध्यान केंद्रित करना चाहिए? निष्पक्ष खेल कैसे संभव हो पाएगा?

पिछले कुछ वर्षों में स्पोर्ट्स पर्सन की मेंटल हेल्थ के बारे में सबसे अधिक चर्चा हो रही है। सबसे बड़ी बात यह कि कई बार जीत हासिल करने के बावजूद वे मानसिक स्तर पर टूटते हुए नजर आए। 

अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद उन्होंने स्वयं को किसी और द्वारा नीचे खींचा जाना महसूस किया। इसलिए उनकी मेंटल हेल्थ पर चर्चा होना जरूरी है।

एथलीटों के लिए मानसिक स्वास्थ्य का महत्व

खेल मनोवैज्ञानिक दिव्या जैन हेल्थ शॉट्स को बताती हैं, “जब हम एथलीटों की ओर देखते हैं, तो हम उनके पदक, रैंक और व्यक्तिगत जीवन के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन को देखते हैं। जिस चीज को हम अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं, वह है खिलाड़ी के विचार, भावनाएं, अनुभव और परिस्थितियां। ये सभी भाव ही किसी व्यक्ति को विशेष बनाते हैं।

पिछले एक साल में चार बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता सिमोन बाइल्स और टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका सहित कई शीर्ष रेटेड एथलीटों ने खेल की दुनिया में मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देने की आवश्यकता पर जोर दिया। 

बाइल्स ने टोक्यो ओलंपिक खेलों 2021 में कलात्मक जिमनास्टिक के फाइनल से हटने के बाद कहा, “मुझे अपने मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना है। ओसाका ने टाइम पत्रिका से कहा, “एथलीट भी इंसान हैं। वह भी ओके या नॉट ओके हो सकता है।

उनका यह स्वीकारनामा दुनिया के लिए आंख खोलने जैसा था, जो भावनाओं और अपेक्षाओं के बोझ तले दबे हर एथलीट के लिए एक गेम-चेंजर बन गया। इसने लोगों को याद दिलाया कि तनाव, चिंता, अवसाद, क्रोध और आत्महत्या के विचार सामान्य इंसान की तरह एक एथलीट को भी आ सकते हैं।

“दुनिया में करीब एक अरब लोग मानसिक स्वास्थ्य विकार से पीड़ित हैं। ये स्थितियां एथलीट्स के बीच की भी हो सकती हैं। दुर्भाग्य से एथलीट के मानसिक स्वास्थ्य के संबंध में मौजूद टैबू भी उतना ही प्रचलित है।

यह जानना जरूरी है कि एक एथलीट के साथ-साथ आम इंसान को भी मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति जीवन के हर पहलू को प्रभावित कर सकती है।

मनोदशा

सोच प्रक्रियाएं

mental health ke liye
एथलीट के लिए मेंटल हेल्थ मजबूत होना जरूरी है। चित्र : शटरस्टॉक

प्रदर्शन

पारस्परिक सम्बन्ध

शारीरिक स्वास्थ्य

विशेषज्ञ के अनुसार “ऐसे परिदृश्य में एथलीटों के लिए यह अनिवार्य है कि वे अपने मानसिक स्वास्थ्य को प्राथमिकता दें। तभी वे खेल के मैदान पर अपनी पूरी क्षमता के साथ पहुंच सकते हैं।

एथलीट पर उम्मीदों का दबाव

राष्ट्रीय या अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धा अत्यधिक दबाव के साथ आती है, जो सभी एथलीटों के लिए मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों को जोड़ती है।

पीडी हिंदुजा अस्पताल और एमआरसी, माहिम, मुंबई में कंसल्टेंट मनोचिकित्सक केसी चावड़ा हमें बताते हैं, “टीम की अपेक्षाओं का दबाव, देश का दबाव, परिवार का दबाव और सेल्फ प्रेशर भी है। खिलाड़ी जानता है एक सेकंड के दसवें हिस्से या 1 मीटर की दूरी में भी विजेता और हारने वाले के बीच अंतर हो सकता है।

इसके अलावा, परिवार से दूर रहना, प्रतियोगिता कैलेंडर के कारण शेड्यूल में गड़बड़ी, गलतियों के बाद सार्वजनिक जांच, चोट का डर और सामने आ रही सेवानिवृत्ति का दबाव।

डॉ. दिव्या जैन कहती हैं, “ये सभी चुनौतियां हैं जो एथलीटों द्वारा अपने करियर के दौरान अनुभव की जाती हैं। इन चुनौतियों को नेविगेट करने के लिए एथलीट के लिए जितना महत्वपूर्ण तकनीकी और शारीरिक कौशल है, उतना ही मानसिक कौशल होना भी आवश्यक है।

जीतने के साथ हारने की सीख

क्या हमें यह नहीं सिखाया जाना चाहिए कि खेल में मिली सफलता के साथ-साथ विफलता को भी विनम्रता और गरिमा के साथ स्वीकार करना चाहिए।

अधिकांश खिलाड़ी जीत और हार को दैनिक जीवन का हिस्सा मानते हैं। वास्तव में यह उनकी गलतियों से सीखने और आगे बढ़ने की क्षमता है, जो एथलीटों को लचीला बनाता है और वे लंबे समय के बाद सफल भी होते हैं।

छह बार की विश्व चैंपियन, मुक्केबाज एमसी मैरी कॉम, जो राष्ट्रमंडल खेलों में जगह नहीं बना सकीं। ट्रायल के दौरान घुटने की चोट के बाद इस साल की शुरुआत में हेल्थ शॉट्स के एक साक्षात्कार में उन्होंने इस बारे में खुलासा किया था कि उन्हें अपने पूरे करियर में किस चीज ने मजबूत बनाए रखा।

“यह ईश्वर प्रदत्त है,” उन्होंने अपनी मानसिक शक्ति के बारे में कहा। यह खेल है। हम कभी हासिल कर सकते हैं और कभी हम नहीं भी कर सकते। जब मैं कुछ हासिल नहीं कर पाती हूं, तो मैं खुद से अगली बार इसके लिए जाने के लिए कहती हूं। यह भूख मुझे खेलों में बनाए रहती है। ”

एथलीटों के लिए यह सबसे महत्वपूर्ण है कि वे विफलताओं से अच्छी तरह निपटें।

डॉ. जैन जोर देकर कहती हैं, “असफलताओं पर बहुत लंबे समय तक ध्यान न दें। इसकी बजाय, अपनी ताकत पर ध्यान दें। अपने आप को खेल में वापस लाएं और उन सफलताओं को याद रखें, जिन्हें आपने अनुभव किया है। प्रयासों पर ध्यान दें। परिणाम-उन्मुख लक्ष्यों की बजाय प्रक्रिया लक्ष्य निर्धारित करना महत्वपूर्ण है।

एथलीटों के लिए विफलता से निपटने के कुछ अन्य प्रभावी तरीके यहां दिए गए हैं

सुनिश्चित करें कि आप ठीक ढंग से खा रहे हैं। पर्याप्त नींद ले रहे हैं। ठीक होने के लिए समय लें।

परिवार, दोस्तों और खेल समुदाय के भीतर रिश्तों में निवेश करें

खेल के बाहर उन चीजों को करने के लिए समय निकालें, जिनमें आप आनंद प्राप्त करते हैं या आपको प्रेरित करते हैं।

प्रशिक्षण की प्रक्रिया और प्रतियोगिता के उत्साह का आनंद लें

 khushi ke fayde
एथलीट के लिए खुश रहना बेहद जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक

अगर आप किसी परेशानी का सामना कर रहे हैं, तो किसी दोस्त, परिवार के सदस्य, कोच या मनोवैज्ञानिक से संपर्क करें। बात करें।

खेल मनोरोग और मानसिक स्वास्थ्य प्रशिक्षकों की भूमिका

खबर है कि दक्षिण अफ्रीका के पैडी अप्टन को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा भारतीय टीम के मानसिक कंडीशनिंग विशेषज्ञ के रूप में शामिल किया गया है, जो खिलाड़ियों के अनुभव के दबावों को संभालने के लिए पेशेवरों की बढ़ती आवश्यकता पर प्रकाश डालता है।

“खेल मनोरोग एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह कथित सपनों और वास्तविकता के बीच संतुलन स्थापित करता है।” डॉ चावड़ा कहते हैं।

खेल मनोवैज्ञानिक क्या करते हैं?

वे बताते हैं, “खिलाड़ियों को जीत और हार, विश्राम और ध्यान केंद्रित करने के तकनीकों से जुड़ी वास्तविकताओं के बारे में बताया जाता है और विषम परिस्थितियों में भी संतुलन किस तरह बनाए रखा जाए।

वे आगे कहते हैं, सभी को यह स्वीकार करना होगा कि जीवन हमेशा निष्पक्ष नहीं हो सकता है। जीत के साथ-साथ हार भी मिलती है। आखिरकार व्यक्ति अधिक महत्वपूर्ण है कि खेल या उसमें हासिल की गई जीत? 

यह भी पढ़ें:-प्रोडक्टिविटी और ऊर्जा लगातार कम हो रही है, तो इस तरह बढ़ाएं स्टेमिना 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें