Summer Blues : तपती गर्मी भी बन सकती है आपकी उदासी और थकान का कारण, जानिए क्या हैं समर ब्लूज

Published on: 10 April 2022, 20:00 pm IST

गर्मियां सिर्फ आपकी फिजिकल हेल्थ ही नहीं, बल्कि मेंटल हेल्थ पर भी भारी पड़ सकती हैं। जानिए क्या हैं समर ब्लूज जो आपको इस मौसम में उदास और चिड़चिड़ा बना देते हैं।

garmiyan ban sakti hain aapki udasi ka karan
गरमियां बन सकती हैं आपकी उदासी का कारण। चित्र : शटरस्टॉक

विंटर ब्लूज़ के बारे में तो हम सभी जानते हैं, पर क्या आपने कभी समर ब्लूज़ का अनुभव किया है? जी हां, यह समस्या भी वास्तविक है। जब सब कुछ ठीक होते हुए भी हम अपने आप को अकेला, उदास और चिड़चिड़ा महसूस करने लगते हैं। जी हां, ये सभी समर ब्लूज़ के लक्षण हैं। जब आपको समझ ही नहीं आता कि आप ऐसा क्यों अनुभव कर रहीं हैं। आइए जानते हैं इस बारे में और भी विस्तार से।

यदि आपके साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है, तो आप SAD की शिकार हो सकती हैं। SAD, जिसे सीजनल अफेक्टिव डिसऑर्डर के रूप में जाना जाता है। यह लगभग 5 प्रतिशत आबादी को प्रभावित करता है। यह तब होता है जब मौसम में बदलाव होता है और आमतौर पर इसका परिणाम अवसाद होता है।

जानिए कैसा होता है गर्मी का आपकी सेहत पर असर?

आपको लगता है कि सूरज आपकी ऊर्जा को खत्म कर रहा है

सूर्य सचमुच आपकी ऊर्जा को समाप्त नहीं कर सकता है, बल्कि यह आपके शरीर में मेलाटोनिन उत्पादन को कम कर सकता है। मेलाटोनिन एक हार्मोन है जो मूड को कंट्रोल करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, इसलिए कोई भी वृद्धि या कमी इस बात का प्रत्यक्ष परिणाम हो सकती है कि आप उदास क्यों हैं। अपने मेलाटोनिन उत्पादन को को कम होने से बचाने में मदद करने के लिए धूप से बचने की कोशिश करें। धूप का चश्मा पहनें और एक छाता ले जाएं।

ज़्यादा गर्मी बनती है चिंता का कारण

ऐसे कई कारक हैं जो आपकी चिंता में योगदान कर सकते हैं। अपनी चिंता को सीमित करने के लिए, उन चीजों के बारे में योजना बनाएं जिन्हें आप जानते हैं जो आपको चिंता मुक्त कर देंगे। ऐसे सामाजिक कार्यक्रम चुनें जिनमें कम भीड़ हो या जो रात में हों। पार्टी में पहले के बजाय बाद में जाएं, ताकि आपको सफ़ोकेटेड न लगे।

भूख न लगना

गर्मियों को लेकर लगातार तनाव या चिंता महसूस करने से आपके हार्मोन खराब हो सकते हैं और आपकी भूख कम हो सकती है। फिर भी, सिर्फ इसलिए कि आप भूखे नहीं हैं इसका मतलब यह नहीं है कि आपके शरीर को पोषक तत्वों की आवश्यकता नहीं है। दिन में खाने का समय निर्धारित करें और उसका पालन करें।

aapko sone mein dikkat ho sakti hai
आपको सोने में दिक्कत हो सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

आपको सोने में परेशानी हो रही है

शरीर में मेलाटोनिन की कमी आपकी नींद को प्रभावित कर सकती है। एसएडी का अनुभव करने वाले लोगों में दिन के दौरान ऊर्जा की कमी हो सकती है। खुद को शांत होने का समय दें। लाइट बंद कर दें और एक ऐसी दिनचर्या स्थापित करें जैसे पढ़ना या ध्यान करना, जो आपके मस्तिष्क को संकेत देगा कि यह सोने का समय है।

आप किसी बात को लेकर लगातार चिड़चिड़े या परेशान रहते हैं

आपके इरीटेशन का कारण गर्मी हो सकती है। गर्मियों में सबसे अधिक ध्यान देने योग्य परिवर्तनों में से एक गर्मी और बढ़ी हुई हयूमिडिटी है। जितनी बार हो सके शांत रहने की पूरी कोशिश करें। वातानुकूलित स्थानों पर रहें, पोर्टेबल पंखा रखें, हाथ में कोल्ड ड्रिंक लें या अक्सर ठंडे पानी से नहाएं।

यह भी पढ़ें : इन 4 तरीकों से आप बॉडी डिस्मॉर्फिया और ईटिंग डिसऑर्डर पर काबू पा सकती हैं

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें