और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

मनोचिकित्सक से जानिए क्‍या होता है जब आप एंग्जायटी को लम्बे समय तक करती हैं नज़रअंदाज़

Updated on: 10 December 2020, 11:16am IST
एंग्जायटी एक गंभीर मानसिक बीमारी है और इसे नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए। ये हैं एंग्जायटी पर ध्यान ना देने के चार नकारात्मक परिणाम।
  • 83 Likes
एंग्जायटी एक गंभीर समस्या बन सकती है, इसे हल्के में ना लें। चित्र: शटरस्‍टॉक

आज लाखों लोग एंग्जायटी से जूझ रहे हैं और यह हमारे समाज में व्याप्त सबसे आम मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। हालांकि, बहुत से लोगों को यह पता नहीं है कि इसे अनदेखा करने से गंभीर परिणाम हो सकते हैं। वास्तव में, एंग्जायटी से जूझने वालों में से अधिकांश सलाह, उपचार या चिकित्सा की मांग कभी करते ही नहीं हैं।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि एंग्जायटी के साथ अपनी लड़ाई के बारे में खुलकर बोलने वाली हस्तियों ने सार्वजनिक रूप से मानसिक स्वास्थ्य पर जागरूकता बढ़ाई है। लेकिन एक बड़ी आबादी इससे निपटने के लिए कोई भी कदम उठाने में संकोच कर रही है।

 

अधिक डिटेल में जाने से पहले, आइए बुनियादी सवाल पर ध्यान दें कि एंग्जायटी क्या है। बेचैनी, तनाव और चिंता की भावनाएं आम हैं, लेकिन जब आपका शरीर कठिन परिस्थितियों से बाहर निकलने के बाद भी ‘लड़ो या भागो’ वाले मोड में बना रहता है, तो यह चिंता का कारण है।

“इस तरह की भावनाएं दुर्बल कर सकती हैं और किसी के जीवन पर हावी हो सकती हैं। जब ऐसा होने लगता है, तो एंग्जायटी एक मानसिक स्वास्थ्य समस्या बन जाती है। कुछ लोग ऐसे होते हैं जो छोटी-छोटी बातों को लेकर भी हर समय परेशान रहते हैं। ये एंग्जायटी के विशिष्ट संकेत हैं”, कहती हैं एक दशक से अधिक समय से अभ्यास कर रही मनोवैज्ञानिक आकांक्षा अरोरा।

अगर एंग्जायटी को डर या चिंता समझ कर इग्नोर कर रही हैं तो भविष्य के लिए बहुत बड़ी समस्या खड़ी हो सकती है। चित्र : शटरस्‍टॉक

एंग्जायटी के लक्षण

एंग्जायटी के लक्षणों को देखते समय, किसी को यह महसूस करना होगा कि यह सभी के लिए अलग होते है। एंग्जायटी के शारीरिक और मनोवैज्ञानिक दोनों प्रभाव पड़ सकते हैं। हालांकि अल्पकालिक यानी टेम्परेरी प्रभाव समय के साथ कम हो सकते हैं, मगर कुछ लोगों के स्वास्थ्य पर दीर्घकालिक प्रभाव भी पड़ सकते हैं।
शारीरिक लक्षणों में से कुछ में सिरदर्द, चक्कर आना, तनावग्रस्त मांसपेशियों, पिंस और सुइयों की चुभन महसूस होना, तेज सांस लेना या सांस फूलना, पसीना आना, रक्तचाप में वृद्धि, नींद में कठिनाई और साथ ही थकान शामिल हैं।

“मनोवैज्ञानिक रूप से, एंग्जायटी से ग्रस्त लोग तनाव और भय महसूस करते हैं। बार-बार स्थितियों को दोहराते हैं, और बेचैनी की भावना लगातार महसूस करते हैं। चिंता हर व्यक्ति के लिए एक ही तरह से नहीं दिखाई देती है। आकांक्षा कहती हैं, “यह आपके आसपास के लोगों की तुलना में आपके लिए अलग दिख सकता है।”

ये हैं एंग्जायटी के चार दीर्घकालिक प्रभाव

यदि आप जल्द से जल्द एंग्जायटी का इलाज नहीं करते हैं, तो यह आपके शरीर पर कई दीर्घकालिक प्रभाव डाल सकता है। आइए उन पर एक नजर डालें-

1. सांस संबंधी समस्याएं

जब कोई व्यक्ति हर समय चिंतित महसूस करता है, तो उन्हें सांस की तकलीफ का अनुभव हो सकता है। नतीजतन, उनकी सांस कम गहरी और तेज हो सकती है। समय के साथ, यह सांस लेने का गलत पैटर्न बन जाता है। व्यक्ति द्वारा लिए गए ऑक्सीजन की मात्रा कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा से कम हो जाती है।

“जब शरीर में अतिरिक्त कार्बन डाइऑक्साइड होता है, तो मस्तिष्क को रक्त की आवश्यक आपूर्ति नहीं मिलती है। इसके कारण चक्कर आना और शून्यता महसूस होती है। गंभीर मामलों में, इसके परिणामस्वरूप चेतना पर नुकसान हो सकता है। जो लोग अस्थमा से पीड़ित होते हैं, एंग्जायटी उनके लक्षणों को बदतर बना सकती है, ”आकांक्षा कहती हैं।

2. पाचन और आंत संबंधी विकार

जो लोग गंभीर एंग्जायटी से पीड़ित होते हैं, उन्हें पाचन संबंधी समस्याएं जैसे पेट में दर्द, अत्यधिक ब्लोटिंग, पेट में ऐंठन, दस्त, इर्रिटेबल बॉउल सिंड्रोम और उल्टी हो सकते हैं। आप सोच सकती हैं कि पेट दर्द सामान्य है, लेकिन अगर आप को नियमित रूप से पेट दर्द या पाचन संबंधी समस्याएं रहती हैं, तो आपको अपनी भावनाओं पर ध्यान देने की जरूरत है।

कभी सोचा है तनाव में होते ही आपका पेट क्‍यों गुड़गुड़ करने लगता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

3. कमजोर इम्यून सिस्टम

आप इसे बेतुका समझ सकते हैं, लेकिन हम मजाक नहीं कर रहे हैं। जब आपका शरीर लगातार तनाव और चिंता से गुजरता है, तो आपके शरीर के लिए अपनी सामान्य स्थिति में वापस आना मुश्किल हो जाता है। इसका मतलब है कि आपकी इम्युनिटी हमेशा दबाव में रहती है, जिससे यह लगातार बीमारियों और वायरल संक्रमण का खतरा बना रहता है। इसलिए, यदि आप फ्लू और अन्य समस्याओं से हमेशा परेशान रहते हैं, तो इसके लिए आपकी एंग्जायटी ही जिम्मेदार है।

4. मांसपेशियों में तनाव

“जब आप लगातार चिंतित रहते हैं, तो आपका नर्वस सिस्टम आपकी मांसपेशियों को तनाव प्रतिक्रिया के लिए तैयार करने के लिए संकेत भेजता है। जो आपकी मांसपेशियों को कॉन्ट्रैक्ट कर के अत्यधिक दबाव डालता है। लगातार मांसपेशियों में तनाव के कारण ऐंठन, कठोर मांसपेशियां, दर्द और कसाव हो सकता है। कुछ मामलों में, यह इतना गंभीर हो सकता है कि आप जोड़ों के दर्द, गठिया और फाइब्रोमायल्गिया की समस्या भी पैदा हो सकती है।

एंग्जायटी एक गंभीर समस्या बन सकती है, इसे हल्के में ना लें। चित्र: शटरस्‍टॉक

सखियों, यदि आप लगातार चिंतित हैं, तो किसी प्रोफेशनल से मदद लेना सबसे जरूरी है। तुरंत समस्या से निपटें, इसे टालें नहीं। एंग्जायटी एक ऐसी चीज है जिसका सामना करने और निपटने की जरूरत है।