बॉस से लगातार पड़ रही है डांट, तो जानिए आपको किन चीजों पर है ध्यान देने की जरूरत

कुछ लोगों को हैंडल करना कभी-कभी बहुत मुश्किल लगता है। पर पब्लिक स्पेस में खासतौर से जिनसे आपका प्रोफेशनल संबंध है, उन्हें डील करने के लिए एक खास रणनीति की जरूरत होती है। जानिए क्या है वह-

BOSS KE KRE DEAL
बॉस से लगातार पड़ रही डॉट तो ऐसे निपटें। चित्र: शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 26 May 2022, 18:26 pm IST
  • 101

आपके ऑफिस का वातावरण आपके लिए इतना टॉक्सिक हो चला है कि आपको ऑफिस जाने से भी डर लगता है! और रात भर सपने में वही ऑफिस मीटिंग और उसमें पड़ने वाली डांट घूमती रहती है, तो आपकी स्थिति काफी चिंताजनक है और आपको इस पर तुरंत ध्यान देना होगा। हम में से ज्यादातर लोग इस बात से परेशान रहते हैं कि उनके बॉस बहुत अजीब हैं और समझ नहीं आ रहा कि उन्हें कैसे हैंडल किया जाए! कभी-कभी कुछ मैनेजर ऐसे भी होते हैं जो आपको गलतियों के बारे में सबके सामने बोलना या फिर सचमुच डांटना शुरू कर देते हैं। क्या ऐसे क्रिटिकल बॉस के साथ सामंजस्य बैठाना वाकई मुश्किल काम है या फिर प्रोफेशनल लाइफ में कुछ ऐसा है जो हम मिस कर रहे हैं? आइए आज इसी मुद्दे पर विस्तार से बात करते हैं और ढूंढते हैं ओवर क्रिटिकल बॉस के साथ डील (How to deal with overly critical boss) करने का तरीका।

प्रोफेशनल लाइफ हम सभी के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। एक उम्र तक असल में यही आपका निजी व्यवहार और रुटीन भी तय करती है। इसलिए जीवन में आगे बढ़ने के लिए इस लाइफ में आने वाली अड़चनों से निपटने का हुनर मालूम होना चाहिए। लोगों को ये भी लगता है कि अगर उन्होंने कुछ गलत किया तो उनकी जॉब चली जाएगी या फिर उन्हें नौकरी से निकाल दिया जाएगा। जबकि ऐसा ये पूरी तरह सच नहीं है। अगर आपकी भी बॉस अन्य सहकर्मियों के सामने ही आपकी आलोचना करती हैं, तो बिना हताश हुए उनकी आलोचना को हैंडल करने का हुनर आना चाहिए। यदि आप उन लोगों में से हैं जो अपने बॉस की आलोचना से ऊबकर अपने अच्छे-खासे जॉब से नफरत करने लगी हैं, तो ये लेख आपके काम का है।

यह भी पढ़ें :- आपको उम्र से पहले बूढ़ा बना रहा है वायु प्रदूषण, जानिए कैसे करना है त्वचा का बचाव

यहां जानिए वे 5 तरीके जो आपको अपने बॉस के साथ बेहतर तालमेल बैठाने में मदद करेंगे

1 बॉस के रवैए को अपनी पर्सनैलिटी से न जोड़े

हो सकता है कि आपकी बॉस आप में सुधार लाने की कोशिश कर रही हों या फिर अपनी भड़ास आप पर निकाल रही हो। मामला जो भी हो आपको जरुर देखना चाहिए कि वह आलोचना करते समय आपका व्यक्तिगत अपमान कर रही हैं या फिर आप में रचनात्मक बदलाव आए, सुधार आए उसके लिए टोक रहीं हैं। अगर ऐसा है तो वह आप की मदद करना चाहती हैं। जो भी हो आखिरकर काम के अनुभव के मामले में वे आप से सीनियर हैं।

अगर आपको उनकी आलोचना से कोई दिक्कत है, तो आप उनसे पर्सनली बात कीजिए। सच में आपकी बॉस खूब आलोचना करती हैं, तो आप उनके इस रवैए को लेकर अपने सहकर्मियों के सामने बखेड़ा न खड़ा करें। क्योंकि ये प्रोफेशनली तरीका नहीं है। इससे कोई समाधान निकलने वाला नहीं है।

2 आलोचना सुनकर सबक लें

जब आपकी बॉस आपकी आलोचना करें, तो बीच में रोकने के बजाय सबसे पहले उन्हें अपनी पूरी बात कह लेने दें। अगर आपको जरुरी लगे, तो उनसे पर्सनली मिलकर कारण जान लें। इस तरह, आप जान सकती हैं कि आपकी बॉस आखिर कहना क्या चाह रही हैं और उनके द्वारा सुनाई गई बातों को भविष्य में अपने फायदे के लिए इस्तेमाल भी कर सकती हैं।

जान लीजिए, आपके बॉस का ये काम नहीं है कि वह आपको बताए कि आपको अपना काम कैसे करना है। दरअसल ये उनकी तरफ से सिर्फ एक सुझाव है कि आप अपने परफार्मेंस में कैसे सुधार कर सकती हैं। इसलिए इसे प्रोफेशनल तरीके से लें और खुद में सुधार करें।

यह भी पढ़ें :- सिज़ोफ्रेनिया से बचना है, तो जरूरी है इसके ट्रिगर प्वॉइंट्स को पहचानना

3. सुझावों को नोट कर लें

आप अपने बॉस के द्वारा कही गई बातों को नोट कर लें। साथ ही उनसे पर्सनली मिलकर इस पर चर्चा करें और सुधार के प्रयास करें। किसी भी बात को नोट करना, उसे याद रख पाने में मदद करता है। साथ ही भविष्य में बेहतर करने के लिए आप उस डायरी को पलट सकती हैं। अगर आप ऐसा करती हैं, तो इससे आपको अपनी गलतियों से सबक लेने का मौका मिलता है और आप अपने काम को सही से ढंग से कर पाने में सक्षम होते हैं।

4 कन्फ्यूजन दूर कर लें

कई बार होता ये है कि बॉस को भी याद नहीं रहता कि उन्होंने आपको क्या कहा। वह कुछ बातों को लेकर कंफ्यूज भी हो सकते हैं या फिर हो सकता है दूसरो को कुछ सलाह देना चाहते हों या फिर ये हो सकता है कि वह गलती से आपको कुछ कह रहे हों। इस तरह के उलझे मामलो में आपको कुछ भी सोचने से पहले एक बार अपने बॉस से कन्फर्म कर लेना चाहिए। किसी भी चीज को शुरू करने या खत्म करने से पहले कन्फ्यूजन दूर कर लेना सबसे अच्छा होता है।

यह भी पढ़ें :- ये 7 मानसिक व्यायाम न केवल आपकी मेमोरी बढ़ाएंगे, बल्कि तनाव से भी देंगे राहत

5 सकारात्मक दृष्टिकोण रखें

बॉस ने सहकर्मी से आपके बारे में क्या कहा इसके बारे में जान लेने के बाद उस पर सकारात्मक दृष्टिकोण रखें। कभी-कभी बातें बहूत छोटी होती हैं और आप तक पहुंचते बहुत बड़ी लगने लगती हैं। इसलिए हर बात को स्रोत तक पहुंचना जरूरी है। अगर आप ऐसा कुछ सुन रहीं हैं, जो सीधे आपसे नहीं कहा गया, पर आपके या आपके काम के बारे में कहा गया है, तो इस पर बात करना बहुत जरूरी है। पर सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ।

अगर बॉस की आलोचनाएं आपके प्रति व्यक्तिगत हो जाए तो ये करना चाहिए

यदि आपका बॉस आपकी आलोचना करता है, तो सबसे पहले आपको ये कहकर उसे स्वीकार करना चाहिए कि ये उनकी पर्सनल राय है। अगर आप पेशेवर तरीके से उनकी आलोचनाओं का जवाब देना सीख गए तो ये सबक आपकी मदद सकता है। याद रखिए, आपकी आलोचना इसलिए नहीं की जा रही है क्योंकि आप बुरे हैं। आपकी आलोचना इसलिए हो रही है ताकि आपकी परफार्मेंस बेहतर हो।

पुरानी कहावत है, निंदक नियरे राखिए। यानी अपनी आलोचना करने वाले को अपने आसपास ही रखिए। ये आपको और बेहतर होने का अवसर उपल्बध करवा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- थोड़ी ही सही, पर रोज़ पीना आपके दिल और दिमाग दोनों के लिए हो सकता है जोखिम भरा

  • 101
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory