Chronic Depression : यहांं हैं डिप्रेशन के बारे में सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले सवालों के जवाब

अवसाद एक प्रमुख मानसिक स्वास्थ्य समस्या है। अकेलापन, जरूरत से ज्यादा अपेक्षाएं और वर्क लाइफ बैलेंस न कर पाने के कारण युवा इसके शिकार हो रहे हैं। यह समाज और अर्थव्यवस्था के लिए भी एक चुनाैती बन गया है। यहां अवसाद के बारे में उन जरूरी सवालों के जवाब हैं, जिन्हें आप गूगल पर ढूंढ रहे हैं।
सभी चित्र देखे Depression ko dur kaise kar sakte hain
गर्मी आरंभ होने के साथ ही शरीर में इस तरह के बदलाव नज़र आने लगते हैं। शरीर में स्ट्रेस हार्मोन बढ़ने से वेटगेन का खतरा भी बढ़ जाता है चित्र: शटरस्टॉक
योगिता यादव Updated: 13 Mar 2024, 12:25 pm IST
  • 125
मेडिकली रिव्यूड

अवसाद यानी डिप्रेशन व्यक्ति के महसूस करने के, सोचने और कार्य करने के तरीके को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। अवसाद उदासी की भावनाओं या दिन भर की गतिविधियों के प्रति उदासीन होने का कारण बनता है, जिन्हें पहले व्यक्ति ठीक तरह से कर लिया करता था। इससे कई तरह की भावनात्मक और शारीरिक समस्याएं भी हो सकती हैं। ऑफिस और घर पर काम करने की क्षमता कम हो सकती है। लोग अब इसके बारे में जागरुक हो रहे हैं और बात कर रहे हैं। पर कोई भी गलत जानकारी स्थिति को और भी खतरनाक बना सकती है। इसलिए यहां हम उन सभी सवालों के जवाब दे रहे हैं, जो लोग अवसाद या डिप्रेशन (FAQs about depression) के बारे में बार-बार पूछ रहे हैं।

जानिए क्या है अवसाद 

अवसाद वास्तव में एक डिसऑर्डर है, जो लगातार उदासी की भावना और उन चीजों एवं गतिविधियों में रुचि की कमी का कारण बनता है, जिनका कभी व्यक्ति आनंद लेता था। इससे सोचने, चीजों को याद रख पाने, खाने और सोने में भी कठिनाई हो सकती है।

जीवन की कठिन स्थितियों पर दुखी होना सामान्य बात है। अवसाद इस मायने में अलग है कि यह व्यावहारिक रूप से कम से कम दो सप्ताह तक हर दिन बना रहता है। इसमें उदासी के अलावा अन्य लक्षण भी शामिल होते हैं।

अलग-अलग तरह का हो सकता है अवसाद (Types of depression)

डिप्रेशन या अवसाद कई प्रकार का हो सकता है। क्लिनिकल डिप्रेशन या प्रमुख अवसाद विकार सबसे गंभीर प्रकार का अवसाद है। उपचार के बिना अवसाद बदतर हो सकता है। यह लंबे समय तक बना रह सकता है। गंभीर मामलों में यह आत्महत्या या मृत्यु का कारण भी बन सकता है। इसके लक्षणों को सुधारने में उपचार प्रभावी हो सकते हैं।

kisi apne ko khone ka gum bhi depression ko janm de sakta hai
किसी अपने को खाेने का गम भी अवसाद को ट्रिगर कर सकता है। चित्र : अडोबीस्टाॅक

पुरुषों की तुलना में महिलाओं को होता है ज्यादा जोखिम 

मेंटल हेल्थ जर्नल के अनुसार, अवसाद अनुमानित रूप से 15 वयस्कों (6.7%) में से एक को प्रभावित करता है। छह में से एक व्यक्ति (16.6%) अपने जीवन में कभी न कभी अवसाद का अनुभव करता है। अवसाद किसी भी समय हो सकता है। अवसाद के सबसे ज्यादा मामले  किशोरावस्था के अंत से लेकर 20 के दशक के मध्य तक देखे जाते हैं। इस उम्र में व्यक्ति को अपने मानसिक स्वास्थ्य पर सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरूरत होती है।

पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अवसाद का अनुभव होने की संभावना अधिक होती है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि एक तिहाई महिलाएं अपने जीवनकाल में बड़े अवसाद प्रकरण का अनुभव करती हैं। प्रथम श्रेणी के रिश्तेदारों (माता-पिता/बच्चे/भाई-बहन) को अवसाद होता है, तो संबंधित व्यक्ति को अवसाद होने की संभावना लगभग 40% बढ़ जाती है।

अवसाद होने पर एक व्यक्ति में नजर आ सकते हैं ये लक्षण (Symptoms of depression)

  1. अवसाद के लक्षण हल्के से लेकर गंभीर तक भिन्न हो सकते हैं।  उदास महसूस करना, मन उदास होना या सामान्य गतिविधियों के प्रति उदासीनता।
  2. भूख न लगना, भूख अधिक लगना, वजन कम होना या बढ़ना
  3. नींद की कमी या बहुत अधिक सोना
  4. एनर्जेटिक महसूस नहीं करना या थकान में वृद्धि
  5. उद्देश्यहीन शारीरिक गतिविधि में वृद्धि उदाहरण के लिए स्थिर बैठने में असमर्थता, बहुत अधिक चलना, बहुत अधिक हाथ मिलाना या धीमी गति से बोलना। ये क्रियाएं इतनी गंभीर होनी चाहिए कि दूसरों द्वारा नोटिस की जा सकें।
  6. अपने आप को यूजलेस या दोषी महसूस करना।
  7. सोचने, ध्यान केंद्रित करने या निर्णय लेने में कठिनाई अनुभव होना।
  8. आत्महत्या के विचार आना या इसका प्रयास करना।

जानते हैं अवसाद के  बारे में बार-बार पूछे जाने वाले सवालों के जवाब (FAQs about Depression) 

1 महिलाओं को डिप्रेशन होने की संभावना अधिक क्यों होती है?

महिलाओं में पुरुषों की तुलना में दोगुना अवसाद विकसित होता है। इसका एक कारण हार्मोन के स्तर में होने वाले विभिन्न बदलाव हो सकते हैं, जो महिलाएं अनुभव करती हैं। उदाहरण के लिए, गर्भावस्था और रजोनिवृत्ति के दौरान अवसाद आम है।

साथ ही बच्चे को जन्म देने के बाद, गर्भपात से पीड़ित होना या हिस्टेरेक्टॉमी होना, ये सभी ऐसे समय होते हैं जब महिलाओं को हार्मोन में भारी उतार-चढ़ाव का अनुभव होता है। प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (PMS) और प्रीमेंस्ट्रुअल डिस्फोरिक डिसऑर्डर (PMDD), जो पीएमएस का चरम रूप है, अवसाद का कारण बन सकता है।

2 क्या अवसाद से ग्रस्त अधिकांश लोग आत्महत्या करने का प्रयास करते हैं?

नहीं, यह जरूरी नहीं है कि अवसाद से पीड़ित सभी लोग आत्महत्या का प्रयास करें या उसके बारे में सोचें। मगर आंकड़े बताते हैं कि अवसाद से पीड़ित होने के कारण आत्महत्या के प्रयास का जोखिम ज्यादा बढ़ जाता है। मेंटल हेल्थ जर्नल के अनुसार, आत्महत्या करने वाले 30%-70% पीड़ित किसी न किसी रूप में अवसाद से पीड़ित होते हैं।

3 क्या जिस व्यक्ति को अवसाद हो चुका है, वह उपचार के बाद दोबारा इससे पीड़ित हो सकता है?

यह हो सकता है, एक बार अवसाद का अनुभव करने के बाद व्यक्ति को भविष्य में भी ऐसा होने  का जोखिम बढ़ जाता है। इसके लिए व्यक्ति की भावनात्मक संरचना जिम्मेदार हो सकती है। कोई एक व्यक्ति यदि भावनात्मक रूप से कमजाेर है और चीजों को ठीक तरह से डील नहीं कर पाता है, तो डिप्रेशन का जोखिम बढ़ सकता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

मगर यह सभी के साथ हो, यह जरूरी नहीं है। कभी-कभी अवसाद किसी प्रमुख जीवन घटना, बीमारी या किसी निश्चित स्थान और समय के लिए विशेष कारकों के संयोजन से उत्पन्न होता है। अवसाद बिना किसी स्पष्ट कारण के भी हो सकता है।

4 अवसाद कितने समय तक रहता है?

यदि उपचार न किया जाए तो विभिन्न प्रकार के अवसाद विकार महीनों या कभी-कभी वर्षों तक बने रह सकते हैं। अवसादग्रस्तता की पहचान लक्षणों के एक समूह से होती है, जो आम तौर पर कुछ महीनों तक रहते हैं।

depression kise kehte hain
मानसिक ऊर्जा के अधिक इस्तेमाल से व्यक्ति हर वक्त खुद को परेशान महसूस करता है। चित्र : शटरस्टॉक

5 मौसमी अवसाद क्या वास्तव में होता है? वह  कब  हो सकता है?

व्यक्ति का अपने आप को अकेला महसूस करना या उसका अकेला होना, अवसाद का एक प्रमुख ट्रिगर पॉइंट हो सकता है। साथ ही धूप या विटामिन डी की कमी उदासी की भावनाओं को बढ़ाने में योगदान करती है। अमूमन होलीडे सीजन, जिसे क्रिसमस के आसपास सर्दियों में माना जाता है, को मौसमी अवसाद के लि

इस समय सीजनल अफेक्टिव डिसऑर्डर या मौसमी अवसाद की चपेट में आने का जोखिम बढ़ जाता है। इस मौसम में विटामिन डी और सोशल कनैक्टिविटी दोनों कम हो जाते हैं। आइसोलेशन के कारण व्यक्ति उदास और यूजलेस महसूस कर सकता है। वसंत और गर्मियों के मौसम में इस स्थिति में सुधार हो सकता है। स्थिति अगर गंंभीर हो तो विशेषज्ञ से कंसल्ट जरूर करना चाहिए।

6 क्या डिस्टीमिया भी डिप्रेशन से संबंधित स्थिति है?

डिस्टीमिया जिसे आमतौर पर लगातार अवसादग्रस्तता विकार के रूप में जाना जाता है। अवसाद का एक हल्का और कभी-कभी कम पहचानने योग्य रूप है, जो वयस्कों में 2 साल या उससे अधिक समय तक रहता है। यह जीवन की गुणवत्ता को बाधित करता है और अगर इलाज न किया जाए तो बड़े अवसाद का कारण बन सकता है। अपने शरीर और मन में होने वाले किसी भी तरह के बदलाव के प्रति आपको सजग रहना होगा।

कभी-कभी आपके आसपास के लोग और माहौल भी इसे ट्रिगर कर सकता है। इसलिए यह जरूरी है कि आप इसके लक्षणों को पहचान कर सेल्फ हेल्प के लिए आगे बढ़ें।

यह भी पढ़ें – Cortisol Belly : आपके पेट पर जमी चर्बी का कारण कहीं तनाव तो नहीं? जानिए कोर्टिसोल बैली को कैसे कम करना है

  • 125
लेखक के बारे में

कंटेंट हेड, हेल्थ शॉट्स हिंदी। वर्ष 2003 से पत्रकारिता में सक्रिय। ...और पढ़ें

अगला लेख