Complex thinker : ये 5 संकेत बताते हैं कि आप एक कॉम्प्लेक्स थिंकर हैं, ओवर थिंकिंग से भी ज्यादा परेशान कर सकती है ये आदत

अक्सर वे लोग जो कई बार छोटी बातों को देर तक सोचते रहते हैं। वे काम्प्लेक्स थिंकर की कैटेगरी में आते हैं। जानते है वो 5 साइन जो बताते हैं कि आप एक कॉम्प्लेक्स थिंकर है।
Apathy ke kaaran
कई बार किसी बात को लेकर बार.बार सोचना हमारी मेंटल हेल्थ के लिए परेशानी का कारण भी बन सकता है। चित्र अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Updated: 30 Jun 2023, 16:54 pm IST
  • 141

देर तक किसी विषय पर सोचना और फिर किसी नतीजे पर पहुंचना, डीप थिकिंग का परिचय देता है। अक्सर वे लोग जो कई बार छोटी बातों को देर तक सोचते रहते हैं। वे काम्प्लेक्स थिंकर की कैटेगरी में आते हैं। हांलाकि ये लोग स्वभाव के जिद्दी भी होते हैं, जो आसानी से दूसरों की बातों को एडॉप्ट नहीं करते हैं। जानते हैं वो कौन से साइन है, जो इस ओर इशारा करते हैं कि आप एक काम्प्लेक्स थिंकर हैं (Signs of complex thinker)।

इस बारे में राजकीय मेडिकल कालेज हलद्वानी में मनोवैज्ञानिक डॉ युवराज पंत का कहना है कि वे लोग जो डीप थिंकिर होते हैं। वे प्रोबलम साल्विंग स्किल्स से लेकर डिसिजन मेकिंग तक हर चीज़ आगे होते हैं। कई बार देर तक सोचना उनकी मेंटल हेल्थ को भी प्रभावित करता है। वे किसी भी जटिल समस्या को देर तक सोच विचार करने के बाद ही हल करते हैं। पूरी तरह से चीजों को इवेल्यूएट करने वाले ये लोग अन्य लोगों से बातचीत करना खूब पसंद करते हैं। ऐसे लोगों के मूड स्विंग होना आम बात है। कभी बार ज्यादा सोचना इन्हें दिशाहीन भी बना देता है।

इन बातों से जानें कि आप एक काम्प्लेक्स थिंकर हैं

1. रियल लाइफ और सोच में तालमेल की कमी

ऐसे लोग इमेजिनेटिड वल्र्ड में रहना पसंद करते हैं। जो रियल लाइफ से बिल्कुल अलग थलग होती है। दिनभर अपने ख्यालों में उलझे रहने के चलते इनकी सोच इन पर हावी होने लगती है। दूसरों के जीवन में उठापटक भी इनकी सोच का हिस्सा बन जाती है। अपने आप में ही मसरूफ रहने वाले ऐसे लोग दिनभर गहरी सोच में रहते है।

over thinking ke nuksaan
जानते हैं वो कौन से साइन है, जो इस ओर इशारा करते हैं कि आप एक काम्प्लेक्स थिंकर हैं।

2. जिद्दी स्वभाव

ऐसे लोग दूसरों की बातों पर जल्दी यकीन नहीं करते हैं। डॉ युवराज बताते हैं कि ऐसे लोगों से डील करने के लिए उन्हें कंविन्स करना ज़रूरी होता है। ये लोग मनमौजी और जिद्दी स्वभाव के होते हैं। दूसरों की बातों को आसानी से एडॉप्ट नहीं करते हैं। चीजों को गहराई से समझने के बाद ही आगे बढ़ते हैं। किसी दूसरे व्यक्ति की इच्छा के मुताबित काम नहीं कर पाते हैं। तर्क की कसौटी पर खरा उतरने के बाद ही किसी बात को मानते हैं। इनका जिद्दी स्वभाव कई बार इनके लिए परेशानी का कारण भी बन जाता है।

3. लंबी बातचीत

ऐसे व्यक्ति देर तक किसी भी विषय पर चर्चा करना पंसद करते हैं। अधिकतर लोग ऐसे लोगों के पास बैठना पंसद नहीं करते हैं। दरअसल, ऐसी प्रवृति के लोग बिना आवश्यकता के किसी भी विषय पर अपनी राय कायम करने लगते हैं। अपने विचारों को दूसरों तक पहुंचाना इन्हें अच्छा लगता है। काम्प्लेक्स थिंकर लोगों से बातचीत का बहाना खोजते हैं और लंबे वक्त तक उनके साथ बैठकर बातचीत करना भी पसंद करते हैं।

4. मूड में अस्थिरता

इनका मूड कभी भी एक जैसा नहीं रहता है। कभी छोटी सी बात इनकी खुशी का कारण बन जाती है, तो कभी परेशानी की वजह। मूड स्विंग होने की समस्या ऐसे लोगों के साथ अक्सर रहती है। ये अपने इस व्यवहार के कारण कई बार लोगों की आलोचना का शिकार भी बन जाते हैं। इनके व्यवहार में असंतुलन देखने को मिलता है। ये दूसरों की कही बातों पर रिएक्ट करने लगते हैं और उसे दिल पर लगा लेते हैं। जो इनके मार्ग में रूकावट का काम करता है।

Mood swing ke kaaran
ये दूसरों की कही बातों पर रिएक्ट करने लगते हैं और उसे दिल पर लगा लेते हैं। चित्र: शटरकॉक

5. दिशाहीन सोच

ऐसे लोगों की सोच दिशाहीन रहती है। ये लोग एक समय में कई विषयों पर एक साथ सोचने लगते हैं, जिसके चलते अनेक विचार इनकी सोच को भटकाने लगते हैं। व्यर्थ के विचारों को दिमाग में लाकर देर तक सोचना आपकी मेंटल हेल्थ के लिए नुकसानदायक बनने लगता है। इस प्रवृति के लोग अपनी जिंदगी के अहम मुद्दों पर विचार करने की जगह गैर ज़रूरी मुद्दों पर गहराई से सोचने लगते हैं।

ये भी पढ़ें- मानसिक स्वास्थ्य विकार आपके व्यक्तित्व और संबंधों को भी करते हैं प्रभावित, शोध बता रहे हैं कैसे

  • 141
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख