People Pleasing : दूसरों को खुश करने की आदत आपको मेंटली बीमार कर सकती हैं, जानिए इस आदत को कैसे छोड़ना है

कुछ व्यक्ति के स्वभाव में ही पीपल प्लीजिंग होती है। वे बचपन से ही ऐसी के साथ बड़े हुए होते हैं। हालांकि, यह किसी भी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल भी उचित नहीं है।
people pleasing
किसी को खुश करने के लिए माफी मांग लेना, आपको तनाव दे सकता है. चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 16 Sep 2023, 21:30 pm IST
  • 120

पीपल प्लीजर कोई भी हो सकता है। पीपल प्लीजिंग करने वाले व्यक्ति आमतौर पर दूसरों को खुश करने के लिए किसी भी गतिविधि को करने के लिए तैयार रहता हैं, चाहे उस गतिविधि को करने में उसकी खुशी हो या न हो। आमतौर पर इसके लिए चाइल्डहुड ट्रॉमा, भावनात्मक आहत, कम उम्र में मां-बाप का गुजर जाना आदि जैसी अन्य घटनाएं जिम्मेदार हो सकती है। इसके अलावा कुछ व्यक्ति के स्वभाव में ही पीपल प्लीजिंग होती है। वे बचपन से ही ऐसी के साथ बड़े हुए होते हैं। हालांकि, यह किसी भी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य के लिए बिल्कुल भी उचित नहीं है। आप सामने वाले व्यक्ति के अनुसार चीजें करते तो हैं परंतु उसमें आपकी इच्छा इच्छा और खुशी शामिल नहीं होती।

तुलसी हेल्थ केयर, न्यू दिल्ली के साइकैटरिस्ट डिपार्मेंट के सीनियर कंसल्टेंट डॉक्टर गौरव गुप्ता ने पीपल प्लीजिंग से ओवरकम करने के कुछ टिप्स दिए हैं (how to stop People Pleasing)। तो चलिए जानते हैं आखिर आप दूसरों की खुशियों को परे रख अपनी खुशियां कैसे चुन सकती हैं।

एक्सपर्ट से जानें पीपल प्लीजिंग बंद करने के टिप्स

डॉक्टर गौरव गुप्ता कहते हैं “अपने आत्म-सम्मान को बढ़ाने, उचित सीमाएं स्थापित करने और अपनी मानसिक और भावनात्मक भलाई को बनाए रखने के लिए एक कठिन लेकिन महत्वपूर्ण कदम हर किसी को खुश करने की कोशिश करने की आदत को छोड़ना है। हर किसी को खुश करने की कोशिश से बचने के लिए आप यहां कुछ कदम उठा सकती हैं:

Intelligent logon ke sign
हर किसी को खुश करने की कोशिश से बचने के लिए आप यहां कुछ कदम उठा सकती हैं: चित्र: अडोबी स्टॉक

1. सेल्फ अवेयरनेस

सबसे पहला कदम अपने आप को स्वीकार करना है कि आप लोगों को खुश करने की प्रवृत्ति रखती हैं। पिछली परिस्थितियों पर विचार करें जहां आपने दूसरों को खुश करने के लिए अपनी जरूरतों और आदर्शों का त्याग किया था। अब अपने उस अनुभव से यह समझने की कोशिश करें कि आपको उस वक्त कैसा महसूस हुआ था। क्या आप बार-बार इस भावना को महसूस कर अपनी जिंदगी को इसी के इर्द-गिर्द बांधे रखना चाहती हैं या खुद की खुशियों को भी प्राथमिकता देना चाहती हैं। सेल्फ लव और सेल्फ अवेयरनेस से ही इस स्थिति से बाहर निकला जा सकता है।

यह भी पढ़ें : One Sided relationship: क्या मेंटल हेल्थ के लिए नुकसानदेह है एक तरफा प्यार? ये संकेत बताते हैं कि आप वन साइडेड रिलेशनशिप में हैं

2. अपनी आवश्यकताओं को महत्व देना शुरू करें

अपनी आवश्यकता, ऑब्जेक्टिव और वेलबिंग को प्राथमिकता देना शुरू करें। दूसरों की मदद करने से पहले अपना ख्याल रखना स्वार्थी होना नहीं होता, यदि आप शारीरिक और भावनात्मक रूप से स्वस्थ हैं, तो आप दूसरों का अधिक प्रभावी ढंग से समर्थन कर सकती हैं। लोगों से दूर होने के डर से चीजों को उनके हिसाब से करना बंद कर दें। अपनी आवश्यकताओं को और भावनाओं को महत्व देते हुए ही किसी भी कार्य को करें। लोगों की बातों में आकर उन्हें खुश करने के लिए कुछ भी न करें।

3. न कहना सीखें

लोगों को खुश करने वालों के लिए किसी को भी “न” कहना बहुत मुश्किल हो सकता है, लेकिन लोगों को मना करना और न कहना सीखना महत्वपूर्ण है। जब आवश्यक हो, इसे धीरे और दृढ़ता से कहने का अभ्यास करें, बिना यह महसूस किए कि आपको विस्तृत औचित्य प्रदान करने की आवश्यकता है।

4. सीमाएं निर्धारित करें

अपनी भावनाओं की देखभाल और दूसरों का सम्मान करने के बीच संतुलन बनाए रखना महत्वपूर्ण है। सीमाएं निर्धारित करना और दृढ़ रहना आपको स्वार्थी नहीं बनाता है। कई बार हम इसी गलतफहमी में बार बार दूसरों की वजह से अपनी भावनाओं को ठेस पहुंचाते रहते हैं। जैसे ही आप दूसरों के लिए एक सीमा रेखा निर्धारित कर लेती हैं आपको अधिक खुशहाल और वास्तविक जीवन जीने में मदद मिलती है।

Apni routine ko badle
यह खुद को खुश रखने का तरीका है। चित्र: शटरस्‍टॉक

5. याद रखें आप हर किसी को खुश नहीं रख सकती

इसे समझना थोड़ा कठिन है, लेकिन आपको यह अपनाना होगा कि आप हर किसी को खुश नहीं कर सकती हैं। सरल सत्य यह है कि आप हर समय हर किसी को खुश नहीं रख सकती, क्योंकि हर व्यक्ति की ज़रूरतें अलग-अलग होती हैं। किसी एक व्यक्ति को खुश करने के लिए एक निश्चित तरीके से कार्य करना किसी अन्य व्यक्ति को परेशान या नाराज कर सकता है। ऐसे में दूसरों को नहीं अपनी भावनाओं को प्राथमिकता दें। हां, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि दूसरों को कोई परेशानी न हों परन्तु उन्हें खुश करने के लिए खुदको परेशान न करें।

यह भी पढ़ें : कहीं आपका पार्टनर भी तो नहीं कर रहा इमोशनल डंपिंग, पहचानिए क्या हैं इसके संकेत और नुकसान

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 120
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख