दोस्ती में बढ़ता जा रहा है तनाव, तो इसे डार्क चॉकलेट के साथ करें खत्म

Updated on: 4 August 2022, 00:14 am IST

डार्क चॉकलेट का एक छोटा सा बार सिर्फ आपका मूड ही लिफ्ट नहीं करता, बल्कि बढ़ते जा रहे तनाव को भी कम कर सकता है।  

स्ट्रेस बस्टर भी है डार्क चॉकलेट, चित्र:शटरस्टॉक

तनाव हर किसी के जीवन में किसी चुपके-चुपके दाखिल होता जा रहा है। कभी-कभी तो यह इतना ज्यादा बढ़ जाता है कि इससे आपके रिश्ते भी प्रभावित होने लगते हैं। अगर आप भी ऐसा महसूस कर रहीं हैं, तो डार्क चॉकलेट आपकी मदद कर  सकती है। जी हां, डार्क चॉकलेट न केवल मूड लिफ्टर है, बल्कि ये तनाव को कम करने में भी मददगार है। इसलिए इस फ्रेंडशिप डे (Friendship day 2022) आइए जानते हैं मानसिक स्वास्थ्य पर डार्क चॉकलेट (Dark chocolate benefits) का प्रभाव। 

सभी के जीवन में बढ़ रहा है तनाव 

हर साल तनाव का स्तर अधिक से अधिक लोगों को प्रभावित कर रहा है। जब काम की डेडलाइन पास आती है और आपका कैलेंडर बुक होता है, ऐसे में हेल्दी डाइट के लिए समय निकालना किसी टास्क को पूरा करने जैसा ही होता है। लेकिन जब तनाव के स्तर को कम करने की बात आती है, तो केवल आंखें मूंद कर गहरी सांस लेने भर से इससे छुटकारा नहीं पाया जा सकता। ऐसे में कुछ खास फूड्स हैं जो आपकी मदद कर सकते हैं। डार्क चॉकलेट ऐसा ही एक फूड है, जो आपको तुरंत तनाव से छुटकारा दे सकती है।

skin ke liye healthy hai dark chocolate
डार्क चॉकलेट में मौजूद तत्त्व आपको हैप्पी फील कराते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्या है तनाव और सेहत का कनेक्शन 

आपकी डाइट आपकी पूरी सेहत पर असर डालती है। यह आपकी मानसिक सेहत को भी उतना ही प्रभावित करती है, जितना कि आपकी शारीरिक सेहत को। इसलिए आपको अपनी डाइट पर ध्यान देना जरूरी है। अगर आप या  आपकी  दोस्त तनाव से जूझ रहे हैं, तो चिकित्सीय सलाह लेने के साथ-साथ अपनी डाइट में डार्क चॉकलेट को भी शामिल कर सकती हैं। यह तनाव के स्तर को कम करने में मदद कर सकती है।

मूड लिफ्टर भी है चॉकलेट  

चॉकलेट काफी रिलैक्सिंग होती है। इसलिए इसे खाने से आपका मूड अच्छा हो सकता है। डार्क चॉकलेट में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ये आपके शरीर में तनाव को कम कर सकती है। लेकिन इसका अधिक मात्रा में सेवन नुकसान भी पहुंचा सकता है।

क्या कहती है रिसर्च

डार्क चॉकलेट खाने वालों के लिए यह एक अच्छी खबर है। हाल ही में हुए एक शोध में वैज्ञानिकों ने बताया कि कोको, फ्लेवेनॉयड का मुख्य स्रोत है। यह मनुष्य के दिमाग, हृदय और रक्तवाहिनी संबंधी तंत्रिका तंत्र को भी प्रभावित कर सकती है। फ्लेवोनॉयड्स एक प्राकृतिक पोषक तत्व है, जो फलों, सब्जियों और अनाज में पाया जाता है।

इन शोधों में शामिल अमेरिका की लोमा लिंडा यूनवर्सिटी के ली एस बर्क ने चॉकलेट से जुड़े अध्ययन पर बात करते हुए कहा, ‘सालों तक हमने यह अध्ययन किया कि डार्क चॉकलेट की शुगर की मात्रा का नर्व्स फंक्शन पर क्या असर डालती है। चीनी खाने से हम ज्यादा खुश होते हैं। 

डार्क चॉकलेट से मेमोरी, मूड और इम्यूनिटी तीनों पर होता है पॉज़ीटिव असर, चित्र: शटरस्टॉक

“इस अध्ययन में हमने एक निश्चित आकार के अधिक कोको वाले चॉकलेट बार के प्रभाव का आंकलन किया। लंबे समय और कम समय के लिए इसके प्रभाव के विषय में समझना हमारा उद्देश्य था और हमें काफी सकारात्मक परिणाम मिले।” शोध अध्ययनों में प्रमुख जांचकर्ता के रूप में कार्य करने वाले बर्क ऐसी दो शोध टीमों का हिस्सा रहे हैं। इन अध्ययनों में पाया गया कि कोको की अधिकता यानी डार्क चॉकलेट से मेमोरी, मूड और इम्यूनिटी तीनों पर पॉज़ीटिव असर हुआ। 

और भी हैं फायदे 

यह बात सामने आयी है कि डार्क चॉकलेट, स्ट्रेस यानी तनाव को कम करती है जबकि मूड, याददाश्त और इम्यूनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता को दुरुस्त करने में मदद कर सकती है। इतना ही नहीं इसका सेवन दिल के रोग, कैंसर आदि जैसी गंभीर बीमारियों से बचाने में भी मदद करता है। 

एक दिन में कितनी चॉकलेट खा सकते हैं?

40 ग्राम वजन वाली डार्क चॉकलेट में 190 कैलोरी होती है। एक्सपर्ट के मुताबिक, एक दिन में 30 से 60 ग्राम से अधिक चॉकलेट नहीं खानी चाहिए, क्योंकि इससे कैलोरी काउंट बढ़ता है। इसलिए अगर आप अपनी दोस्त को इस फ्रेंडशिप डे चॉकलेट गिफ्ट करने वाली हैं, तो बड़ा नहीं बस एक छोटा चॉकलेट बार गिफ्ट करें। 

यह भी पढ़ें: Stop body shaming : बैली फैट का मतलब प्रेगनेंट होना नहीं है, जानिए आप कैसे कर सकती हैं बॉडी शेमिंग का विरोध

शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें