अपने बोरिंग मॉर्निंग रूटीन को पीछे छोड़कर अपनाएं ये 5 अच्छी आदतें, बढ़ेगी हैप्पीनेस

काम में मन नहीं लग रहा या मोटिवेशन में कमी महसूस कर रही हैं तो आपको अपने मॉर्निंग रूटीन को बदलने की ज़रूरत है। तो चलिये जानते हैं कुछ ऐसी आदतें जिन्हें अपने मॉर्निंग रूटीन का हिस्सा बनाने पर आपको मिल सकता है सही मोटीवेशन।

meditation ke fayde
नियमित ध्यान करें . चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 19 November 2022, 14:00 pm IST
  • 130

हम सुबह अलार्म की घंटी के साथ उठते हैं, फ्रेश होते हैं, नहाते हैं, ब्रेकफास्ट करते हैं और काम पर चले जाते हैं। यही हमारा हर रोज़ का रूटीन होता है और जिस दिन छुट्टी होते हैं उस दिन देर तक बस सोते रहते हैं। इतना बोरिंग मॉर्निंग रूटीन होने के बाद हम कहते हैं कि हमें मोटिवेटेड (motivated) फील नहीं हो रहा है या हमारा काम में मन नहीं लग रहा है।

यदि आपका मॉर्निंग रूटीन (Morning routine) भी कुछ ऐसा ही है और आपको समझ नहीं आ रहा है कि आपका काम में मन क्यों नहीं लग रहा है, तो आपको इसे बदलने की ज़रूरत है। आपका मॉर्निंग ऐसा होना चाहिए जो आपको ताज़गी से भर दे और पूरा दिन काम करने की ऊर्जा प्रदान करे।

जीवन में सही रूटीन अपनाकर आप न सिर्फ अपना काम अच्छे से कर सकती हैं, बल्कि यह सेहत के लिए भी वरदान साबित हो सकता है।

तो चलिये जानते हैं ऐसी ही कुछ आदतों के बारे में जिन्हें आपको अपने मॉर्निंग रूटीन में शामिल करना चाहिए

सही समय पर उठें

2021 के एक अकादमिक अध्ययन में पाया गया कि सिर्फ एक घंटे पहले जागने से अवसाद का दर 23% कम हो सकता है। इसलिए सुबह जल्दी उठने की कोशिश करें और जल्दी उठने के लिए रात में समय पर सोना बहुत ज़रूरी है। इसलिए अपना स्लीपिंग पैटर्न सही रखें और समय पर सोने और जागने का प्रयास करें।

सुबह मेडिटेट करें

रोज़ सुबह खुद के लिए थोड़ा सा समय निकालकर मेडिटेट करने की कोशिश करें। इससे आपको अपने पूरे दिन के लिए सही ऊर्जा मिल जाएगी। हर दिन की भाग – दौड़ के बीच आपको खुद को रिलैक्स करने और मन को शांत करने का समय नहीं मिलता होगा। इसलिए हर रोज़ सुबह 15 से 20 मिनट ही सही पर ध्यान लगाएं।

journaling karein
जर्नल में लिखना आपकी मदद कर सकता है. चित्र : शटरस्टॉक

अपनी दिनचर्या के बारे में लिखें

जब हम खूद के लिए वक़्त निकालते हैं, तो खुद पर रिफ्लेक्ट करने के लिए टाइम मिलता है। यह करने के लिए जर्नल लिखने से बेहतर और कोई चीज़ नहीं हो सकती है। इसलिए हर सुबह कुछ न कुछ लिखें – भले ही वे बीते हुये दिन की अच्छाइयों के बारे में हो या आने वाले दिन की प्लानिंग करना। बस कुछ भी लिखें पॉज़िटिव अपप्रोच के साथ।

सोशल मीडिया और फोन से दूर रहें

हर रोज़ खुद के साथ थोड़ा समय बिताने के लिए फोन का इस्तेमाल न करें। इसके अलावा, सोशल मीडिया से भी दूर रहने का प्रयास करें, क्योंकि आपको नहीं पता है कि सोशल मीडिया पर क्या कब और कैसे कोई भी पोस्ट आपका मूड खराब कर जाएगी। इसलिए सुबह उठकर अपना टाइम फोन में न बर्बाद करें। भले ही खाली बैठें, कुछ देर शांत रहें, व्यवयम करें, लेकिन सोशल मीडिया से दूर रहें।

एक्सरसाइज़ करें और ब्रेकफास्ट स्किप न करें

सुबह उठकर एक्सरसाइज़ करना उतना ही ज़रूरी है जितना कि नाश्ता करना। यह दोनों ही चीज़ें बहुत महत्वपूर्ण हैं और आपकी सेहत के लिए ज़रूरी भी। एक्सरसाइज़ करने और सुबह प्रोटीन से भरपूर नाश्ता करने से आपको शारीरिक और मानसिक रूप से ऊर्जा मिलेगी और आप दिनभर की भागदौड़ के लिए खुद को रेडी कर पाएंगी।

यह भी पढ़ें : मीठा खाने से नहीं होती शुगर, एक्सपर्ट से जानते हैं डायबिटीज से जुड़े ऐसे ही कुछ मिथ्स और उसकी सच्चाई

  • 130
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें