डियर गर्ल्स, उदास न हों! ये टिप्स आपको अकेले होते हुए भी मानसून एन्जाॅय करने में मदद करेंगी

Published on: 29 June 2022, 16:12 pm IST

बरसात का मौसम भले ही रोमांटिक कहा जाए, पर कुछ लोग इस मौसम में भी खुद को अकेला और उदास महसूस करते हैं। यहां आपको इस तरह की भावनाओं से उबरने के टिप्स दिए गए हैं।

kya hain monsoon blues
क्या है मानसून ब्लूज और इससे निपटने के तरीके। चित्र : शटरस्टॉक

बारिश का मौसम यूं तो सुहावना होता है, हर किसी का दिल खुश हो जाता है। मगर कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें बारिश में उदास या सुस्त महसूस होता है। कई लोगों को मानसून खुशी नहीं देता, बल्कि बरसात के मौसम में उन्हें रुला जाता है, अकेलेपन का एहसास कराता है। यदि आपके साथ भी ऐसा ही कुछ होता है, तो आप भी मानसून ब्लूज (Monsoon blues) की शिकार हैं।

क्या है मानसून ब्लूज़ ?

इसे SAD यानी सीज़नल अफेक्टिव डिसऑर्डर कहा जाता है। यह एक प्रकार का डिप्रेशन है जो मौसमी पैटर्न में बदलाव की वजह से आता है। इसे आमतौर पर सीजनल डिप्रेशन के रूप में जाना जाता है, और यह किसी भी मौसम में हो सकता है।

यदि आपने कभी लगातार अपने मूड में चिड़चिड़ापन, गुस्सा, दैनिक गतिविधियों में रुचि की कमी, ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई महसूस की है, तो यह सीज़नल अफेक्टिव डिसऑर्डर (Seasonal affective disorder) की वजह से हो सकता है। आजकल की मिलेनियल लैग्वेज में इसे मानसून ब्लूज के नाम से जाना जाता है।

ये है मानसून ब्लूज की वजह (Monsoon blues causes)

मानसून ब्लूज का शिकार होने पर व्यक्ति को पूरे दिन सुस्ती और नींद का अनुभव होता है। जब सूरज की रोशनी कम होती है, तो विटामिन डी का स्तर कम हो जाता है। इससे सेरोटोनिन के स्तर में कमी आती है। यह एक न्यूरोट्रांसमीटर जो एक प्राकृतिक मूड स्टेबलाइजर है और खाने, सोने, पाचन आदि के लिए जिम्मेदार है।

यहां हैं कुछ टिप्स जो मानसून ब्लूज से उबरने में आपकी मदद करेंगे

1 लंबी सैर पर निकलिए

बारिश में वॉक पर जाना बहुत अच्छा लगता है। वाकई अगर हल्की – हल्की बारिश हो रही हो, तो वॉक पर जाएं। ताज़ी हवा में सांस लें और थोड़ा वक्त हरियाली के बीच गुजारें। साथ ही, गर्मा – गर्म भुट्टों का आनंद लेते हुये खुद को स्पेशल फील कराएं। यकीनन आपको बहुत अच्छा लगेगा।

baarish mein walk karein
कुछ मानसिक और रचनात्मक आराम पाने के लिए प्रकृति के चमत्कारों का आनंद लें। चित्र-शटरस्टॉक।

2 एक गर्म कप कॉफी और कुछ मन पसंद एक्टिविटीज

यदि बाहर बहुत तेज़ बारिश हो रही तो सबसे अच्छा तरीका है कि घर पर अपने साथ कुछ वक़्त बिताएं। घर पर ही, खुद के लिए चाय और स्नैक्स बनाएं। खुद के लिए कुछ पकाना भी काफी थेरेप्यूटिक होता है। आप कोई अच्छी सीरीज या मूवी देख सकती हैं। खुद के साथ समय बिताना और अपनी मन पसंद एक्टिविटीज करना मूड को तुरंत बूस्ट कर देगा और आपको अंदर से खुशी महसूस होगी।

3. अकेलेपन को दूर करें

यदि आप परिवार वालों से दूर रहती हैं, तो खुद को इस मौसम में इस वजह से उदास न होने दें। कुछ अच्छा करें। बारिश में गानें सुनें, अपने लिए अच्छा बनाएं, जो आपको पसंद हो। आप चाहें तो एक कप कॉफी के साथ बारिश का आनंद लेते हुये अपनी फेवरिट बुक भी पढ़ सकती हैं।

koi nai skill seekhnaa ban saktaa hai khushi kaa zariyaa
कोई नई स्किल सीखना बन सकता है खुशी का ज़रिया। चित्र: शटरस्टॉक

4. अपने आसपास की जगह को रोशन करें

अब यदि बरसात के मौसम में आप अपने घर की सभी लाइट्स बंद करके रखेंगी, तो आपको उदास ही महसूस होगा। इसलिए घर में शाम को सभी लाइट्स ऑन कर दें। अच्छे से नहाएं और थोड़े ब्राइट कलर के कपड़े पहनें, क्योंकि रगों का हमारे मूड पर बहुत असर पड़ता है। गुलाबी, नीला, पीला, हरा, चमकीला नारंगी आदि रंग आपके मूड को तुरंत सुधार देते हैं।

5. शारीरिक गतिविधि जरूरी है

मानसून में शारीरिक गतिविधि बहुत ज़रूरी है। इसलिए रोज़ सुबह उठकर योग और व्यायाम करें। जिम नहीं जाना चाहती या नहीं जा पा रहींं, तो घर पर ही एक्सरसाइज़ करें। शारीरिक गतिविधि बनाए रखने से मूड भी अच्छा रहता है और इसकी वजह से आपको सुस्ती भी महसूस नहीं होगी। मेडिटेशन और योगा भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

कभी अपने पसंदीदा गाने पर डांस करें। डांसिंग न सिर्फ कैलोरी बर्न करने में आपके लिए मददगार है, बल्कि यह आपका मूड भी बूस्ट करेगी।

यह भी पढ़ें : बरसात में शाम की चाय के साथ लें अरबी के कबाब का आनंद, नोट कीजिए रेसिपी

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें