वैलनेस
स्टोर

आपके बिगड़ते मानसिक स्वास्थ्य का कारण हो सकती है आयरन डेफिशिएंसी, विशेषज्ञ बता रहीं हैं इसका कारण

Published on:15 September 2021, 15:00pm IST
आयरन आपके मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। इसकी कमी से तनाव, चिंता और कॉगनिटिव फंक्शन बिगड़ (impaired cognitive function) सकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 95 Likes
iron aur mental health
आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी है आयरन। चित्र : शटरस्टॉक

हमारे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए खनिज अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। वे आपकी हड्डियों, मांसपेशियों और आपके हृदय और मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। इसकी कमी से, हड्डियों के नुकसान, मांसपेशियों में ऐंठन, कमजोर इम्युनिटी, थकान और हृदय, मस्तिष्क, लिवर और फेफड़ों की बीमारियां हो सकती हैं। आयरन की कमी के मामले में मानसिक स्वास्थ्य भी प्रभावित हो सकता है।

क्यों जरूरी है आयरन

जब खनिज की बात आती है, तो आयरन समग्र शारीरिक स्वास्थ्य को विनियमित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसकी कमी से स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की मात्रा में कमी आ सकती है, जो शरीर के ऊतकों तक ऑक्सीजन ले जाने के लिए आवश्यक होती हैं। इसके अलावा थकान, कमजोरी और सीने में दर्द जैसे शारीरिक लक्षणों के अलावा मानसिक परेशानी भी आयरन की कमी का सूचक है।

मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे जैसे कि चिंता, घबराहट, अवसाद और कम संज्ञानात्मक कार्य जैसी स्थितियां, आयरन की कमी से जुड़ी हुई हैं। वास्तव में, ‘मनोचिकित्सा और नैदानिक ​​तंत्रिका विज्ञान’ (Psychiatry and Clinical Neurosciences) में प्रकाशित एक शोध के अनुसार, आयरन की कमी उच्च मनोवैज्ञानिक संकट से जुड़ी है।

आयरन की कमी और मानसिक स्वास्थ्य के बीच संबंध

हमने इस लिंक को बेहतर ढंग से समझने के लिए फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट में क्लिनिकल न्यूट्रीशनिस्ट एंड डायटेटिक्स, दीप्ति खाटूजा से बात की।

mental health aur iron
मानसिक स्वास्थ्य को बनाएं रखने के लिए आहार में शामिल करें आयरन। चित्र : शटरस्टॉक

खाटूजा के अनुसार, “लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में आयरन महत्वपूर्ण है। यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि ऑक्सीजन शरीर के सभी हिस्सों तक पहुंच रही हैं। लंबे समय में, आयरन की कमी होने से न केवल आपके शारीरिक स्वास्थ्य पर, बल्कि आपके दिमाग पर भी असर पड़ेगा।

एकाग्रता में कमी भी आयरन की कमी के करण हो सकती है। जब आपके शरीर को आयरन की कमी के कारण पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल रही है, तो आपको ध्यान केंद्रित करने और अपने दैनिक कार्यों को पूरा करने में मुश्किल हो सकती है। इसके अलावा, आप मूड स्विंग और चिड़चिड़ापन का अनुभव कर सकती हैं। समय के साथ, कुछ मामलों में, यह चिंता और अवसाद का कारण बन सकता है। इसलिए, ये सभी समस्याएं आपस में जुड़ी हुई हैं।”

आयरन की कमी का एक अन्य प्रमुख लक्षण थकान है। समय के साथ, शारीरिक रूप से थका हुआ महसूस करना आपकी दिनचर्या को प्रभावित कर सकता है और निराशा की भावना भी पैदा कर सकता है। जर्नल ऑफ न्यूट्रीशनल साइंस (Journal of Nutritional Science) में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों में आयरन की कमी थी, उन्हें सप्लीमेंट दिए गए और उन्हें कम थकान महसूस हुई। साथ ही उनके मानसिक स्वास्थ्य में भी सुधार हुआ।

खाटूजा ने कुछ सुझाव भी दिए कि आप आयरन की कमी को कैसे कम कर सकती हैं:

1. आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें:

सुनिश्चित करें कि आप हरी पत्तेदार सब्जियां, काला चना, चिवड़ा और गुड़ खाएं। हो सके तो अपने आहार में मांसाहारी खाद्य पदार्थों जैसे चिकन और मछली को शामिल करने का प्रयास करें।

iron rich foods khaen
मेंटल हैल्थ के लिए आयरन है बेहद ज़रूरी। चित्र:शटरस्टॉक

 

2. आयरन को अवशोषित करने में मदद करने वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें:

खाटूजा आपके शरीर को आयरन को अवशोषित करने में मदद करने के लिए विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करने की सलाह देती हैं। उन्होनें कहा, “ऐसे खाद्य पदार्थ खाना बेहद जरूरी है जो आयरन को अवशोषित करने में मदद कर सकें।

इसके लिए आप अपनी डाइट में विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थों को जरूर शामिल करें। तो, अपनी दाल या सब्जी में नींबू मिलाएं। आंवला का नियमित सेवन करें। इसके अलावा मौसमी खाद्य पदार्थ जैसे संतरा और स्वीट लेमन का सेवन करें।

3. फर्मेंटेड खाद्य पदार्थों का सेवन:

खटूजा के अनुसार, “फर्मेंटेशन की प्रक्रिया आयरन सहित पोषक तत्वों को अवशोषित करने में मदद करने के लिए भोजन की क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकती है। इसलिए स्प्राउट्स और अन्य फर्मेंटेड खाद्य पदार्थ खाएं।”

4. खाने के बाद चाय/कॉफी के सेवन के बीच एक घंटे का अंतराल रखना:

खाटूजा ने कहा, ”चाय और कॉफी शरीर की आयरन को अवशोषित करने की क्षमता को कम कर सकती है। इसलिए भोजन के साथ ऐसे पेय पदार्थों का सेवन करने से बचें। इसके अलावा, चाय/कॉफी और भोजन के बीच एक घंटे का अंतर रखें।

यह भी पढ़ें : Weight stigma : मोटापे से जुड़ी एक ऐसी समस्या, जो आत्महत्या तक ले जा सकती है

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।