फॉलो
वैलनेस
स्टोर

मनोचिकित्सक के अनुसार ये हैं वे 5 अच्‍छी आदतें, जो बनाती हैं आपको एक अच्‍छा श्रोता 

Updated on: 10 December 2020, 11:16am IST
किसी भी रिश्‍ते को बनाए रखने के लिए आपमें अच्‍छा श्रोता होना भी जरूरी है। यहां हमने एक मनोचिकित्‍सक से जाने अच्‍छा श्रोता होने के लिए जरूरी कुछ खास गुण। 
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 46 Likes
एक अच्छी सुनने की शक्ति आपको एक अच्छी व्यक्तित्व की पहचान देती है। चित्र: शटरस्टॉक

क्या कभी ऐसा हुआ कि बात करते-कतरे आप बोर होने लगती हैं? यदि आपका जवाब हां है, तो आपको अपने सुनने के कौशल को संवारने की आवश्यकता है। हम जानते हैं कि बहुत सी चीजें हैं, जो आज किसी व्यक्ति को विचलित कर सकती है। पर संबंधों को बनाए और बचाए रखने के लिए आपका एक अच्‍छा श्रोता होना भी बहुत जरूरी है। 

सिर्फ इतना ही नहीं, बल्कि आज की अत्यधिक जटिल दुनिया में, एक-दूसरे से बात करना बहुत ज़रूरी है, चाहे वह व्यक्तिगत स्तर पर हो या पेशेवर स्तर पर।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

अपनी भावनाओं के बारे में बात करना मुश्किल तो है, पर यह जरूरी भी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित एक लेख के अनुसार, इंसानों का औसत ध्यान केवल आठ सेकंड होता है। क्या यह विचित्र नहीं है? लेकिन हम चाहते हैं कि आप इससे बेहतर रहें, ताकि आप किसी के लिए दोस्त या विश्वासपात्र बन सकें।

“सुनने की कुंजी यह समझना है कि आप किसी व्यक्ति को क्यों सुन रहे हैं – क्या यह समस्या को हल करने या आपसी बॉन्डिंग के लिए है? हम अलग-अलग रिश्तों में अलग-अलग तरीके से सुनते हैं। इसलिए हमें अपने आप से एक सवाल पूछने की आवश्यकता है: हम व्यक्ति को क्यों सुन रहे हैं? हमारी प्रेरणा क्या है? ” मनोचिकित्सक डॉ. राहुल खेमानी कहते हैं।

एक अच्छा श्रोता बनने के लिए जरूरी हैं ये पांच गोल्‍डन रूल 

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, आपको अपने दिमाग को साफ करने की आवश्यकता है, क्योंकि केवल एक खाली दिमाग ही इस सारी जानकारी को समझ और सुन सकता है।

1.आंखों से संपर्क बनाए रखें

आई कॉन्‍टेक्‍ट प्रभावी संचार का आधार है। यह दर्शाता है कि आप किसी से बातचीत के दौरान उसमें रुचि रखते हैं, और आप समझते हैं कि दूसरा व्यक्ति किस बारे में बात कर रहा है। यह उन लोगों के बीच एक अंतर-व्यक्तिगत बंधन भी बनाता है जो बातचीत में हैं।

2.अपने फोन को खुद से दूर रखें

खैर, हमारे पास इतना कम ध्यान देने की अवधि का यह सबसे बड़ा कारण है। भले ही हमारे पास बात करने के लिए कंपनी है, लेकिन हम अभी भी अपने स्मार्टफोन में खुद को व्‍यस्‍त रखे हुए हैं। इसलिए इसे साइलेंट मोड में रखना महत्वपूर्ण है, खासकर जब आप बातचीत कर रहे हों।

जब आप किसी को सुन रहे है तो सारा ध्यान उसकी बातों पर ही केन्द्रित रखे,और अपने फोन को खुद से दूर रखे। चित्र: शटरस्टॉक

“बहुत सी चीजें हैं जो आपको विचलित कर सकती हैं, और उनमें से एक है आपका फोन। मैं सुझाव दूंगा कि इसमें शामिल न हों, अगर आपका फोन किसी बातचीत के बीच में बजता है। मेरा फोन हमेशा साइलेंट रहता है, लेकिन मैं इसे किसी भी आपात स्थिति के लिए अपने सामने रखता हूं। डॉ. खेमानी का सुझाव है कि इसके अलावा, ऐसी जगह पर न बैठें, जहां कोई बाहरी डिस्‍टर्बेंस न हो।

3.आपकी बॉडी लैंग्वेज बहुत मायने रखती है

यह प्रभावी संचार के लिए सबसे बड़े गैर-मौखिक कौशलों में से एक है। यदि आप बातचीत में उदासीन हैं, तो आपकी बॉडी लैंग्वेज यह साफ बयां कर देगी। उस स्थिति में, दूसरे व्यक्ति को पता चल जाएगा कि आप उसे सुन रहे हैं या नहीं। इसलिए समय-समय पर सिर हिलाते रहना, आंखों के इशारे करना या आगे की ओर झुकना कुछ मूल बॉडी लैंग्वेज कोड हैं जो मदद कर सकते हैं।

“आपकी बॉडी लैंग्वेज में भी भावनाएं हैं। यह विश्वास का निर्माण करता है। एक और बात जो एक अच्छे श्रोता के पास होनी चाहिए, वह है पूरी बातचीत में ठंडे दिमाग से मौजूद रहना, भले ही वह एक ही विचार प्रक्रिया से संबंधित हो।” 

4.प्रश्न पूछें

बातचीत को चालू रखने का यह एक और तरीका है। आप बहुत अच्छी तरह से बातचीत से संकेत ले सकते हैं। साथ ही, यह भी दर्शाता है कि आप उस व्यक्ति को सुन रहे हैं। लेकिन हां, उस व्यक्ति को बीच में रोकियेगा मत। एक बार बात करने के बाद आप अपने सवालों को दोहरा सकते हैं।

5.मार्गदर्शन करें, अगर आप ऐसी सिचुएशन में रहे हैं 

नहीं हम यह नहीं कह रहे कि आप किसी बात का निष्कर्ष दें, बल्कि अगर आप बातचीत में कुछ सकारात्‍मक जोड़ सकते हैं, तो वह है मार्गदर्शन। श्रोता के लिए भी कुछ जिम्‍मेदारी होती है, वह अगर ऐसी किसी सिचुएशन से निकल चुका है, तो वह अपने अनुभवों से मार्गदर्शन भी कर सकता है। इससे उनका मनोबल भी बढ़ेगा।

इस तरह आप खुद को ज्‍यादा आत्‍मविश्‍वास पूर्ण पाते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
दोस्‍त आपके लिए किसी थेरेपिस्‍ट की तरह काम करते हैं,इसीलिए हमेशा सही सुझाव देने का प्रयास करे। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसके अलावा, यदि आप जल्दी में हैं, तो बातचीत को जल्दी करने की कोशिश न करें, क्योंकि यह फायदेमंद नहीं होगा। बेहतर होगा कि आप समय की कमी के बारे में ईमानदार हों, और किसी और समय को ठीक करें ताकि आप शांति से बात कर सकें।

तो महिलाओं, यह पांच सुनहरे मंत्र हैं, जिन्‍हें फॉलो कर आप अपने दोस्‍तों और प्रियजनों के लिए एक बेहतर श्रोता बन पाएंगी। 

यह भी देखे:प्‍यारी सखियों, जीवन में इन 4 चीजों के लिए आपको माफी मांगने की कतई जरूरत नहीं है

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।