लॉग इन

Good Stress : हल्का-फुल्का तनाव भी होता है फायदेमंद, यहां हैं इसके 6 कारण

जिस प्रकार तनाव आपके लिए उचित नहीं है, गुड स्ट्रेस आपके मेंटल, फिजिकल और भावनातमक स्वास्थ्य के लिए अच्छा हो सकता है। प्रोडक्टिविटी बढ़ने के साथ ही आपके लिए इन 6 तरीकों से फायदेमंद हो सकता है गुड स्ट्रेस
सभी चित्र देखे
गुड स्ट्रेस आपके मेंटल, फिजिकल और भावनातमक स्वास्थ्य के लिए अच्छा हो सकता है. चित्र : शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 19 May 2024, 21:09 pm IST
ऐप खोलें

तनाव यानि की स्ट्रेस सेहत के लिए बेहद हानिकारक हो सकता है। पर क्या आपको मालूम है की कुछ ऐसी भी स्थिति हैं, जब तनाव आपके लिए अच्छा हो सकता है। “गुड स्ट्रेस” के नाम से जाना जाने वाला तनाव किसी भी अच्छे काम को करने से पहले और किसी चीज को लेकर अधिक उत्साहित होने पर नजर आता है। जिस प्रकार तनाव आपके लिए उचित नहीं है, ठीक उसके विपरीत गुड स्ट्रेस आपके मेंटल, फिजिकल और भावनातमक स्वास्थ्य के लिए अच्छा हो सकता है। गुड स्ट्रेस के सेहत पर कई सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलते हैं। तो चलिए इस कांसेप्ट को गहराई से समझते हैं।

गुड स्ट्रेस के विषय पर अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हेल्थ शॉट्स ने भारतीय काउंसलिंग साइकोलॉजिकल एसोसिएशन के प्रेसिडेंट और सीनियर क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डॉ. आशुतोष श्रीवास्त से बात की। तो चलिए डॉक्टर से जानते हैं इसे लेकर क्या है उनकी राय (good stress benefits)।

पहले जानें क्या है “गुड स्ट्रेस”

गुड स्ट्रेस,” जिसे साइकोलॉजिस्ट “यूस्ट्रेस” कहते हैं, यह एक प्रकार का तनाव है, जो अधिक उत्साहित होने पर महसूस होता है। इस दौरान हमारे पल्स रेट तेज हो जाते हैं और हार्मोन बढ़ जाते हैं, परंतु इसमें कोई खतरा या डर नहीं होता है। इस प्रकार के तनाव के उदहारण की बाद करें तो फैमिली प्लानिंग, नए व्यक्ति के साथ डेट पर जाना या अपनी जिंदगी की शुरुआत करना, प्रमोशन और नए जॉब की तयारी करना, ये सभी गुड स्ट्रेस (good stress benefits) का कारण बन सकते हैं।

इन 6 तरीकों से फायदेमंद हो सकता है गुड स्ट्रेस। चित्र : एडॉबीस्टॉक

अब जानें गुड स्ट्रेस के फायदे (good stress benefits)

1. मेमोरी को सपोर्ट करता है

रिसर्च की माने तो शार्ट टर्म स्ट्रेस मेमोरी पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं। यह कुछ स्थितियों में उपयोगी हो सकते हैं, जैसे एग्जामिनेशन के दौरान। जब आप उत्साहित होती हैं और स्ट्रेस्ड हो जाती हैं, तो आप चीजों को अधिक गहराई से समझने की कोशिश करती हैं। इस प्रकार यह आपके मेमोरी को इम्प्रूव करने में आपकी मदद कर सकता है।

2. आपके अंदर फ्लेक्सिब्लिटी बढ़ती है

जब आप तनावपूर्ण स्थिति का सामना करती हैं, तो यह आपको अपने बारे में, अपनी एबिलिटी और अपनी सीमाओं के बारे में अधिक जानने में मदद करता है। जैसे-जैसे आप अपनी क्षमताओं को समझना शुरू करती हैं, वैसे वैसे आपके लिए भविष्य के कार्यों को करना और आने वाली स्थितियों को संभालना अधिक आसान हो जाता है।

बॉडी को मजबूत करता है। चित्र: शटरस्टॉक

3. इम्युनिटी को बढ़ावा दे

बुरा तनाव आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को नुकसान पहुंचाता है, पर रिसर्च की माने तो शार्ट टर्म स्ट्रेस या गुड स्ट्रेस आपके शरीर की बीमारी और चोट से निपटने की क्षमता में सुधार करने में मदद कर सकता है। यह बॉडी में कुछ प्रकार के हॉर्मोन्स के उत्पादन को बढ़ा देता है, जो असल में इम्युनिटी को सपोर्ट करते हैं।

यह भी पढ़ें: 4 रिफ्रेशिंग रेसिपीज, जो आपको गर्म मौसम में भी रखेंगी ठंडा-ठंडा कूल-कूल

4. ऊर्जा शक्ति बढ़ाये

सकारात्मक तनाव का एक और लाभ यह है कि यह उस समय सक्रिय होता है, जब हम अपना कम्फर्ट जोन छोड़ते हैं। एक नई चुनौती का सामना करते हुए, गुड स्ट्रेस हमें प्रतिक्रिया करने के लिए प्रेरित करता है। जब अधिक उत्साह के कारण किसी व्यक्ति को स्ट्रेस महसूस होता है, इससे वे कार्य को अधिक ऊर्जाशक्ति के साथ प्रभावी रूप से परफॉर्म कर पाते हैं। इस प्रकार गुड स्ट्रेस ऊर्जा और जीवन शक्ति प्रदान करता है। सकारात्मक तनाव डोपामाइन के उत्पादन को बढ़ा देता है, जिससे व्यक्ति के अंदर एक अलग से ख़ुशी होती है।

5. ब्रेन पॉवर बूस्ट करता है

गुड स्ट्रेस या शार्ट टर्म स्ट्रेस ब्रेन में न्यूरोट्रॉफिन नामक केमिकल के उत्पादन को उत्तेजित करते हैं और मस्तिष्क में न्यूरॉन्स के बीच के कनेक्शन को मजबूत करते हैं। इस प्रकार यह ब्रेन पॉवर को बूस्ट कर मेंटल हेल्थ कंडीशंस के लिए सकारात्मक साबित हो सकता है।

फिटनेस मूड में सुधार करता है। चित्र: शटरस्टॉक

6. प्रोडक्टिविटी बढ़ जाती है

यूस्ट्रेस यानि की गुड हॉर्मोन्स लोगों को कुछ बेहतर करने, गोल अचीव करने की दिशा में काम करने के लिए प्रेरित कर सकता है। गुड स्ट्रेस से आपके ऊपर अपना बेस्ट देने का प्रेशर बनता है, और आप किसी भी कार्य को अधिक प्रभावी रूप से पूरा करती हैं। इस प्रकार यह जीवन के विभिन्न पहलुओं, जैसे काम, एजुकेशन या पर्सनल एक्टिविटीज में उत्पादकता और प्रदर्शन को बढ़ाने में मदद करता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यह भी पढ़ें: तरबूज से बनाएं ये 3 यूनीक रेसिपीज और रहें दिन भर कूल और हाइड्रेटेड

अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख