इन 5 संकेतों से पहचानें कि आपका पार्टनर मिसोजिनिस्ट है या नहीं

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि फेमिनिज़्म को कुछ लोग गाली समझते हैं और इसका समर्थन करने वाले लोगों से दूरी बनाते हैं। ऐसा अकसर मिसोजिनिस्ट लोग करते हैं। आप भी कहीं किसी ऐसे व्यक्ति के साथ तो नहीं हैं, जो स्त्री विरोधी है?
misogyni ke sanket kya hai
सीधे और आसान शब्दों में कहें तो मिसोजिनिस्ट महिलाओं के प्रति घृणा है। चित्र: शटरस्‍टॉक
संध्या सिंह Updated: 6 Mar 2024, 01:24 pm IST
  • 145

क्या आपने भी अपने पार्टनर में ये नोटिस किया है कि वो महिलाओं पर जोक बनाता रहता है। हस्बैंड वाइफ जोक तो आज कल बहुत प्रचलित है जिसमें महिलाओं को पुरूषों की आजादी का शोषण करने वाला ही माना जाता है। ऐसे में आप एक मिसोजिनिस्ट पार्टनर को डेट कर रहीं है। यदि आपका पार्टनर आपकी दोस्त के कैरेक्टर पर बिना बात के उंगली उठाता है, महिलाओं को एक ऑब्जेक्ट की तरह देखता है तो यहां आपको सतर्क होने की जरूरत है।

ऐसे बहुत से मिसोजिनिस्ट लोग हैं जिन्हें पहचानना आसान है। वे महिलाओं के प्रति हिंसक, अपमानजनक या क्रूर होते है। इन पुरुषों से महिलाओं के प्रति शत्रुता की बू आती है। आप उन्हें एक मील दूर से देख सकते हैं।

सबसे पहले जानते है कि मिसोजिनिस्ट क्या होता है

सीधे और आसान शब्दों में कहें तो मिसोजिनिस्ट महिलाओं के प्रति घृणा है, उनसे नफरत करना है। यह उन महिलाओं को नियंत्रित करने और दंडित करने के हित में होते है, जो पितृसत्तात्मक मानदंडों और अपेक्षाओं को नहीं मानती है या जो पुरुष हितों के हिसाब से नहीं चलती है। मिसोजिनिस्ट की ये भावना कई लोगों में बचपन से आती है और इसके पीछे कई कारण हो सकते है।

toxic relationship ko kaise krna hai deal
सेक्स हमेशा वे अपनी शर्तों पर करते है और जब आप ऐसा नहीं चाहते तो वह आपसे नाराज़ हो जाता है। चित्र शटरस्टॉक।

ये भावनाएं आमतौर पर मां से ही आती है। जो मां अपने बच्चें के प्रति इमोशनल अनअवेलेबल होती है, मौखिक दुर्व्यवहार, शारीरिक शोषण के बारे में बात नहीं करती है या जो उसे किसी अन्य व्यक्ति के दुर्व्यवहार से नहीं बचाती है।

कैसे जानें कि आपका पार्टनर मिसोजिनिस्ट है या नहीं

1 उनके लिए महिलाएं किसी उपयोगी उत्पाद की तरह हैं

आपने देखा होगा कि कई लड़के महिलाओं को इंसानो की तरह नहीं, बल्कि किसी वस्तु की तरह देखते है। उन लोगों के अनुसार महिलाओं का पुरुषों को खुश करना है। वह महिलाओं को एक से दस के पैमाने पर रेटिंग देना पसंद करते हैं। वे अपने अपमानजनक शब्दों में कभी कभी महिलाओं की तुलना जानवर से करने में भी पीछे नहीं रहते हैं। यहां तक कि वह युवा लड़कियों के रूप और शरीर की भी आलोचना भी करते है।

2 उनका व्यक्तित्व दो तरह का हो सकता है

कई बार आपको इनके दो अलग-अलग व्यक्तित्व नजर आएंगे। जब आप अकेले होते हैं तो वह क्रूर हो जाता है, लेकिन सार्वजनिक रूप से विनम्र और मधुर हो जाता है। वह अक्सर अपने व्यवहार में अचानक बदलाव से आपको भ्रमित कर देता है, एक मिनट में वे नॉर्मल होता है और अगले ही पल वह क्रूर और व्यंग्यात्मक हो जाता है।

उसके व्यक्तित्व में अचानक आए बदलाव से आप हमेशा असंतुलित हो जाते हैं, अपने दोस्तों और सहकर्मियों के साथ वह पूरी तरह से सामान्य व्यवहार करता है और लैंगिक समानता का समर्थन करने का दिखावा भी करता है।

3 उनके लिए सेक्स के बिना बात करना मुश्किल होता है

सेक्स हमेशा वे अपनी शर्तों पर करते है और जब आप ऐसा नहीं चाहते तो वह आपसे नाराज़ हो जाता है। वह कभी भी इस बात का सम्मान नहीं करता कि आप क्या चाहते हैं या इस बात पर ध्यान नहीं देता कि आप कैसे खुश होना चाहते हैं, जब आप सेक्स करते हैं तो आपको शायद ही कभी ओर्गेज्म मिलता है, लेकिन इससे उसे कोई परेशानी नहीं होती है। आपके ना कहने के बाद भी, वह लगातार आपसे इस बारे में बात करेगा।

toxic relationship se kaise bachein
मिसोजिनिस्ट अक्सर महिलाओं को व्यक्ति के बजाय संपत्ति के रूप में देखते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

4 अकसर महिलाओं की निंदा करते हैं

जब भी उसे अपनी नौकरी पर किसी महिला सुपरवीजन के अधीन काम करना होता है या किसी महिला को जवाब देना होता है, तो उसे इससे नफरत होती है और आमतौर पर वह हमेशा शिकायत करता रहता है। मिसोजिनिस्ट महिलाओं को सत्ता में देखना पसंद नहीं करते क्योंकि उनका मानना है कि केवल पुरुषों को ही नेतृत्व करना चाहिए और उन्हें ऊंचे पदों पर बिठाना चाहिए।

5 पोजेसिव और कंट्रोलिंग होते हैं

वह अक्सर अपने गलत कार्यों को आपकी सुरक्षा कहकर उचित ठहराने की कोशिश करता है। मिसोजिनिस्ट अक्सर महिलाओं को व्यक्ति के बजाय संपत्ति के रूप में देखते हैं। वे बहुत नियंत्रित और मिसोजिनिस्ट होते हैं क्योंकि वे हमेशा ये मानते है कि वे आपके मालिक हैं, और उनके बिना आप कुछ भी नहीं हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

ये भी पढ़ेमेंटल हेल्थ और रिलेशनशिप दोनों के लिए फायदेमंद है पार्टनर के साथ सोना, एक्सपर्ट बता रही हैं कारण

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख