Manic Syndrome : बहुत ज्यादा एनर्जी या उदासी महसूस करना हो सकता है मैनिक सिंड्रोम का लक्षण, एक एक्सपर्ट से जानिए इससे उबरने के उपाय

एकाएक बहुत अधिक एनर्जेटिक महसूस करना या बहुत दुखी महसूस करना मेनिया के कारण हो सकता है। इसके कारण लोग उल्टे-पुल्टे काम कर सकते हैं। सायकोथेरेपी के अलावा कई प्राकृतिक उपचार भी इसे दूर करने में मदद कर सकते हैं।
mania ke karan vyakti asaamanya vyawhar kar sakta hai,
मेनिया के कारण व्यक्ति लगातार चिड़चिड़ा व्यवहार कर सकता है। वह असामान्य रूप से खुद को एनर्जेटिक महसूस कर सकता है। चित्र : अडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Published: 27 Jan 2024, 06:30 pm IST
  • 126
मेडिकली रिव्यूड

रोजमर्रा के जीवन में हम कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं से सामना कर सकते हैं। इनमें से एक समस्या है मेनिया। इसके कारण व्यक्ति असमय बहुत अधिक खुश महसूस कर सकता है और कभी बहुत दुखी। कुलमिलाकर व्यक्ति का व्यवहार असामान्य हो सकता है। इसके लिए कई तरह के पोषक तत्वों की कमी या मेंटल हेल्थ में गड़बड़ी भी जिम्मेदार हो सकता है। अलग-अलग तरह की रेमेडी के अलावा, कुछ प्राकृतिक उपाय भी मेनिया को क्योर करने में मदद कर सकते हैं। सबसे पहले जानते हैं क्या है मेनिया (mania treatment) ?

क्या है मेनिया (What is mania)

मेनिया या उन्माद को मैनिक सिंड्रोम भी कहा जाता है। यह एक मानसिक और व्यवहार संबंधी विकार है। यह बाइपोलर डिसऑर्डर के अंतर्गत आता है। इसके कारण व्यक्ति असामान्य रूप से मूड में बदलाव महसूस करता है। मेनिया के कारण व्यक्ति लगातार चिड़चिड़ा व्यवहार कर सकता है। वह असामान्य रूप से खुद को एनर्जेटिक महसूस कर सकता है।
मेनिया के दौरान व्यक्ति का व्यवहार सामान्य व्यवहार से बहुत अलग होता है।

ये हो सकते हैं लक्षण (Mania symptoms)

•आत्म-सम्मान और सेल्फ इम्पोर्टैंस की भावना (self-esteem and self-importance)
• ऐसा महसूस करना कि नींद की ज़रूरत नहीं है या बहुत कम नींद की ज़रूरत है
• असामान्य रूप से बातूनी हो जाना
• तेजी से बढ़ते विचारों का अनुभव करना
• आसानी से विचलित हो जाना
• खरीदारी अधिक करना, सेक्सुअली गलत बिहेव करना या उल्टा-पुल्टा व्यवहार करना

मूड स्टैबिलाइज़िंग दवाओं की ज़रूरत (mood stabilizing Medicine)

डॉ. ज्योति कपूर इस बात पर जोर देती हैं, मेनिया (Mania) या  बाईपोलर डिसऑर्डर (bipolar disorder) के लक्षण सिर्फ़ प्राकृतिक उपचार से कंट्रोल नहीं किए जा सकते हैं। उन्माद या मेनिया की स्थिति में पहले मूड स्टैबिलाइज़िंग (mood stabilizing) दवाओं की ज़रूरत पड़ती है।  मन स्थिर होने के बाद और साइकियाट्रिक दवाओं के साथ प्राकृतिक उपचार दिये जा सकते हैं। इससे प्रीवेंशन पर फोकस करना उद्देश्य होता है।

मेनिया को दूर करने में दवा के साथ  मददगार 4 प्राकृतिक  उपाय (4 natural remedies for treating mania)

1 सप्लीमेंट कर सकते हैं मदद (supplement for treating mania)

फिश आयल सप्लीमेंट मूड को स्थिर करने में मदद (mania treatment) करते हैं। इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड खराब मूड के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद कर सकता है। ओमेगा-3 का सेवन बढ़ाने से अवसाद के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है। लेकिन डॉक्टर से पूछकर ही यह सप्लीमेंट लें। यह उन्माद को ट्रिगर कर सकता है। प्राकृतिक रूप में इसका सेवन करना सबसे अच्छा है। मैगनीशियम सप्लीमेंट भी खराब मूड को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। विटामिन सी सप्लीमेंट अवसाद के लक्षणों को कम कर सकते हैं।

melatonin supplement lene se pehle doctor se baat karen.
फिश आयल सप्लीमेंट मूड को स्थिर करने में मदद करते हैं। चित्र : एडॉबीस्टॉक

2 लाइफस्टाइल चेंज (lifestyle change for treating mania)

मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में लाइफस्टाइल चेंज भी मदद कर सकते हैं। साउंड स्लीप और क्वालिटी स्लीप से मूड मैनेजमेंट, भावनाओं को नियंत्रित करने और मस्तिष्क की कार्यप्रणाली में सुधार करने में मदद मिल सकती है। पर्याप्त नींद न लेने से अवसाद या मेनिया हो सकता है।

इसके लिए समय पर बिस्तर पर जाना और नियमित समय पर जागना जरूरी है। सोने वाला आरामदायक और अंधेरा होन चाहिए। शराब के सेवन से बचना या इसे सीमित करना, सोने से पहले ज्यादा खाना नहीं खाना, स्क्रीन टाइम से बचना या कम करना भी लाइफस्टाइल चेंज के लिए जरूरी है। पौष्टिक और संतुलित आहार खाना अच्छी जीवनशैली के लिए आवश्यक है।

3 नियमित व्यायाम (Regular exercise for treating mania)

रेगुलर एक्सरसाइज से इसके लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। जब कोई व्यक्ति खराब मूड का अनुभव कर रहा हो, तो व्यायाम लक्षणों में प्रभावी ढंग से सुधार कर सकता है।इससे मेनिया से प्रभावित लोगों में मोटापा, मधुमेह और हृदय रोग जैसी स्वास्थ्य समस्याएं विकसित होने का जोखिम कम हो जाता है। ध्यान दें कि एंटीडिप्रेसेंट्स, एंटीसाइकोटिक्स और मूड स्टेबलाइजर्स जैसी बाइपोलर डिसऑर्डर की दवाएं कुछ लोगों में वजन बढ़ाने का कारण बनती हैं। इसलिए व्यायाम स्वस्थ रहने और प्रभावों को संतुलित करने में मदद कर सकता है।

Exercise se kya fayde milte hain
रेगुलर एक्सरसाइज से मेनिया के लक्षणों को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। चित्र- अडोबी स्टॉक

4 कूल करने वाली तकनीक (Cooling technique for treating mania)

शरीर और मन को शांत करने वाली तकनीक, जैसे गहरी सांस लेना मेनिया के लक्षणों को कम करने में मदद (mania treatment) करती है। इसके लिए योग, मसाज थेरेपी, ध्यान, गहरी सांस लेना जैसी तकनीक तनाव को प्रबंधित करने में मदद कर सकते हैं। ये मेन्टल वेलनेस में सुधार कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :- मांसपेशियों में अकड़न को दूर कर सकता है प्रोग्रेसिव मसल्स रिलैक्सेशन मेडिटेशन, जानिए कैसे करना है इसका अभ्यास

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 126
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख