और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

वे 5 आदतें जिन्‍हें अपने भावनात्‍मक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए आपको 2021 में बदल देना चाहिए

Published on:14 December 2020, 13:52pm IST
हम सभी इन आदतों के दोषी हैं जो कोरोनावायरस की शुरुआत के बाद से बदतर हो गईं हैं। हालांकि, आपको अपने भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए उन्हें बदलने की आवश्यकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 77 Likes
Toxic positivity se bachne ke tips
टॉक्सिक पॉजिटिविटी को कहें अलविदा, यह आपके लिए हानिकारक है । चित्र: शटरस्‍टॉक

इसमें कोई संदेह नहीं कि 2020 एक जीवन-परिवर्तित वर्ष रहा है। हमने खुद को घातक कोरोनावायरस से बचाने के लिए बहुत से बदलाव अपने जीवन मे किये, साथ ही हमने अपने मानसिक और भावनात्मक स्‍वास्‍थ्‍य को सुरक्षित रखने का महत्व सीखा है।

इस साल, वर्क फ्रॉम होम न्यू नॉर्मल बन गया है। हम इन सभी महीनों में काम और घरेलू जिम्मेदारियों के तले दबे हुए थे। ईमानदारी से कहें तो चीजें थोड़ी निराशाजनक हो सकती हैं। आखिर कब तक हम नेटफ्लिक्स देख सकते हैं? इसलिए, उत्साह और सकारात्मकता के साथ आगे बढ़ने के लिए कुछ आदतों को छोड़ना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है।

हम इस वर्ष अपनी सभी जरूरतों की उपेक्षा कर रहे हैं। इसलिए, हमें तुरंत इन आदतों को छोड़ने की आवश्यकता है, और एक नई शुरुआत करने की भी। नए साल में आपको कुछ परिवर्तनों को शामिल करने का समय है। हम पर विश्वास करें, इन बदलावों के बाद आप भावनात्मक रूप से बेहतर जगह पर होंगी। तो आइए इन बदलावों पर एक नज़र डालते हैं:

1. अपनी भावनाओं को दबाना छोड़ दें

यह वर्ष हम सभी के लिए मुश्किल रहा है, और कभी-कभी अपनी भावनाओं को नजरअंदाज करना बहुत सुविधाजनक होता है, लेकिन ये आपको कभी नहीं करना चाहिए। अपनी भावनाओं को अपने तक रखना आपको व्यावहारिक लग सकता है, लेकिन यह आपको एहसास से कहीं अधिक नुकसान पहुंचा सकता है।

जब आप अपनी भावनाओं को दबाते हैं, तो वे कम नहीं होती, बल्कि उनका ढेर लगता रहता है। ऐसे में आप आत्मसम्मान में कमी, माइग्रेन, उच्च रक्तचाप का शिकार हो सकती हैं। यहां तक ​​कि बेहतर महसूस करने के लिए आप दवाओं या शराब की ओर रुख करते हैं।

रोने को कमजोरी न समझें, यह आपकी सेहत के लिए अच्‍छा है। चित्र: शटरस्‍टॉक
रोने को कमजोरी न समझें, यह आपकी सेहत के लिए अच्‍छा है। चित्र: शटरस्‍टॉक

सुनिश्चित करें कि आप आने वाले वर्ष में अपनी भावनाओं को सही तरीके से एक्सप्रेस करेंगे। आप हमेशा एक विश्वसनीय दोस्त के सामने खुल सकते हैं, या एक चिकित्सक से संपर्क कर सकते हैं जो आपकी मदद कर सकता है। 2021 अपनी भावनाओं से निपटने का वर्ष है, उन्हें दबाने का नहीं।

2. तनाव को अपने पास न आने दें

तनाव आपके शरीर में समय के साथ-साथ बढ़ सकता है। इसलिए, अपनी चिंता व्यक्त करना इसे दबाने से बेहतर है। यदि आप संवाद नहीं करते हैं और अपने मन में चीजों का अधिक विश्लेषण करते रहते हैं, तो आपके तनाव का स्तर बर्दाश्त से बाहर होगा ही। जब हमें तनाव होता है, तो हमारा मस्तिष्क कोर्टिसोल बनाता है। जब यह बड़ी मात्रा में उत्पन्न होता है, तो यह मस्तिष्क को सही तरीके से काम करने से रोक सकता है।

अगर चिंता का स्तर नियंत्रण से बाहर हो जाता है, तो मानसिक स्वास्थ्य खतरे में पड़ जाता है। इससे बचने के लिए, आप हर दिन ध्यान या मेडिटेशन का अभ्यास कर सकती हैं, या एक ऐसी गतिविधि या हॉबी चुन सकती हैं जो आपको शांत करती है।

मूल रूप से, आने वाले वर्ष में खुद को प्राथमिकता देना महत्वपूर्ण है।

3. पर्याप्त नींद न लेना

दुर्भाग्य से, हमारी नींद की आदतें इस साल बुरी तरह बिगड़ गई हैं। आप शायद पहले से ही इस तथ्य से अवगत हैं कि यह एक अनहेल्दी आदत है। अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए हर दिन आठ घंटे की नींद लेना महत्वपूर्ण है।

अच्‍छी नींद लेना आपके लिए बहुत जरूरी है। चित्र : शटरस्टॉक
अच्‍छी नींद लेना आपके लिए बहुत जरूरी है। चित्र :
शटरस्टॉक

दरअसल, द स्लीप हेल्थ फाउंडेशन के शोध से पता चलता है कि अवसाद के 60 से 90 फीसदी मरीज अनिद्रा से भी पीड़ित हैं। न केवल नींद की कमी एक व्यक्ति को चिड़चिड़ा और अजीब महसूस कराती है, बल्कि यह लंबे समय में भावनात्मक कल्याण को प्रभावित करती है।

आने वाले वर्ष में नींद को प्राथमिकता दें। यदि आप अच्छी तरह से आराम नहीं कर रही हैं, तो आपका दिमाग ठीक से काम नहीं करेगा, जिससे विभिन्न अन्य बीमारियों का सामना करना पड़ेगा।

4. पर्याप्त व्यायाम न करना

हम सभी जानते हैं कि हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के लिए व्यायाम कितना महत्वपूर्ण है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह हमारी भावनात्मक सेहत को भी बेहतर बनाता है। यह एक ज्ञात तथ्य है कि 2020 ने हमें अधिक गतिहीन बना दिया है। हमने सामाजिक एक्टिविटी को इस साल नजरअंदाज कर दिया है और शारीरिक गतिविधियों की उपेक्षा की है। आने वाले वर्ष में इस आदत को बदलने का समय है।

नियमित रूप से व्यायाम करने से एंडोर्फिन बनाने में मदद मिलती है, और हमें अच्छा महसूस होता है। मायो क्लिनिक के एक लेख के अनुसार, व्यायाम “फील-गुड हॉर्मोन एंडोर्फिन, प्राकृतिक मस्तिष्क रसायन (अंतर्जात कैनबिनोइड्स) और अन्य एंजाइम जारी करता हैं। जो आपकी सकारात्मक भावना को बढ़ा सकते हैं।”

व्‍यायाम आपकी ओवरऑल हेल्‍थ के लिए जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
व्‍यायाम आपकी ओवरऑल हेल्‍थ के लिए जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जिम जाना सबसे अच्छा विचार नहीं है, लेकिन टहलने के लिए तो जा ही सकते हैं ना? इस आदत को अपना कर देंगे, परिणाम आपके लिए भी आश्चर्यजनक होगा!

5. हर समय सोशल मीडिया पर बने रहना बन्द करें

आइए इसे स्वीकार करें: 2020 ने हमें सोशल मीडिया की और भी लत लगा दी है। क्या आपने खुद को बिना सोचे-समझे स्क्रीन स्क्रॉल करते हुए पाते हैं? सेल्फी पोस्ट करना या पूरे दिन मीम्स देखना आपकी आदत हो गयी है?

वैसे, सोशल प्लेटफॉर्म पर कुछ समय बिताना ठीक है, लेकिन अगर आपको हर समय फेसबुक या इंस्टाग्राम की जांच करने का मन करता है, तो ये एक गंभीर समस्या है। यह आपके मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर भी कहर ढाता है।

इसके अलावा, आप अपनी स्क्रीन को देखने के लिए हर समय झुके रहते हैं, और इसका मतलब है कि आपके शारीरिक स्वास्थ्य से भी समझौता किया जाता है।

हमें यह समझना चाहिए कि सोशल मीडिया की दुनिया वास्‍तविक नहीं होती। चित्र: शटरस्‍टॉक
हमें यह समझना चाहिए कि सोशल मीडिया की दुनिया वास्‍तविक नहीं होती। चित्र: शटरस्‍टॉक

लेडीज, ये कुछ आदतें हैं जिन्हें हम निश्चित रूप से इस वर्ष पीछे छोड़ना चाहते हैं। 2021 में एक खुश और स्वस्थ शुरुआत करने का समय है। तो बुरी आदतों को गुड बाय कहें और अच्छी आदतें अपनाएं।

यह भी पढ़ें – एंग्जायटी की समस्या से परेशान हैं, तो याद रखिए एंग्जायटी अटैक से बचने के ये 5 कारगर तरीके

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।