मेंटल हेल्थ और रिलेशनशिप दोनों के लिए फायदेमंद है पार्टनर के साथ सोना, एक्सपर्ट बता रही हैं कारण

कई लोगों में सोने की अलग-अलग आदतों के कारण कंफ्लिक्ट होते हैं, तो कई लोगों को ये बहुत रोमांटिक लगता है। हालांकि जब स्लीप डाइवोर्स के मामले बढ़ रहे हैं, हम आपको बता रहे हैं साथ सोने के फायदे।
sleep together
जब हम किसी दूसरे इंसान के साथ शारीरिक संपर्क बनाते हैं तो ऑक्सीटोसिन का स्तर बढ़ जाता है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 5 Mar 2024, 05:58 pm IST
  • 134

रिश्ते की शुरूआत में लगभग सभी जोड़े एक साथ सोना पसंद करते हैं। मगर जैसे-जैसे समय बीतता है, एक-दूसरे की आदतें परेशान करने लगती हैं। जिससे लोग अलग-अलग सोना शुरू कर देते हैं। पर शायद आप नहीं जानते कि एक साथ सोने वाले जाेड़ों की सेहत और रिश्ते अलग-अलग सोने वाले जोड़ों की तुलना में बहुत बेहतर होते हैं। ये न सिर्फ आपकी मेंटल हेल्थ, बल्कि इम्युनिटी के लिए भी फायदेमंद साबित होता है। आइए जानते हैं कैसे।

आपके साथी की नींद का समय अलग हो सकता है। कुछ लोग देर रात तक घर लौटते हैं और कुछ लोगों को रात में जिम करना पसंद होता है। जबकि कुछ रात में अच्छी और गहरी नींद के समर्थक होते हैं और वे समय पर बिस्तर पर जाना पसंद करते हैं। गर्मी , ठंडी, खर्राटे लेने की आदतों तक, कई वजह हैं जब लोग अलग-अलग सोने का फैसला करते हैं। यह आपको तात्कालिक रूप से अच्छा लग सकता है, मगर लॉन्ग टर्म में यह आपके लिए नुकसानदेह है।

sleeping together
इससे भावनात्मक इंटीमेसी को बढ़ाने में मदद मिलती है और व्यक्तियों के बीच बंधन मजबूत होते हैं। चित्र- अडोबी स्टॉक

साथ सोने के बारे में क्या कहता है शाेध

एरिज़ोना विश्वविद्यालय ने एक सर्वे में पाया कि पार्टनर या जीवनसाथी के साथ सोने से बेहतर नींद लेने में मदद मिलती है, स्लीप एप्निया का जोखिम कम होना, अनिद्रा और नींद की गुणवत्ता में सुधार शामिल होता है। पार्टनर के साथ सोने से कम थकान, तेजी से नींद आना और अधिक समय तक सोने में भी मदद मिलती है।

साथ में सोने के फायदों के बारे में ज्यादा जानकारी दी रिलेशनशिप एक्सपर्ट रुचि रूह नें, रुचि रूह इंस्टाग्राम पर ‘therapywithRuch’ नाम से मौजूद है।

चलिए अब जानते है पार्टनर के साथ सोने के फायदे (benefits of sleeping together)

1 कडल केमिकल बढ़ाता है आपसी लगाव

रुचि रूह बताती है कि अगर आप अपने पार्टनर के साथ सोते है तो उससे ऑक्सीटोसिन (जिसे कडल केमिकल या लव हार्मोन भी कहा जाता है) रिलीज होता है। यह हार्मोन मस्तिष्क में उत्पन्न होता है इससे सहानुभूति, विश्वास, आराम और एंग्जाइटी की भावनाओं को कम करने में मदद मिलती है।

जब हम किसी दूसरे इंसान के साथ शारीरिक संपर्क बनाते हैं तो ऑक्सीटोसिन का स्तर बढ़ जाता है। आप शांत और संरक्षित महसूस करते हैं। जिससे आपको आरामदायक और गहरी नींद लेने में मदद मिलती है।

2 भावनात्मक रूप से जुड़ने में मदद मिलती है

कई बार पार्टनर एक दूसरे को काम में व्यस्त होने के कारण अधिक समय नहीं दे पाते है जिसके कारण रिश्ते में इंटीमेसी खत्म होती जाती है। एक साथ सोने से आप व्यस्त दिन के बाद एक साथ जरूर आते है। इससे भावनात्मक इंटीमेसी को बढ़ाने में मदद मिलती है और व्यक्तियों के बीच बंधन मजबूत होते हैं।

नींद के दौरान साझा किया गया समय सुरक्षा, विश्वास और जुड़ाव की भावनाओं को बढ़ावा देती है। यह निकटता रिश्तों को गहरा करने में मदद करती है। अगर कोई रात भर आपके साथ सोता है तो आपको ये लगता है कि वो व्यक्ति आपकी केयर करता है। जिससे रिश्ते में गहराई बढ़ जाती है।

Know why experts do not recommend long gaps in sexual relationships
नींद के दौरान साझा किया गया समय सुरक्षा, विश्वास और जुड़ाव की भावनाओं को बढ़ावा देती है। चित्र : एडोबी स्टॉक

3 साथ सोना रिश्ते को सुधार हो सकता है

यदि पार्टनर के बीच लड़ई हुई है और वो पूरा दिन एक-दूसरे से बात नहीं करते, तो इससे रिश्ता खराब हो सकता है। लेकिन यदि आप साथ सोते है तो दिन के आखिर में आप एक ही बिस्तर पर जाएंगे। इसस झगड़े जल्दी सुधर सकते है। आप एक-दूसरे के साथ अधिक जुड़ाव महसूस करते हैं। महिलाओं ने अपने साथी के साथ बिस्तर पर सोने के बाद अधिक साकारात्मक महसूस होता है।

4 पूरे दिन की थकान के बाद आपको खुशी मिल सकती है

साथ में सोने से आपको कई तरह के स्वास्थ्य लाभ मिलने के साथ खुशी भी महसूस हो सकती है। साथ सोने से ऑक्सीटोसिन तनाव कम करता है और अपने साथी के साथ अधिक जुड़ाव महसूस करना स्वाभाविक रूप से खुशी और रिश्ते की संतुष्टि को बढ़ाता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

साथ सोने से आपको आपका साथ अपने पास ही लगता है और उसे खोने के डर भी खत्म होता है। आपकी एक दूसरे के साथ नाकारात्मक बात भी खत्म हो जाती है क्योंकि साथ सोने से आपको आराम महसूस होता है।

ये भी पढ़े- साइलेंट किलर हो सकती है विटामिन बी12 की कमी, जानिए कैसे करती है आपकी स्वास्थ्य को प्रभावित

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख