शादी के बंधन में बंध रहीं हैं? तो ये 3 टिप्स करियर और निजी जीवन के बीच संतुलन बनाने में होंगे मददगार

शादी जीवन का एक महत्वपूर्ण फैसला है। अब भी अधिकांश भारतीय लड़कियां शादी के बाद कॅरियर और निजी जीवन के बीच संतुलन बनाए रखने में दबाव महसूस करती है। पर असल में यह इतना मुश्किल भी नहीं है।
अपने वर्क-लाइफ बैलेंस के लिए फॉलो करें एक्सपर्ट टिप्स। चित्र:शटरस्टॉक
Devina Kaur Published on: 18 October 2021, 19:30 pm IST
ऐप खोलें

सही रिश्ते आपको सशक्त बनाने की क्षमता रखते हैं। फिर भी शादी कई बार एक फुल टाइम नौकरी की तरह महसूस हो सकती है। आप में से कई लोगों के लिए, विवाहित जीवन हमेशा परफेक्ट पिक्चर नहीं होता है। खासकर जब करियर और व्यक्तिगत जीवन की प्राथमिकताओं के बीच आप रोजाना फंसते रहते हैं। संतुलन खोजने का विचार एक दिवास्वप्न की तरह लग सकता है। पर यकीन कीजिए यह असंभव नहीं है। 

अपने करियर और निजी जीवन में संतुलन लाने के लिए आप उन चीजों को याद करें जो आपको सशक्त बनाती हैं। इनमें वे लोग भी शामिल हैं जिन्हें आप अपने साथ लेकर चलना चाहते हैं। आप सभी को अपने प्रयासों और रास्ते में हासिल की जाने वाली हर छोटी जीत के लिए प्यार और गर्व महसूस करने की जरूरत है। जब एक रिश्ते में दोनों साथी सद्भाव के स्तर तक पहुंच जाते हैं , तो वह रिश्ता ऐसा बन जाता है जहां आप एक-दूसरे के साथ केवल प्यार और सम्मान साझा करते हैं। 

शादी के बाद अपने करियर और निजी जीवन को संतुलित रखने के 3 टिप्स 

1. यौन संबंध और संवाद 

एक साथ समय बिताना एक अच्छी और खुशहाल शादी को कायम रखने का आधार है। अपने पार्टनर के साथ बात करने से आपको सार्थक यादें बनाने के साथ-साथ रोजमर्रा के तनाव से भी राहत मिलती हैं। एक व्यस्त दुनिया में जो लगातार आपका समय मांगती हैं, अपने साथी के साथ अंतरंग पल बिताना यह सुनिश्चित करता हैं कि वे अभी भी आपके जीवन में प्राथमिकता रखते हैं। 

अपनी यौन ज़रूरतों और इच्छाओं के बारे में बात करें। यह बताएं कि आपको बिस्तर और बेडरूम में क्या पसंद है और क्या नहीं। साथ ही अपने पार्टनर की जरूरतों को भी समझें।  

2. सीमा निर्धारित करें

रात का खाना कौन पकाता है? वह व्यक्ति जो पहले काम से घर आता है या वह जो घर से काम करता है? सीमाएं तय करने का मतलब है अपने साथी और खुद से स्पष्ट अपेक्षाएं रखना। जैसा कि आप जानते हैं “टीम वर्क ड्रीम वर्क को बनाता हैं!” ऐसा हो सकता है कि आप जल्दी घर आ जाएं और बर्तन धोने से घर के काम आसान हो जाएं। 

हर रिश्ते में सीमाएं होना ज़रूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

आप और आपका पार्टनर  इस बात से सहमत हो सकते हैं कि रविवार के दिन एक-दूसरे के साथ समय बिताने का अवसर मिल सकता है। इन्हीं बातों और वास्तविकताओं को ध्यान में रखते हुए एक-दूसरे से व्यवहारिक अपेक्षाएं रखें। इससे आपका काम भी आसान होगा और आपसी मतभेद की भी कोई गुंजाइश नहीं रहेगी। 

3. एक-दूसरे का सहयोग करें

सहयोग किसी भी रिश्ते को खूबसूरत बनाता है जिसका आप हिस्सा हो सकते हैं। चाहे वह रोमांटिक रिश्ता हो, दोस्ती हो , परिवार हो या अपने समुदाय के साथ रिश्ता। शादी जैसी गंभीर जिम्मेदारी को निभाने में, आपको अपने पार्टनर की हर बात में उनका साथ देना थोड़ा मुश्किल लग सकता हैं। 

हो सकता है कि कभी-कभी आप एक-दूसरे की किसी बात से असहमत हों। एक-दूसरे के साथ ‘सिंक’ करने का मतलब यह नहीं है कि आप हर समय सहमत हों, लेकिन यह आपके विचार है जो मायने रखते है। आप अपने साथी को वह समझ प्रदान कर सकते हैं, जिसके वे हकदार हैं। साथ ही यह सुनिश्चित करें कि वे आपको प्यार, करुणा और सहानुभूति देते हैं। 

अपने पार्टनर के सहायक बनें। चित्र: शटरस्‍टॉक

कोई यह नहीं मानता कि शादी, करियर और निजी जीवन में संतुलन बनाना आसान होता है। पर हम यकीन दिलाते हैं कि छोटे-छोटे प्रयासों से इसे तनाव मुक्त बनाया जा सकता है। तो लेडीज, एक सफल और संतुलित रिश्ता आपके करियर और आत्म-विकास सहित हर रूप से आपकी जीवन यात्रा को सशक्त बना सकता हैं। 

यह भी पढ़ें: क्या आप लिव-इन का विकल्प चुन रहें हैं? तो इस फुलप्रूफ गाइड के साथ आसान बनाएं अपनी यात्रा

लेखक के बारे में
Devina Kaur

Devina Kaur is an inspirational speaker, radio host, and producer. She is also the author of the self-help book called "Too Fat Too Loud Too Ambitious".

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
Next Story