वैलनेस
स्टोर

अगर आपका कोई साथी है सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित, तो जानिए उसे संभालने के 11 तरीके

Published on:10 June 2021, 19:21pm IST
किसी ऐसे व्यक्ति के साथ व्यवहार करना कठिन हो सकता है, जिसे सिज़ोफ्रेनिया है, लेकिन यह असंभव नहीं है। थोड़ा और कॉंफिडेंट महसूस करने के लिए इन विशेषज्ञ द्वारा बताई गयी टिप्स का पालन करें।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 80 Likes
आपको उनकी देखभाल करते हुए बहुत संयम की जरूरत होगी। चित्र: शटरस्‍टॉक

अपने मानसिक स्वास्थ्य से जूझ रहे व्यक्ति को विशेष ध्यान और देखभाल की आवश्यकता होती है। उनके परिवार के साथ-साथ उनके केयरटेकर का समर्थन उनके स्वास्थ्य और कल्याण में बहुत बड़ा बदलाव ला सकता है। वास्तव में, ऐसे कई मामले सामने आए हैं, जहां इस रणनीति ने मानसिक स्वास्थ्य रोगियों को स्वस्थ और सुखी जीवन जीने में मदद की है।

सिज़ोफ्रेनिया एक ऐसी मानसिक स्वास्थ्य स्थिति है, जिसमें रोगी को सामान्य से अधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। इस बीमारी को नियंत्रण में रखने के लिए बहुत सी बातें ध्यान में रखनी चाहिए। इसलिए किसी ऐसे व्यक्ति से निपटने के लिए कुछ टिप्स जानना आवश्यक है।

लेकिन इससे पहले कि हम इस बारे में बात करें, पहले स्थिति के बारे में सब कुछ समझना महत्वपूर्ण है।

सिज़ोफ्रेनिया क्या है?

मुंबई के वॉकहार्ट अस्पताल में मनोचिकित्सक डॉ सोनल आनंद के अनुसार, सिज़ोफ्रेनिया मस्तिष्क का एक विकार है, जो वास्तविकता की व्याख्या करने में कठिनाइयों का कारण बनता है। यह व्यक्ति के सोचने और व्यवहार करने की क्षमता को प्रभावित करता है।

सिजोफ्रेनिया के मरीज को बहुत ज्‍यादा देखभाल की जरूरत होती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जिससे उसका दैनिक जीवन प्रभावित होता है। यह एक स्प्लिट पर्सनालिटी या मल्टीप्ल पर्सनालिटी समस्या नहीं है। यह दुनिया की 1 प्रतिशत आबादी में मौजूद है।

क्या हो सकता है सिज़ोफ्रेनिया का कारण

डॉ आनंद कहती हैं कि “सटीक कारण अभी भी ज्ञात नहीं है। यह ज्यादातर जेनेटिक्स और पर्यावरण का एक संयोजन है। सिज़ोफ्रेनिया वाले परिवार के सदस्य का होना एक जोखिम कारक है, और यहां तक ​​​​कि एक माता-पिता के सिज़ोफ्रेनिया से प्रभावित होने से जोखिम और भी बढ़ जाता है।”

वह आगे कहती हैं, “शुरुआती लक्षणों के निर्माण में जीवन के तनाव कारक भूमिका निभा सकते हैं।”

साइकोलॉजिकल मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, यह पाया गया है कि धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों में सिज़ोफ्रेनिया विकसित होने का जोखिम लगभग दोगुना होता है? इसका मतलब है कि हमारी जीवनशैली की भी इसमें भूमिका होती है।

इन लक्षणों पर ध्यान दें

सिज़ोफ्रेनिया भ्रम या मतिभ्रम के साथ-साथ असामान्य बोलना / व्यवहार / भावनाओं की विशेषता है। कभी-कभी, ये सभी लक्षण एक साथ हो सकते हैं। भ्रम विचार का विकार है।

पैरानॉयड भ्रम सबसे आम है, जहां एक व्यक्ति को लगता है कि कोई उसके खिलाफ साजिश रच रहा है या उसे या उसके परिवार को मारने की कोशिश कर रहा है।

सिजोफ्रेनिया के बारे में यह महत्वपूर्ण तथ्य है। चित्र : शटरस्टॉक

मतिभ्रम धारणा का एक विकार है, जहां प्रभावित व्यक्ति अपने कानों में विभिन्न आवाजें सुन सकता है, जैसे कि कोई बात कर रहा हो। लेकिन हकीकत में वहां कोई नहीं है। दृश्य, स्पर्शनीय और स्वादपूर्ण (visual, tactile and gustatory hallucinations) मतिभ्रम हो सकता है।

डॉ आनंद का सुझाव है “स्वयं बड़बड़ाना, अनुचित तरीके से मुस्कुराना और अपनी देखभाल के प्रति लापरवाही जैसी कुछ समस्याएं हो सकती हैं। अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में असमर्थता रोगी को बाहरी दुनिया से अलग कर सकती है। वह आत्म-अवशोषित लग सकता है। कुछ सिज़ोफ्रेनिक्स में आक्रामकता भी देखी जा सकती है।”

टिप्स जो आपको सिज़ोफ्रेनिया के रोगियों को संभालने में मदद करेंगी

1. रोगी को सिर्फ इसलिए लेबल न करें, क्योंकि यह एक मानसिक बीमारी है। यह किसी भी अन्य बीमारी की तरह ही एक विकार है, इसलिए पूर्वाग्रह से बचना चाहिए।

2. डॉक्टर से परामर्श और नियमित देखभाल अनिवार्य है। सुनिश्चित करें कि व्यक्ति दवा न बंद करे।

3. व्यक्ति की भावनाओं के बारे में पूछकर उसे भावनात्मक सहारा दें। यहां तक ​​​​कि अगर व्यक्ति नहीं बताना चाहता है, तो भी हार न मानें।

4. उचित उपचार मदद कर सकता है।

5. व्यक्ति के साथ जोरदार बहस न करें, क्योंकि आप कितनी भी कोशिश कर लें, वह तर्क के पीछे के तर्क को नहीं समझ पाएगा।

6. इन रोगियों में बहुत कम प्रेरणा होती है और उन्हें सकारात्मक दृष्टिकोण की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए सुनिश्चित करें कि आप समस्याओं को ध्यान से सुनें और विकल्प सुझाएं।

7. उन्हें सक्रिय और तनाव मुक्त रहने में मदद करें। सिज़ोफ्रेनिया के रोगियों के लिए खेल खेलना, योग करना या ध्यान करना वास्तव में मददगार हो सकता है।

8. कभी-कभी, रोजमर्रा की चीजें जैसे नहाना और ब्रश करना एक समस्या हो सकती है। ऐसे मामलों में, व्यक्तिगत स्वच्छता को लेकर थोड़ा सकारात्मक और सख्त रहें।

9. नियमित दवा इन मामलों में मदद करेगी। संचार का प्रवाह जारी रखें, और नकारात्मक बातों से अधिक सावधान रहें।

10. यदि रोगी अपने जीवन को समाप्त करने की बात कर रहा है, तो सुनिश्चित करें कि आप डॉक्टर से जल्द से जल्द बात करें।

11. अगर वे शराब या नशीले पदार्थों के आदी हैं, तो उनके विश्वासपात्र बनें और इससे छुटकारा पाने में उनकी मदद करें। प्रोफेशनल मदद भी काम आ सकती है।

यह भी पढ़ें – कोविड-19 महामारी में नई मांओं में बढ़ा है पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन, जानिए आप इससे कैसे बच सकती हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।