वैलनेस
स्टोर

क्‍या पीसीओएस से निपटने में मदद कर सकते हैं सप्‍लीमेंट्स? जानिए क्‍या है इस पर विशेषज्ञों की राय

Published on:27 February 2021, 12:30pm IST
पीसीओएस एक गंभीर दर्दनाक स्थिति है। डॉक्‍टर कई बार इसके लिए सप्‍लीमेंट्स की सलाह देते हैं। आइए जानें वे कौन से हैं और कैसे काम करते हैं। 
विनीत
  • 88 Likes
PCOS से निपटने में मदद करेंगे ये 4 सप्लीमेंट्स। चित्र-शटरस्टॉक।

PCOS वास्तव में एक गंभीर स्वास्थ्य स्थिति है, लेकिन अप्रबंधनीय नहीं है। एक अच्छी तरह से नियोजित आहार लेना, उसे सभी आवश्यक पोषक तत्वों के साथ पैक करना हार्मोन को संतुलित कर सकता है और आंतरिक प्रणाली के कामकाज को बनाए रखने में मदद कर सकता है।

सेलिब्रिटी पोषण विशेषज्ञ पूजा मखीजा के अनुसार, PCOS से जूझ रही महिलाओं के लिए 4 विशिष्ट पोषक तत्व महत्वपूर्ण हैं। ये पोषक तत्व खाद्य पदार्थों में पाए जाते हैं, लेकिन इनका पर्याप्त सेवन सुनिश्चित करने के लिए आप सप्लीमेंट्स का विकल्प भी चुन सकती हैं। सप्लीमेंट लेना आपकी स्थिति पर निर्भर करता है, जिसके लिए आपको अपने डॉक्टर या पोषण विशेषज्ञ से परामर्श करने की आवश्यकता होती है।

यहां हैं वे 4 पोषक तत्व जिन्हें PCOS से पीड़ित महिलाओं को अपने आहार में शामिल करना चाहिए:

  1. इनोसिटोल या मायो-इनोसिटोल

इनोसिटोल या मायो-इनोसिटोल एक विटामिन जैसा पदार्थ है जो कई पौधों और जानवरों में पाया जाता है। इन्हें कृत्रिम रूप से प्रयोगशाला में भी बनाया जा सकता है। यह स्वाभाविक रूप से कैंटालूप में पाये जाते हैं, जैसे- खट्टे फल, बीन्स, ब्राउन राइस, मक्का और तिल के बीज, और गेहूं की भूसी।

यह भी पढ़ें: आपकी सेक्स ड्राइव को बेहतर बनाने में मदद कर सकती हैं माइंडफुलनेस, हम बता रहे हैं कैसे

इस विटामिन की खुराक चयापचय और मूड डिसऑर्डर सहित कई चिकित्सा स्थितियों की एक विस्तृत श्रृंखला का इलाज करने में मदद कर सकती है। PCOS के मामले में, यह ओवेरियन फंक्शन में सुधार करने और पीरियड्स को सामान्य करने में मदद करता है, जिससे गर्भधारण करना आसान हो जाता है।

पीसीओएस के बारे में जागरुकता बहुत जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
पीसीओएस के बारे में जागरुकता बहुत जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. ओमेगा 3 फैटी एसिड्स

ओमेगा-3 एक आवश्यक फैटी एसिड है और पॉलीअनसेचुरेटेड फैट के परिवार से संबंधित है। ओमेगा-3 फैटी एसिड का नियमित सेवन सूजन संबंधी बीमारियों और अवसाद के कम जोखिम जैसे कई स्वास्थ्य लाभों से जुड़ा हुआ है। PCOS के रोगियों में, यह ग्लूकोज चयापचय को बढ़ाने और लेप्टिन में सुधार करने में मदद करता है, जिससे अंततः भूख कम हो जाती है और वजन कम होता है। 

ओमेगा-3 के समृद्ध प्राकृतिक स्रोतों में फिश ऑयल, वसायुक्त मछली, अलसी का तेल और अखरोट शामिल हैं।

  1. क्रोमियम

क्रोमियम शुगर और फैट चयापचय के लिए आवश्यक एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। यह ब्लड शुगर लेवल को कम करता है और इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ाता है। इस पोषक तत्व का दैनिक सेवन 50 से 200 मिलीग्राम तक सीमित मात्रा में करने की सलाह दी जाती है। हालांकि, यह मिनरल कई खाद्य पदार्थों में कम मात्रा में पाया जाता है। इसलिए अधिकांश लोग सप्लीमेंट्स पर भरोसा करते हैं। क्रोमियम के कुछ प्राकृतिक शेलफिश, ब्रोकोली और नट्स शामिल हैं।

  1. एन- एसिटाइलसिस्टीन (NAC)

एसिटाइलसिस्टीन, जिसे एन-एसिटाइलसिस्टीन भी कहा जाता है, अमीनो एसिड सिस्टीन का पूरक रूप है, जिसका उपयोग शरीर द्वारा एंटीऑक्सिडेंट बनाने के लिए किया जाता है। यह PCOS से पीड़ित महिलाओं में प्रजनन क्षमता बढ़ाने और इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने में मदद करता है। यह पोषक तत्व बीन्स, दाल, पालक, केले, सैल्मन और टूना में स्वाभाविक रूप से पाया जा सकता है। लेकिन ज्यादातर लोग सिस्टीन का सेवन बढ़ाने के लिए सप्लीमेंट्स का चयन करते हैं।

यह भी पढ़ें: सेक्सुअल ग्रूमिंग को लेकर कंफ्यूज हैं? बेहतर यौन स्वास्थ्य के लिए इन 11 चीजों के बारे में जानना है जरूरी

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।