Secondary infertility : एक बच्चे के बाद भी हो सकती है प्रजनन संबंधी समस्या, जानिए क्या है सेकेंडरी इनफर्टिलिटी

पहली बार स्वाभाविक तौर पर हुई प्रेगनेंसी के बाद शरीर में कई प्रकार के बदलाव आते है। इन दिनों बहुत सारे जोड़े दूसरे बच्चे के वक्त परेशानियों का अनुभव करते हैं। जानते हैं सेकेंडरी इनफर्टिलिटी क्या है और इससे बचने के उपाय
Secondary infertility kise kehte hain
उम्र से संबंधित परिवर्तन, पीसीओएस, एंडोमेट्रियोसिस या जीवनशैली की आदतों में बदलाव जैसे कारण किसी महिला की रिप्रोडक्टिव हेल्थ को प्रभावित कर सकते हैं। चित्र शटरस्टॉक।
ज्योति सोही Published: 10 Jun 2024, 20:00 pm IST
  • 142

पहले बच्चे की खुशी नायाब होती है। मगर दूसरा बच्चा भी उतना ही प्यारा होता है। पर इन दिनों बहुत सारे जोड़े दूसरे बच्चे के वक्त परेशानियों का अनुभव करते हैं। कईयों को पहले बच्चे के बाद दूसरे बच्चे के आने में दस साल तक का इंतजार करना पड़ता है। वास्तव में पहली बार गर्भधारण के बाद दूसरी बार होने वाली असफलता सेकेंडरी इनफर्टिलिटी के कारण हो सकता है। पहली बार स्वाभाविक तौर पर हुई प्रेगनेंसी के बाद शरीर में कई प्रकार के बदलाव आने लगते हैं, जिससे इलफर्टिलिटी बढ़ने लगती है। जानते हैं सेकेंडरी इनफर्टिलिटी (Secondary infertility) क्या है और इससे बचने के उपाय भी ।

सेकेंडरी इनफर्टिलिटी किसे कहते हैं

इस बारे में प्रिस्टीन केयर की को फाउंडर डॉ गरिमा साहनी ने विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि सेकेंडरी इनफर्टिलिटी का अर्थ है कि पहला बच्चा होने के बाद दूसरी बार महिला को गर्भवती होने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। एक्सपर्ट के अनुसार ऐसा नहीं है कि अगर किसी कपल को पहले बच्चा हो चुका हो, तो दूसरे बच्चे का होना स्वाभाविक हो।

कई मामलों में महिलाओं को दूसरी बार गर्भवती होने में असुविधा का सामना करना पड़ता है। शरीर में होने वाले बदलाव, स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं या अन्य कारण इस समस्या को बढ़ा देते हैं। इससे किसी महिला को दूसरी बार गर्भवती होने में मुश्किलात का सामना करना पड़ता है।

Infertility ke kaaran jaanein
कपल्स के लिए सेकेंडरी इनफर्टिलिटी बेहद तनावपूर्ण समस्या होती है। चित्र : अडोबी स्टॉक

क्यों बढ़ने लगती है सेकेंडरी इनफर्टिलिटी की समस्या

एक्सपर्ट के अनुसार कपल्स के लिए सेकेंडरी इनफर्टिलिटी (secondary infertility) बेहद तनावपूर्ण समस्या होती है। दरअसल, महिला जब पहले सफलतापूर्वक गर्भ धारण करने में सक्षम रही है। तो दूसरी बार कई कारणों से इनफर्टिलिटी बढ़ जाती है।

अंडे की गुणवत्ता में उम्र से संबंधित परिवर्तन, पीसीओएस, एंडोमेट्रियोसिस या जीवनशैली में बदलाव रिप्रोडक्टिव हेल्थ को प्रभावित कर सकते हैं। सेकेंडरी इनफर्टिलिटी के लिए वजन बढ़ना, स्पर्म क्वालिटी या ब्लॉक फैलोपियन ट्यूब से संबंधित जटिलताएं भी शामिल होती हैं।

इन टिप्स की मदद से सेकेंडरी इनफर्टिलिटी से बचा जा सकता है (Tips to deal with secondary infertility)

1. कैफीन और अल्कोहल को करें अवॉइड

अधिकतर महिलाएं दिनभर एक्टिव रहने के लिए कैफिनेटिड बैवरेजिज़ की मदद लेती है। इसका असर उनके प्रजनन स्वास्थ्य पर भी नज़र आने लगता है। इसके अलाव अल्कोहल इनटेक बढ़ाने से भी बांझपन की समस्या बढ़ जाती है। चाय, कॉफी और अल्कोहल के सेवन को नियंत्रित करने का प्रयास करें

2. हेल्दी वेट मेंटेन रखें

ओवरवेट सेकेंडरी इनफर्टिलिटी (secondary infertility) का कारण साबित होता है। दरअसल, ओवरवेट महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन बढ़ जाता है, जिसका असर पीरियड पर दिखने लगता है। वहीं पुरूषों में बढ़ने वाला मोटापा स्पर्म की गुणवत्ता और मात्रा को प्रभावित करता है। ऐसे में ओवरइटिंग से बचें और दिनभर में कुछ वक्त वर्कआउट के लिए अवश्य निकालें।

Obesity ka pregnancy par asar
ओवरवेट महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन बढ़ जाता है, जिसका असर पीरियड साइकल पर भी दिखने लगता है। चित्र शटरस्टॉक।

3. संतुलित आहार है ज़रूरी

आहार में पोषक तत्वों की मात्रा को बढ़ाएं। मील में कार्ब्स को कम करके प्रोटीन, विटामिन, मिनरल, आमेगा 3 फैटी एसिड (omega 3 fatty acid) और फोलेट को एड करें। इससे कैलोरीज़ को संतुलित रखने में मदद मिलती है। साथ ही शरीर में कैलोरी इनटेक से बचा जा सकता है। इसके अलावा दिनभर में छोटी मील्स लें।

4. शरीर को हाइड्रेटिड रखें

शरीर को अच्छी तरह से हाइड्रेटिड रखने के लिए रोज़ाना 3 से 4 लीटर पानी पीना चाहिए। इससे शरीर में मौजूद टॉक्स्कि पदार्थों से मुक्ति मिलती है। साथ ही निर्जलीकरण (dehydration) से एग क्वालिटी प्रभावित होती है। इसके अलावा सर्विकल म्यूकस सिक्रीशन (cervical mucus secretion) भी घट जाता है। स्पर्म आसानी से फैलोपियन ट्यूब तक नहीं पहुंच पाती।

pani peekar khud ko infertility se bachaayein
शरीर को अच्छी तरह से हाइड्रेटिड रखने के लिए रोज़ाना 3 से 4 लीटर पानी पीना चाहिए। चित्र : अडोबी स्टॉक

5. नियमित शारीरिक व्यायाम

कसरत करना निश्चित रूप से समग्र स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। किसी ट्रेनर की देखरेख में ही व्यायाम करें। इससे शरीर एक्टिव और हेल्दी रहता है। अत्यधिक परिश्रम भी स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है।

6. डॉक्टर से संपर्क करें

गर्भावस्था की योजना बनाने से एक साल या छह महीने पहले अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना बहुत महत्वपूर्ण है। समय से जांच करवाने पर रिप्रोडक्टिव हेल्थ (reproductive health) को बूस्ट करने में मददगार साबित होती है।

ये भी पढ़ें-  Inner thighs rashes: गर्मी में पसीना और ह्यूमिडिटी से बढ़ जाता है इनर थाई रैशेज का खतरा, एक्सपर्ट से जानें कैसे करना है डील

  • 142
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख