और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

ये संकेत बताते हैं कि आपको समय से पहले हो सकता है मेनोपॉज! जानिए इससे कैसे निपटना है

Updated on: 16 September 2021, 18:36pm IST
क्या आपको भी मेनोपॉज़ से डर लगता है? और इसे लेकर तनाव में हैं? तो ज्यादा परेशान न हों, क्योंकि तनाव भी अर्ली मेनोपॉज का कारण बन सकता है। यहां हैं वे संकेत जो बताते हैं कि आप जल्दी ही मेनोपॉज को हिट करने वाली हैं।
अदिति तिवारी
  • 105 Likes
early menopause ke saneton aur nipatne ke tarikon ke baarein mein jane
अर्ली मेनोपॉज़ के संकेतों और निपटने के तरीकों के बारे में जानें। चित्र:शटरस्टॉक

मेनोपॉज़ से किसी भी महिला को लव और हेट का अनुभव एक साथ करवा सकते हैं। एक तरफ जहां उसे हर महीने आने वाले पीरियड्स से छुटकारा मिल जाता है, वहीं इसके साथ कई शारीरिक और भावनात्मक समस्याएं भी शुरू हो जाती हैं। किसी भी स्त्री के लिए यह एक अहम बदलाव का समय होता है। औसतन 45-50 वर्ष की उम्र में मेनोपॉज शुरू हो जाते हैं। पर कई बार आप इस उम्र से पहले भी मेनोपॉज को हिट कर सकती हैं। अगर ऐसा हो रहा है तो आपको इसके संकेत समझने और उसे संभालने के उपाय जानने की जरूरत है। 

यदि आपको समय से पहले अनियमित पिरियड्स, योनि के सूखापन, रात को पसीना आना, नींद की समस्या या मूड स्विंग जैसी परेशानियों का अनुभव हो रहा है तो यह अर्ली मेनोपॉज़ के संकेत हो सकते हैं। 

पहले समझिए क्या है अर्ली मेनोपॉज़?

अर्ली मेनोपॉज़ एक ऐसी स्थिति हैं जहां एक महिला आमतौर पर अपेक्षित उम्र (45-50 वर्ष) से पहले ही मेनोपॉज़ की स्थिति में पहुंच जाती है।  इसके परिणामस्वरूप महिलाएं गर्भवती होने में असमर्थ हो सकती हैं। दुनिया की 5% महिलाएं अर्ली मेनोपॉज़ का अनुभव करती है। धूम्रपान और कुछ दवाएं या उपचार (कीमोथेरपी) के कारण रजोनिवृत्ति (menopause) सामान्य समय से पहले आ सकती है। कोविड के बाद भी महिलाओं में पीरियड संबंधी समस्याएं देखी गईं हैं। जिनमें अर्ली मेनोपॉज के संकेत भी शामिल है। 

early menopause ka swasthya par padta hai asar
अर्ली मेनोपॉज़ का स्वास्थ्य पर पड़ता है असर। चित्र:शटरस्टॉक

क्या हैं अर्ली मेनोपॉज के संभावित कारण!

अर्ली मेनोपॉज़ बिना कोई स्पष्ट कारण के अपने आप हो सकती है, या यह किसी सर्जरी, दवाई या अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के कारण भी हो सकता है। अर्ली मेनोपॉज़ के अन्य कारणों में शामिल है: 

1. पारिवारिक इतिहास: 

समय से पहले रजोनिवृत्ति के पारिवारिक इतिहास वाली महिलाओं में जल्दी या समय से पहले रजोनिवृत्ति होने की संभावना अधिक होती है।

2. धूम्रपान:

शोध द्वारा पता चला है कि जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं, उन्हें धूम्रपान न करनेवाली महिलाओं की तुलना में 2 साल पहले ही मेनोपॉज़ हो जाता है। उन्हे मेनोपॉज़ के गंभीर लक्षणों का भी सामना करना पड़ सकता है। 

3. कैंसर के लिए कीमोथेरेपी या पैल्विक रेडिऐशन ट्रीटमेंट: 

ये उपचार आपके अंडाशय को नुकसान पहुंचा सकते हैं और आपके पीरियड्स को हमेशा के लिए या कुछ समय के लिए बंद कर सकते हैं। आपको गर्भवती होने में भी परेशानी हो सकती है या फिर से गर्भवती नहीं हो सकती है। कीमोथेरेपी या रेडिऐशन वाली सभी महिलाएं मेनोपॉज़ से नहीं गुजरती है। 

कीमोथेरेपी या रेडिऐशन ट्रीटमेंट के समय एक महिला की उम्र कम होती है, तो उसके मेनोपॉज़ से गुजरने की संभावना भी कम होती है।

smoking bhi ho sakti hai early menopause ka kaaran
स्‍मोकिंग भी हो सकती है अर्ली मेनोपॉज़ का कारण। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. अंडाशय को हटाने के लिए सर्जरी (oophorectomy):

दोनों अंडाशयों का सर्जिकल निष्कासन तुरंत रजोनिवृत्ति (menopause) के लक्षण पैदा कर सकता है। इस सर्जरी के बाद आपके पीरियड्स बंद हो जाएंगे और आपके हार्मोन का स्तर जल्दी गिर जाएगा। आपको मेनोपॉज़ के गंभीर लक्षणों का भी सामना करना होगा। 

अर्ली मेनोपॉज़ के संकेत

अर्ली मेनोपॉज़ का सबसे पहला और आम संकेत है अनियमित पिरियड्स या नॉर्मल अवधि से लंबी या छोटी पीरियड अवधि। इसके अन्य संकेत है:

  • ज्यादा ब्लीडिंग और स्पॉटिंग। 
  • जब पीरियड की अवधि एक सप्ताह से ज्यादा होती है। 
  • मूड स्विंग। 
  • अनियमित नींद । 
  • योनि का सूखापन। 
  • अचानक बुखार महसूस करना। 

अर्ली मेनोपॉज़ की पहचान कैसे करें ? 

यदि आपको 12 महीने से अधिक समय तक पीरियड्स नहीं आया है, तो इस स्थिति को आमतौर पर मेनोपॉज़ माना जाता है।

रजोनिवृत्ति की पहचान (diagnose) करने के लिए आमतौर पर टेस्ट की आवश्यकता नहीं होती। अधिकांश महिलाएं अपने लक्षणों के आधार पर रजोनिवृत्ति का स्व-निदान कर सकती हैं। लेकिन अगर आपको लगता है कि आप जल्दी रजोनिवृत्ति का अनुभव कर रही हैं, तो आप यह सुनिश्चित करने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकती हैं।

mood swing ho sakte hai early menopause ke sanket
मूड स्विंग हो सकते है अर्ली मेनोपॉज़ के संकेत। चित्र- शटरस्टॉक।

आपका डॉक्टर यह निर्धारित करने के लिए हार्मोन टेस्ट का सुझाव दे सकता है। जांच करने के लिए ये सबसे आम हार्मोन हैं:

एंटी-मुलरियन हार्मोन (AMH): पिकोएएमएच एलिसा टेस्ट (Pico AMH elisa test) इस हार्मोन का उपयोग यह निर्धारित करने में मदद करता है कि आप रजोनिवृत्ति के करीब पहुंच रही हैं या अपने अंतिम मासिक धर्म तक पहुंच चुकी हैं।

एस्ट्रोजन (estrogen): आपका डॉक्टर आपके एस्ट्रोजन के स्तर की जांच कर सकता है, जिसे एस्ट्राडियोल (estradiol) भी कहा जाता है। रजोनिवृत्ति में, एस्ट्रोजन का स्तर कम हो जाता है।

फोलिकल स्टिमुलेटिंग हार्मोन (FSH): यदि आपका FSH स्तर लगातार 30 mIU/mL से ऊपर है, और आपने एक वर्ष से मासिक धर्म नहीं किया है, तो संभावना है कि आप रजोनिवृत्ति तक पहुंच चुकी हैं।

थायराइड स्टिमुलेटिंग  हार्मोन (TSH): निदान की पुष्टि के लिए आपका डॉक्टर आपके टीएसएच (TSH) के स्तर की जांच कर सकता है।

जानिए आप इस स्थिति को कैसे बेहतर तरीके से संभाल सकती हैं 

मेनोपॉज़ के लिए आमतौर पर उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, रजोनिवृत्ति के लक्षणों या इससे संबंधित स्थितियों को रोकने के लिए उपचार के विकल्प उपलब्ध हैं। इसके लिए आपके शरीर या जीवनशैली में कुछ जरूरी परिवर्तनों के साथ नया उपचार करने से अधिक आसानी से निपटने में सहायता मिल सकती है। 

1. नियमित रूप से व्यायाम करें

व्यायाम मेनोपॉज़ के कई लक्षणों को कम करने में कारगर है। इनमें बेहतर ऊर्जा और मेटाबॉलिज़्म, स्वस्थ जोड़ों और हड्डियों, तनाव में कमी और बेहतर नींद शामिल है। एक अध्ययन में पाया गया कि एक वर्ष के लिए प्रति सप्ताह तीन घंटे व्यायाम करने से मेनोपॉज़ महिलाओं में शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हुआ है। 

niyamit yoga menopause se nipatne ke liye faydemand hai
नियमित योग मेनोपॉज़ से निपटने के लिए फायदेमंद है। चित्र : शटरस्टॉक

2. सोया युक्त आहार का सेवन करें: 

अधिक सोया उत्पादों को शामिल करने के लिए अपने आहार में बदलाव करना आपके रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम कर सकता है। सोया में आइसोफ्लेवोन्स (isoflavones) नामक एक पौधा-आधारित एस्ट्रोजन (estrogen) होता है, इसलिए यह आपके शरीर द्वारा उत्पादित एस्ट्रोजन की मात्रा को बढ़ा देता है। 

इस उपाय से रात को पसीना और यहां तक ​​कि योनि का सूखापन भी ठीक हो सकता है। सोयाबीन, टोफू और सोया दूध आपके आहार में अधिक सोया को शामिल करने के सबसे अच्छे उपाय हैं। 

3. अन्य चिकित्सकीय उपचार:

सबसे आम उपचार में हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी) शामिल है। हार्मोन थेरेपी कई सामान्य रजोनिवृत्ति के लक्षणों को रोक सकती है। या आप सिस्टमैटिक हॉर्मोन थेरपी कर सकती हैं। आमतौर पर कम डोज से लक्षणों को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है। हालांकि एचआरटी (HRT) में जोखिम है। यह आपके हृदय रोग, स्ट्रोक, या स्तन कैंसर (breast cancer) की संभावना को बढ़ा सकता है।

इनमें से किसी भी ट्रीटमेंट को करने के लिए अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। 

यह भी पढ़ें: आपातकालीन गर्भ निरोधक गोलियों का ज्यादा सेवन आपके स्वास्थ्य पर पड़ सकता है भारी

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !