मेनोपॉज के बाद भी हो सकता है गर्भाशय में फाइब्रॉएड का जोखिम, एक्सपर्ट से जानिए कुछ जरूरी तथ्य 

Updated on: 19 July 2022, 17:44 pm IST

रजोनिवृत्ति के दौरान कई महिलाएं फाइब्रॉएड से पीड़ित होती हैं। यहां बताया गया है कि वे क्यों विकसित होते हैं और आप इनका उपचार कैसे कर सकती हैं। 

युट्रीन फाइब्रॉएड के बारे में सबकुछ जानना है बेहद ज़रूरी है. चित्र : शटरस्टॉक
युट्रीन फाइब्रॉएड के बारे में सबकुछ जानना है बेहद ज़रूरी है. चित्र : शटरस्टॉक

गर्भाशय फाइब्रॉएड (leiomyomas of the uterus) एक महिला के यूट्रस वॉल पर देखे जाने वाले छोटे ट्यूमर होते हैं। ये ट्यूमर आमतौर पर सौम्य (गैर-कैंसरयुक्त) होते हैं। इसके बावजूद वे असहजता और दर्द का कारण बनते हैं। ये ज्यादातर उन महिलाओं में देखे जाते हैं जो प्रसव की उम्र की हैं, लेकिन रजोनिवृत्ति के दौरान भी फाइब्रॉएड महिलाओं में बहुत आम हैं। आप जीवन के इस चरण में यानी रजोनिवृत्ति के आसपास भी इसकी शिकार हो सकती हैं। ऐसा क्यों होता है और आप इसका उपचार (Causes of uterine fibroids) कैसे कर सकती हैं, इस बारे में विस्तार से बता रही हैं डॉ प्रतिमा थमके। डॉ प्रतिमा मदरहुड हॉस्पिटल खारघर, मुंबई में प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं। 

फाइब्रॉएड और हार्मोन के बीच की कड़ी

डॉ प्रतिमा के अनुसार फाइब्रॉएड के निर्माण और वृद्धि के लिए दो हार्मोन, प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन जिम्मेदार होते हैं। यदि एस्ट्रोजन का स्तर बहुत अधिक है तो यह फाइब्रॉएड के विकास का कारण बन सकता है और एक बार जब वे बड़े हो जाते हैं, तो प्रोजेस्टेरोन भी फाइब्रॉएड के विकास में योगदान दे सकता है।

फाइब्रॉएड के कारण

यद्यपि फाइब्रॉएड क्यों बनते हैं, इसकी स्पष्ट व्याख्या नहीं हो पाई है, वे आमतौर पर तब प्रकट होते हैं जब आपका शरीर बहुत अधिक एस्ट्रोजन का उत्पादन कर रहा होता है। लेकिन जब आप रजोनिवृत्ति से गुजरती हैं, तो आपका शरीर बदल जाता है, जो इस बात को प्रभावित करता है कि आपको गर्भाशय में फाइब्रॉएड होने की कितनी संभावना है।

रजोनिवृत्ति और फाइब्रॉएड

पेरिमेनोपॉज़ फेज़ के दौरान, जब एक महिला मासिक चक्र के बिना 12 महीने रहती है, तो शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का स्तर बहुत कम होता है, जबकि प्रसव के वर्षों के दौरान ये हार्मोन सबसे अधिक होते हैं। 

जैसे-जैसे आपका शरीर पेरिमेनोपॉज़ से रजोनिवृत्ति के फेज़ में जाता है, आपके अंडाशय एस्ट्रोजन का उत्पादन बंद कर देते हैं। नतीजतन, आपके शरीर में नए फाइब्रॉएड विकसित होने की संभावना कम हो जाएगी। हार्मोन के स्तर में गिरावट मौजूदा फाइब्रॉएड के आकार को कम करने में भी मदद कर सकती है।

मेनोपॉज के बाद फाइब्रॉएड

रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं को गर्भाशय फाइब्रॉएड का अनुभव करना बेहद असामान्य है, यह अभी भी अज्ञात है कि ऐसा क्यों होता है। रजोनिवृत्ति के बाद, इस वजह से, फाइब्रॉएड के विकास के कम या कोई लक्षण नहीं होंगे।

क्या हो सकते हैं फाइब्रॉएड के लिए जोखिम कारक:

उच्च रक्तचाप, मोटापा, गर्भवती न होना, तनाव और कम विटामिन डी जैसी कुछ समस्याएं फाइब्रॉएड का कारण बन सकती हैं।

क्या हैं कारण? चित्र: शटरस्टॉक

यहां हैं फाइब्रॉएड के मुख्य लक्षण :

भारी रक्तस्राव, बार-बार स्पॉटिंग, एनीमिया, मासिक धर्म जैसी ऐंठन, पेट के निचले हिस्से में भारीपन, पेट में सूजन, पीठ के निचले हिस्से में दर्द, बार-बार पेशाब आना, असंयम या पेशाब का रिसाव, दर्दनाक संभोग, बुखार, मतली और सिरदर्द ये सभी फाइब्रॉएड के ही लक्षण हैं।

इन चिंताजनक लक्षणों को नोटिस करने के बाद तत्काल मदद लेनी चाहिए। इन  लक्षणों को नजरअंदाज करके बिल्कुल भी हल्के में न लें। रजोनिवृत्ति के  दौरान, हमें फाइब्रॉएड को मैनेज करने की आवश्यकता होती है। यदि ये छोटे हैं और कोई लक्षण नहीं दिखाते हैं, तो इसका इलाज करने की कोई आवश्यकता नहीं हो सकती है।

रजोनिवृत्ति के दौरान फाइब्रॉएड

कभी-कभी, फाइब्रॉएड किसी भी लक्षण का कारण नहीं बनता है और उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। पर कई बार महिलाओं को इसके तकलीफदेह लक्षणों का अनुभव होता है।

कैसे हो सकता है इसका उपचार:

1. जन्म नियंत्रण की गोलियां (birth control pills)

रजोनिवृत्ति के दौरान फाइब्रॉएड से निपटना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। लेकिन इसके लिए गर्भनिरोधक गोलियां लेने की सलाह दी जा सकती है। प्रोजेस्टिन-ओनली बर्थ कंट्रोल पिल्स का संयोजन फाइब्रॉएड के लिए काम करता है। प्रोजेस्टिन रजोनिवृत्ति के लक्षणों को अधिक प्रभावी ढंग से दूर करने के लिए प्रवृत्त होते हैं।

2. सर्जरी (surgery)

मायोमेक्टॉमी: सर्जरी भी एक और विकल्प हो सकता है। किसी को मायोमेक्टॉमी से गुजरने के लिए कहा जा सकता है। मायोमेक्टॉमी फाइब्रॉएड को हटाने में मदद करेगी और इसके लिए गर्भाशय को हटाने की आवश्यकता नहीं होती है।

हिस्टरेक्टॉमी: महिलाओं के लिए एक हिस्टरेक्टॉमी (गर्भाशय का शल्य चिकित्सा हटाने) का भी सुझाव दिया जा सकता है। आपको डॉक्टर द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशों का पालन करना होगा।

फायब्रॉएड आपकी प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
फायब्रॉएड रजोनिवृत्ति के दौरान भी हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

3. फोर्स्ड अल्ट्रासाउंड सर्जरी (FUS)

फोर्स्ड अल्ट्रासाउंड सर्जरी (FUS-forced ultrasound surgery) फाइब्रॉएड को नष्ट करने के लिए उच्च-ऊर्जा, उच्च-आवृत्ति ध्वनि तरंगों का उपयोग करती है ।

4. गर्भाशय धमनी एम्बोलिज़ेशन (यूएई)

फाइब्रॉएड को रक्त की आपूर्ति में कटौती करने के लिए गर्भाशय धमनी एम्बोलिज़ेशन (यूएई) किया जाता है।

5. मायोलिसिस

मायोलिसिस प्रक्रिया को फाइब्रॉएड में एक सुई डालने और ऊतक को नष्ट करने के लिए सुई के माध्यम से फाइब्रॉएड में विद्युत प्रवाह भेजकर किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: आपका प्रोफेशन और सोहबत, दोनों बढ़ा सकते हैं आपके लिए डिमेंशिया का जोखिम

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें