याेनि में इंफेक्शन और जलन का कारण बन सकता है पसीना, जानिए गर्मियों में कैसे रखना है इसे साफ

Updated on: 25 April 2022, 15:19 pm IST

“बॉडी बन गई झरना, पंखे तू कुछ तो करना”, यकीनन ये पंक्ति आपने भी सुनी होगी। पर शरीर के उन हिस्सों का क्या जहां, पंखे और कूलर की हवा भी नहीं पहुंच पाती!

summer season me intimate health ko den extra care.
गर्मियों में इंटिमेट हेल्थ पर दें खास ध्यान। चित्र शटरस्टॉक :

गर्मियां शुरू हो चुकी हैं। इसे डिहाइड्रेशन, इन्फेक्शन से लेकर इंटिमेट हेल्थ से जुड़ी कई समस्यायों का सीजन कहा जाता है। इस समय अपनी बॉडी को एक्स्ट्रा केयर देने की जरूरत है। गर्मियों के मौसम में सबसे ज्यादा परेशानी की बात होती है पसीना आना। आप जानती होंगी कि पसीना आने से खुजली, इर्रिटेशन, इन्फेक्शन इत्यादि की संभावना बढ़ जाती है और यह सबसे ज्यादा आपके इंटिमेट एरिया को प्रभावित करती है। इसलिए इस बढ़ती गर्मी में हाइड्रेशन, त्वचा और सेहत के साथ इंटिमेट हेल्थ (intimate health) पर भी ध्यान देने की जरूरत है। बॉडी के बाकी हिस्सों की देखभाल हम बहुत अच्छे से करते है, परंतु इंटिमेट एरिया को नज़रअंदाज कर देते है, जिसके कारण समस्या और ज्यादा बढ़ जाती है।

गर्मियों में बॉडी के सेंसिटिव पार्ट्स को लेकर सचेत रहें

इंटिमेट एरिया बॉडी का सबसे सेंसिटिव पार्ट होता है। यह बॉडी का वह हिस्सा है, जहां गर्मियों में रैश, बदबू, इन्फेक्शन (infection), एलर्जी और न जाने कितनी तरह की परेशानियां हो जाती हैं। बढ़ती गर्मी और चिलचिलाती धूप को देखते हुए आप सब तरह तरह की स्किन केयर रूटीन बना लेती है, पर शायद ही आप में से कोई ऐसा हो जो इंटिमेट हेल्थ को लेकर सीरियस हो। 

आपको बता दें कि गर्मियों में स्किन के साथ-साथ इंटीमेट एरिया भी बहुत प्रभावित होता है। इसलिए इंटिमेट हाइजीन को नज़रअंदाज करना आपको मुसीबत में डाल सकता है। पर्सनल हाइजीन (personal hygiene) में लापरवाही के कारण महिलाओं को कई स्वास्थ्य समस्याओं से गुजरना पड़ता है। हमने इस बारे में एक्सपर्ट से बात की, उनसे जानिए गर्मियों में इंटिमेट हाइजीन का ख्याल रखने के कुछ जरूरी उपाय।

Ab apko zyada sweat and dust ka samna karna pad sakta hai
इंटीमेट एरिया में पसीना आना आपको कई समस्याएं दे सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

पसीना और इंटीमेट हाइजीन 

गर्मियों में इंटिमेट हेल्थ (intimate health) के प्रभावित होने की संभावना बढ़ जाती है। ऐसी परिस्थिति से बचने के लिए जरूरी एहतियात बरतने की कोशिश करें।

  1. गर्मियों में इंटिमेट हाइजीन (intimate hygiene) का ध्यान न रखने से आपको कई तरह के वेजाइनल इन्फेक्शन (vaginal infection) और यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) का खतरा हो सकता है। 
  2. अपनी योनि की साफ-सफाई पर ध्यान न देने से आपको खुजली, इन्फेक्शन और रैशेज हो सकते हैं। जिसकी वजह से आप पूरे दिन इर्रिटेशन और चिड़चिड़ापन महसूस करेंगी।
  3. इंटिमेट हाइजीन (intimate hygiene) को नजरअंदाज करना आपको साइकोलॉजिकली भी प्रभावित कर सकता है। मानसिक रूप से किसी कार्य पर ध्यान केंद्रित रखने में परेशानी हो सकती है।
  4. आप आलस और थकान महसूस करेंगी। वहीं मेथिसिलीन रेज़िस्टेंट स्टैफीलोकस ऑरस (एमआरएसए) से प्रभावित हो सकती हैं। यह एक प्रकार का बैक्टीरियल इन्फेक्शन (bacterial infection) है जो बाद में आपके ब्लड डिसीज का कारण बनता है।
  5. यदि आपका वजन ज्यादा है तो गर्मियों में अपने इंटिमेट हाइजीन को लेकर खास सचेत रहें। वजन अधिक होने के कारण, शरीर से ज्यादा पसीना आता है और यह आपके इंटिमेट एरियाज (intimate areas) खासकर जांघ और उसके आस पास के हिस्सों को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है।

एक्सपर्ट बता रही हैं इंटिमेट हेल्थ केयर के यह 5 महत्वपूर्ण तरीके

फोर्टिस एस्कॉर्ट्स, फरीदाबाद की सीनियर ओबीएस और गयनेकोलॉजिस्ट डॉ नीति कौतिश कहती है कि गर्मियों के मौसम में पसीना आने के कारण शरीर पर विशेष रूप से ध्यान देने की जरूरत होती है, खासकर इंटिमेट एरियाज (intimate areas) पर। गर्मियों में सबसे ज्यादा प्रभावित कुछ होता है, तो वह है वेजाइना, जांघ और उसके आसपास का हिस्सा। 

जैसा कि आप जानती है गर्मियों अच्छा फील करने के लिए इंटिमेट एरियाज को छोड़ कर हम अपने बाकी बॉडी पार्ट्स को खुला रखते है, हल्के कपड़े पहनते है। ऐसे में योनि के आसपास अधिक समय तक नमी होने के कारण इन्फेक्शन (infection) होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।

Infection ke samay shaving karne se khujli ho sakti hai
अपने योनि का रखे ख्याल। चित्र: शटरस्टॉक

 गर्मियों में महिलाओं को अपने इंटिमेट हाइजीन को लेकर अधिक सचेत रहने की जरूरत है। गर्मियों में वेजाइना और आसपास के एरियाज की केयर और साफ-सफाई न करने से बैक्टीरियल इनफेक्शन, खुजली और जलन जैसी समस्याएं होती हैं। गर्मियों में इन समस्याओं से दूर रहने के लिए एक्सपर्ट द्वारा बताए गए इन 5 नियमों को जरूर फॉलो करें।

  1. खूब सारा पानी पियें

डॉ नीति कौतिश कहती है कि गर्मियों में बॉडी को हाइड्रेटेड रखना बहुत जरूरी है। पानी बॉडी से टॉक्सिक पदार्थों को निकालकर पीएच लेवल को नियंत्रित रखता है। शरीर में पानी की कमी से इंटिमेट एरिया जैसे कि वेजाइना में जलन हो सकती है। 

  1. निजी अंगों को कम से कम दिन में दो बार पानी से धोएं

योनि को स्वस्थ और साफ रखने के लिए कम से कम दिन में दो बार ठंडे या गुनगुने पानी से धोएं। रात को सोने से पहले इसे साफ करना जरूरी है। यदि आप गर्मी से आई हैं और आपको अत्यधिक पसीना आ रहा है, तो ऐसे में सबसे पहले अपनी योनि को साफ करने की जरूरत है।

  1. प्राइवेट पार्ट्स को साफ करने के लिए एसएलएस (sodium Lauryl sulphate) फ्री प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें

गयनेकोलॉजिस्ट बताती हैं की यदि आपके प्राइवेट पार्ट्स में किसी तरह की इंफेक्शन और एलर्जी की समस्या है तो ऐसे में एसएलएस फ्री प्रोडक्ट्स का उपयोग करना चाहिए। क्योंकि एसएलएस वाले प्रोडक्ट्स आपकी समस्या को और ज्यादा बढ़ा सकते है। यदि इंफेक्शन लंबे समय से ठीक नहीं हो रहा तो फौरन डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है। क्योंकि गर्मियों में योनि की समस्या जल्दी ठीक नहीं हो पति और बाद में बड़ी समस्या का रूप ले सकती हैं। 

  1. हेल्दी डाइट भी है जरूरी

गर्मियों में मसालेदार और तैलीय भोजन, साथ ही लहसुन प्याज युक्त खाद्य पदार्थ, शराब, चाय, कॉफी, कोल्ड ड्रिंक का अधिक सेवन करने से बॉडी में पीएच वैल्यू असंतुलित हो जाती है। जिसके कारण प्राइवेट पार्टस यानी कि योनि से अधिक गंध आने लगती है। इसलिए गर्मियों में स्वस्थ और सादा भोजन करने का प्रयास करें।

intimate health ke liye healthy diet
हेल्दी डाइट देगी इंटिमेट हेल्थ प्रोब्लेम्स से रहत। चित्र: शटरस्टॉक
  1. इंटिमेट एरियाज की हेयर ट्रीमिंग जरूरी है या नहीं

गयनेकोलॉजिस्ट डॉ नीति कौतिश का कहना है कि गर्मियों में प्राइवेट पार्टस की हेयर शेविंग न करने से पसीने के कारण इरिटेशन और खुजली जैसी समस्याएं होती है। परंतु आपका वजाइनल हेयर बैक्टीरिया और अन्य खतरनाक रोगजनको को योनि में प्रवेश करने से रोकता है। जिसकी मदद से आप संक्रमण, यूटीआई (UTI) और अन्य परेशानियों से दूर रह सकती हैं।

बालों के साथ वेजाइना को सूखा और साफ रखना थोड़ा कठिन हो सकता है, लेकिन आपके बाल भी बहुत जरूरी है। इसीलिए अपने प्राइवेट पार्ट्स की स्वच्छता पर विशेष ध्यान देने की कोशिश करें। 

पीरियड्स के समय और भी ज्यादा जरूरी है सफाई रखना 

माहवारी यानी पीरियड्स के दौरान इंटिमेट हाइजीन पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है। गर्मियों के मौसम में सेनेटरी नैपकिन का इस्तेमाल 4 घंटे से ज्यादा न करें। क्योंकि यह आपके इंफेक्शन का कारण हो सकती है। साथ ही पैड चेंज करते वक़्त दूसरी पैड लगाने से पहले अपनी वजाइना को पानी में एंटीसेप्टिक मिलाकर अच्छी तरह साफ कर ले। क्योंकी यह बैक्टीरियल इनफेक्शन को बढ़ने से रोकता है।

यदि आपको अपने प्राइवेट पार्ट में अत्यधिक परेशानी हो रही है, तो बिना देर किए स्त्री रोग विशेषज्ञ को दिखाने की जरूरत है। क्योंकि गर्मियों में योनि की समस्या जल्दी ठीक नहीं हो पाती इसीलिए ऐसे मामलों में देरी करने से परेशानी और ज्यादा बढ़ सकती है।

यह भी पढ़ें :  इस शोध के अनुसार दिन में 2 से 3 कप कॉफी पीना आपकी हार्ट हेल्थ के लिए हो सकता है फायदेमंद

 

अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें