वैलनेस
स्टोर

इस अध्ययन के अनुसार जहरीले रसायनों की वजह से कम हो रही है महिलाओं की मां बनने की क्षमता

Updated on: 5 June 2021, 19:26pm IST
अध्ययन में पाया गया कि जहरीले रसायनों के संपर्क में आने से महिलाओं के अंडाशय में अंडों की संख्या कम हो जाती है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 91 Likes
जहरीले रसायन महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर रहे हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
जहरीले रसायन महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर रहे हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

दुनिया भर में जन्म दर घट रही है। सभी यूरोपीय देश जनसंख्या प्रतिस्थापन स्तर से भी नीचे गिर रहे हैं, जो जनसंख्या को स्थिर रखने के लिए प्रति महिला आवश्यक बच्चों की संख्या को दर्शाता है। हालांकि ये कमी कई वयस्कों द्वारा अपने पहले बच्‍चे में जान बूझकर देरी के कारण भी हो सकती है या बच्चे पैदा ना करने के विकल्प को वजह से।

मौजूद अध्ययनों से पता चला है कि घटती जन्म दर पूरी तरह इस बात पर निर्भर नहीं कर सकता। कुछ शोध इसके लिए महिलाओं की प्रजनन क्षमता में गिरावट को भी कारण मानते हैं।

पुरुष प्रजनन क्षमता पर इन रसायनों के प्रभाव के बारे में बहुत कुछ जाना जाता है, लेकिन बहुत कम शोधों में ये देखा गया है कि वे महिलाओं को कैसे प्रभावित करते हैं। हमारे इस अध्ययन में हम यही जानने की कोशिश करेंगे।

हमने पाया कि सामान्य रासायनिक दूषित पदार्थों के संपर्क में आने से प्रजनन आयु की महिलाओं के अंडाशय में अंडे की संख्या कम होती जाती है। हालांकि इन रसायनों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, लेकिन इनका उपयोग कभी घरेलू उत्पादों जैसे लौ रिटार्डेड और मच्छर स्प्रे में किया जाता है। ये अभी भी पर्यावरण में और वसायुक्त मछली जैसे खाद्य पदार्थों में मौजूद हैं।

कम अंडे (Fewer eggs)

हमने 60 महिलाओं के रक्त में 31 सामान्य औद्योगिक रसायनों, जैसे एचसीबी (एक कृषि कवकनाशी) और डीडीटी (एक कीटनाशक) के स्तर को मापा। उनकी प्रजनन क्षमता को मापने के लिए, हमने उनके अंडाशय में अपरिपक्व अंडों की संख्या को माइक्रोस्कोप का उपयोग करके डिम्बग्रंथि ऊतक के नमूनों में गिनकर मापा।

अभी तक इसका कारण स्‍पष्‍ट नहीं हो सका है। चित्र: शटरस्‍टॉक
अभी तक इसका कारण स्‍पष्‍ट नहीं हो सका है। चित्र: शटरस्‍टॉक

चूंकि अंडाशय शरीर के अंदर स्थित होते हैं और उन्हें एक्सेस करने के लिए सर्जरी की आवश्यकता होती है, इसलिए हमने उन गर्भवती महिलाओं को चुना, जिनका सिजेरियन सेक्शन हो चुका था! ताकि इससे किसी दूसरी सर्जरी के बिना ऊतक के नमूनों तक पहुंचा जा सके।

क्‍या रहे परिणाम

हमने पाया कि जिन महिलाओं के रक्त के नमूने में रसायनों के उच्च स्तर थे, उनके अंडाशय में भी कम अपरिपक्व अंडे बचे थे। हमने कम अंडे की संख्या और पीसीबी (कूलेंट में प्रयुक्त), डीडीई (डीडीटी का उप-उत्पाद) और पीबीडीई (एक लौ रिटार्डेंट) सहित कुछ रसायनों के बीच महत्वपूर्ण संबंध पाया।

चूंकि महिला प्रजनन क्षमता उम्र पर निर्भर है, इसलिए हमने अपनी गणना को उन महिला की उम्र के आधार पर करना सुनिश्चित किया है। इससे हमें पता चला कि इन रसायनों के संपर्क में आने से सभी उम्र की महिलाओं के अंडे कम हो गए।

महिलाओं में अंडों की संख्‍या कम हो रही हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
महिलाओं में अंडों की संख्‍या कम हो रही हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

हमने यह भी पाया कि जिन महिलाओं के रक्त में रासायनिक स्तर अधिक होता है उन्हें गर्भवती होने के लिए अधिक समय तक प्रयास करना पड़ता है। इस अध्ययन में जिन महिलाओं के रक्त में रसायनों का उच्चतम स्तर होता है, उन्हें एक वर्ष से अधिक समय लगा।

अंडों की संख्‍या होती है प्रभावित 

पुरुषों के विपरीत, महिलाएं अपने अंडाशय में केवल अपरिपक्व अंडों के एक निश्चित सेट के साथ पैदा होती हैं, और जन्म के बाद नए अंडे नहीं दे सकती हैं। एक महिला का “रिजर्व” (उसके अंडाशय में अंडों की संख्या) स्वाभाविक रूप से मासिक ओव्यूलेशन से कम हो जाती है।

जब ये एक महत्वपूर्ण स्तर से कम हो जाते है, तो प्राकृतिक प्रजनन क्षमता समाप्त हो जाती है और रजोनिवृत्ति शुरू हो जाती है। हमारे निष्कर्षों का अर्थ है कि जहरीले रसायन डिम्बग्रंथि के रोम के गायब होने की गति को तेज कर सकते हैं, जिससे प्रजनन क्षमता कम हो सकती है और वक्त से पहले रजोनिवृत्ति हो सकती है।

रासायनिक सूप

हम भोजन के माध्यम से, और जिन उत्पादों को हम अपनी त्वचा पर लगाते हैं और यहां तक कि गर्भ में विकसित होने के दौरान भी हम अपनी माताओं के माध्यम से भी औद्योगिक रसायनों के संपर्क रहते है।

ये रसायन महिलाओं ीी फर्टिलिटी को प्रभावित कर रहे हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
ये रसायन महिलाओं ीी फर्टिलिटी को प्रभावित कर रहे हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

1940 के दशक से औद्योगिक रसायनों की संख्या और साथ ही पर्यावरण में उनकी प्रचुरता में लगातार वृद्धि हुई है। ये पारिस्थितिक तंत्र, वन्य जीवन और यहां तक कि मानव प्रजनन क्षमता पर विनाशकारी प्रभाव डाल रहे है। बहुत ही कम परीक्षण के साथ कई रसायनों को बाजार में पेश किया गया था। इससे एक ऐसी स्थिति पैदा हो गई जहां मनुष्य और पर्यावरण औद्योगिक रसायनों के व्यापक “सूप” के संपर्क में हैं।

प्रतिबंधित हैं ये रसायन 

अब तक, केवल दशकों तक उपयोग करने के बाद कई रसायनों को प्रजनन के लिए हानिकारक बताया गया है। इनमें पीएफएएस (टेफ्लॉन, स्कॉच गार्ड और अग्निशामक फोम में प्रयुक्त रसायन), फाथेलेट्स (प्लास्टिक पैकेजिंग, चिकित्सा उपकरण और साबुन और शैंपू में प्रयुक्त), साथ ही कीटनाशक और पीसीबी जैसे अन्य औद्योगिक रसायन शामिल हैं।

नकारात्मक प्रभावों से पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी और संभावित रूप से महिलाओं के गर्भवती होने की क्षमता शामिल है। हमारा अध्ययन रासायनिक जोखिम और एक महिला के अंडों की संख्या के बीच की कड़ी की जांच करने वाला पहला है।

हमने जिन रसायनों का अध्ययन किया, वे सभी “लगातार” थे, जिसका अर्थ है कि वे समय के साथ शरीर में बढ़ते हैं। आश्चर्यजनक रूप से, जिन रसायनों को हमने अंडे की कम संख्या से जुड़ा पाया, उन्हें दशकों पहले एक अंतरराष्ट्रीय संधि द्वारा बैन कर दिया गया था। फिर भी अपने लालच और हठ के कारण, कुछ लोग अभी भी पारिस्थितिकी तंत्र और हमारे भोजन को दूषित करते हैं।

बांझपन के लिए है जिम्‍मेदार 

दिलचस्प बात यह है कि पीसीबी (हमारे द्वारा अध्ययन किए गए रसायनों में से एक) पुरुषों में शुक्राणुओं की संख्या में कमी और बांझपन से भी जुड़ा है। पुरुष और महिला प्रजनन क्षमता में एक साथ कमी होने से महिलाओं के लिए गर्भवती होने में मुश्किल हो सकता है।

प्रजनन दर कम होने की दिशा में यह अध्‍ययन महत्‍वपूर्ण है। चित्र: शटरस्‍टॉक
प्रजनन दर कम होने की दिशा में यह अध्‍ययन महत्‍वपूर्ण है। चित्र: शटरस्‍टॉक

भविष्य में, शोधकर्ताओं को जांच करनी चाहिए कि क्या सभी महिलाओं की प्रजनन क्षमता और गर्भवती महिलाओं में इन रसायनों से समान रूप से प्रभावित होती है। लेकिन ये निष्कर्ष हमें सुरक्षा आकलन के दौरान प्रजनन क्षमता को ध्यान में रखने के लिए रासायनिक सुरक्षा पर पुनर्विचार करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

कुछ खाद्य पदार्थों (जैसे समुद्री भोजन) और कुछ उत्पादों (जैसे कि हम अपनी त्वचा और बालों पर लगाते हैं) से बचना भी हमारे बच्चे होने की संभावनाओं को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

यह भी पढ़ें – प्रेगनेंसी में सोने में कठिनाई महसूस कर रहीं हैं, तो जानिए इसके कारण और समाधान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।