सेक्स लाइफ में कुछ टर्न ला सकती है 40 की उम्र, जानिए इनसे कैसे निपटना है

Published on: 4 February 2022, 21:00 pm IST

क्या आपको लगता है कि 40 के बाद आपकी सेक्स लाइफ खत्म हो गई है? नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, बस अब आपको इस पर और ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है।

40s ke baad sex se jude myths
जानिए 40 की उम्र के बाद के सेक्स से जुड़े मिथ। चित्र:शटरस्टॉक

40 के दशक में जब आप कॅरियर, रिलेशनशिप और सोशली सफलता के कदम बढ़ा रही होती हैं, तब आपका शरीर आपसे कुछ और कह रहा होता है। असल में यह उम्र बहुत सारे शारीरिक और मानसिक बदलावों के साथ आती है। जिनमें से सेक्स लाइफ में भी कुछ बदलाव आप महसूस कर सकती हैं। मगर परेशान न हों, जैसे आपने अब तक बाकी चीजें संभाली हैं, इसे संभालना भी आपके हाथ में है। बस जरूरत है थोड़ी एक्स्ट्रा केयर की। जानिए उम्र के चौथे दशक में आप कैसे अपनी सेक्स लाइफ बूस्ट (How to boost sex life in 40s) कर सकती हैं।

मूड स्विंग, लो सेक्स ड्राइव, ऑर्गेज्म में परेशानी, सेक्स से असंतुष्टि, ये वे परेशानियां हैं जिनका अनुभव अब आप पहले से ज्यादा कर सकती हैं। लेकिन लेडीज घबराएं नहीं! यह सामान्य स्थिति है। आपकी दादी-नानी से लेकर आपकी मम्मी और यहां तक की आपके दोस्त भी इनका अनुभव कर चुके हैं।

जानिए इस बारे में क्या कहते हैं अध्ययन

ग्लोबल स्टडी ऑफ सेक्सुअल एटीट्यूड एंड बिहेवियर का वैश्विक अध्ययन (जीएसएसएबी) 40-80 वर्ष की आयु के वयस्कों के बीच सेक्स और संबंधों के विभिन्न पहलुओं का एक अंतरराष्ट्रीय सर्वेक्षण है। जीएसएसएबी डेटा का विश्लेषण 29 देशों की 13,882 महिलाओं और 13,618 पुरुषों में यौन समस्याओं की व्यापकता और सहसंबंधों का अनुमान लगाने के लिए किया गया था। इसकी समग्र प्रतिक्रिया दर मामूली थी।

aapko apni yaun samasyayo ko samajhna zaroori
आपको अपनी यौन समस्याओं को समझना है ज़रूरी। चित्र: शटरस्टॉक

उम्र का है एक महत्वपूर्ण प्रभाव

कई कारकों ने लगातार यौन समस्याओं की संभावना को बढ़ा दिया है। उम्र महिलाओं के बीच सेक्स कठिनाइयों और कई यौन समस्याओं का एक महत्वपूर्ण कारण है। इसमें सेक्स में रुचि की कमी, ऑर्गेज्म तक पहुंचने में असमर्थता और पुरुषों में स्तंभन (Erectile) संबंधी कठिनाइयां शामिल हैं। अध्ययन से यह निष्कर्ष निकलता है कि दुनियाभर में 40 के बाद यौन कठिनाइयों की समस्या आम है।

चौथे दशक में क्यों होती हैं यौन समस्याएं

40 साल की उम्र के बाद, गर्भवती होने की कम चिंता कुछ महिलाओं में सेक्स की दिलचस्पी को बढ़ा सकती है। लेकिन जैसे ही आप रजोनिवृत्ति की ओर बढ़ते हैं, एस्ट्रोजन का स्तर गिर जाता है, जो आपकी कामेच्छा को थोड़ा कम कर सकता है। यह आपके योनि में सूखापन पैदा कर सकता है। हॉट फ्लैशेस, चिंता, वजन बढ़ना और नींद की समस्या भी आपके मूड को कम कर सकती है।

आप इन लक्षणों को महसूस कर सकती हैं

1. वेजाइनल ड्राइनेस (Vaginal Dryness)

मेनोपॉज नामक पत्रिका में 31 अक्टूबर, 2019 को प्रकाशित अध्ययन में पाया गया कि 40 के बाद महिलाओं में यौन संतुष्टि स्कोर में कमी आई है। साथ ही पेरिमेनोपॉज़ के वर्षों के दौरान यौन रोग में लगभग 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो कि योनि के सूखेपन के कारण होता है। नए शोध से पता चलता है कि रजोनिवृत्ति तक पहुंचने से कई साल पहले यानी 40 साल की उम्र के बाद महिलाओं के यौन कार्य और इच्छा में काफी कमी आ सकती है।

2. दर्दनाक संभोग (Painful Sex)

एक उम्र के बाद जब योनि सूखी पड़ने लगती है, तो यह सेक्स के समय दर्द का कारण बन सकता है। वेजाइनल एट्रोफी (Vaginal Atrophy) योनि की दीवारों का पतला, सूखना और सूजन की स्थिति है। यह उम्र से संबंधित हार्मोन प्रवाह के दौरान हो सकता है, जब शरीर कम एस्ट्रोजन का उत्पादन करता है। इससे पेनिट्रेशन के समय दर्द का अनुभव हो सकता है।

3. सेक्सुअल डिस्फंक्शन (Sexual Dysfunction)

मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजन का स्तर कम होने से आपके जेनिटल टिश्यू और यौन प्रतिक्रिया में परिवर्तन हो सकता है। एस्ट्रोजन में कमी से पेल्विक एरिया में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है। इसके परिणामस्वरूप जेनिटल सेंसेशन कम हो सकती है। साथ ही उत्तेजना पैदा करने और कामोत्तेजना तक पहुंचने के लिए अधिक समय की आवश्यकता होती है। ऐसे समय में योनि की परत भी पतली और कम लोचदार हो जाती है, खासकर यदि आप यौन रूप से सक्रिय नहीं हैं।

क्या आप भी सेक्सुअल डिस्फंक्शन के इन लक्षणों का अनुभव कर रही हैं?

1. कम यौन इच्छा (Low sex drive)

महिला यौन रोगों के इस सबसे आम लक्षण में यौन रुचि की कमी और सेक्स न करने की इच्छा शामिल है।

Age ke saath kam ho sakta hai sex drive
उम्र के साथ कम हो सकता है सेक्स ड्राइव। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. सेक्सुअल डिसऑर्डर (Sexual disorder)

सेक्स के लिए आपकी इच्छा बरकरार हो सकती है। लेकिन आपको कामोत्तेजना में कठिनाई होती है या यौन क्रिया के दौरान उत्तेजित होने में असमर्थ होते हैं।

3. ऑर्गेज्म संबंधी विकार (Orgasmic disorder)

पर्याप्त यौन उत्तेजना और निरंतर उत्तेजना के बाद आपको संभोग सुख प्राप्त करने में लगातार कठिनाई होती है।

4. सेक्सुअल पेन डिसऑर्डर (Sexual pain disorder)

यौन उत्तेजना या योनि संपर्क से जुड़ा दर्द का अनुभव हो सकता है।

तो अब जानिए कि आप इन समस्याओं से कैसे बच सकती हैं

1. शारीरिक परिवर्तनों को स्वीकार करें (Accept the changes)

अपने शरीर में सहज महसूस करना सेक्सी होना है, चाहे आपकी उम्र कोई भी हो। इसलिए आप जो बदलाव देख रहे हैं, उसे अपनाएं और अपने साथी को भी ऐसा करने दें।

Kisi bhi umra mein sex karna sambhav hai
किसी भी उम्र में सेक्स करना संभव है। चित्र : शटरस्टॉक

2. डॉक्टर से संपर्क करें (Consult the doctor)

यदि आप अपने आप को पहले की तुलना में कम यौन इच्छा रखते हैं, तो अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करने का प्रयास करें। उनसे जाने कि क्या आपकी कोई मौजूदा दवा आपके और अधिक संतोषजनक यौन जीवन के बीच खड़ी हो सकती है।

3. सेक्स को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं (Make sex a part of your daily routine)

जब आपका मन न हो तो आपको निश्चित रूप से सेक्स नहीं करना चाहिए। सेक्स के लिए समय निकालने से आप भविष्य में और अधिक रोमांचित हो सकते हैं। साइकोलॉजिकल साइंस में प्रकाशित 2017 के एक अध्ययन के अनुसार, सेक्स के बाद दो सप्ताह तक जोड़ों को अधिक संतुष्टि मिली है। यह मानते हुए कि आपके रिश्ते में खुश महसूस करना सेक्स शुरू करने की इच्छा रखने का एक महत्वपूर्ण कारक है।

यह भी पढ़ें: Period Bloating: पीरियड्स से पहले ही फूलने लगता है पेट, तो एक्सपर्ट के सुझाए ये 7 उपाय देंगे आपको आराम

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें