फॉलो

आपको जाननी चाहिए ‘पोर्न वॉचिंग’ से ‘पोर्न एडिक्‍शन’ के बीच की सीमा, जानिए क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट

Published on:11 July 2020, 20:00pm IST
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 81 Likes
पॉर्न एडिक्शन हो सकता है सेहत के लिए खतरनाक। चित्र- शटर स्टॉक

सोशल स्टिग्मा हम औरतों की ज़िंदगी का एक हिस्सा बन गया है। हमारे समाज में एक आदर्श नारी के बड़े अनरियलिस्टिक से मापदंड हैं और हम सभी को स्टीरियोटाइप और जजमेंट फेस करना पड़ता है। ऐसा ही एक मापदंड है कि महिलाओं को पोर्न नहीं देखनी चाहिए, मगर पोर्न वेबसाइट पर मौजूद डेटा कुछ और ही कहता है।

एक पोर्न साइट के सर्वे में पाया गया कि भारत विश्व भर के महिला ऑडिएंस में चौथे नंबर पर है। और लॉकडाउन के दौरान इंडिया के पॉर्न ट्रैफिक में 95% इज़ाफ़ा हुआ है।

कितना पोर्न देखना होता है ‘टू मच’?

सोशियोलॉजी नामक जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार पोर्न देखना हेल्दी होता है, क्योंकि यह हैप्पी हॉर्मोन्स को रिलीज़ करता है और तनाव कम कर करता है। पोर्न देखना गलत नहीं है, लेकिन आप एडिक्ट ना हों।

हालांकि कितनी देर पोर्न देखना चाहिए इस विषय में कोई खास रिसर्च मौजूद नहीं है। तो हम आपके लिए इस सवाल का जवाब लाने के लिए पहुंचे क्लीनिकल साइकोलोजिस्ट डॉ भावना बर्मी के पास। डॉ बर्मी कहतीं हैं, “हफ़्ते में लगभग चार घण्टे पॉर्न देखना एकदम हेल्दी है, लेकिन इसका यह मतलब नही कि एक ही दिन बैठ कर चार घण्टे पोर्न देखी जाए! सेक्स और सेक्सुअल एक्टिविटी एक पॉज़िटिव लाइफस्टाइल के लिए ज़रूरी है, लेकिन हमें अपनी लिमिट का ध्यान रखना चाहिए।

पॉर्न और रिएलिटी में फर्क करना सीखें। चित्र- शटर स्टॉक

जब बात हो पोर्न की, कम ही है बेहतर

दरसल बहुत ज़्यादा पोर्न देखना आपके रिलेशनशिप्स और मेंटल हेल्थ के लिए ठीक नहीं होता। हमें यह समझना होगा कि पोर्न में दिखाई जाने वाली एक्टिविटी हकीकत नहीं है और रियल लाइफ में इस प्रकार के एक्सपेक्टेशन आपके रिश्तों को खराब कर सकता है। ज़्यादा पोर्न देखने से आप खुद पर और अपने पार्टनर पर बेवजह का परफॉर्मेंस प्रेशर डालते हैं।

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ एनवायरनमेंट रिसर्च एंड पब्लिक हेल्थ के लेख के अनुसार ज़्यादा पोर्न देखना और मास्टरबेट करना सेक्सुअल डिसफंक्शन का कारण बन सकता है और यह महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए खतरनाक है।

ज्यादा पॉर्न बन सकता है आपके रिश्ते के लिए खतरा। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसलिए यह जानना ज़रूरी है कि कितना पोर्न देखना अत्यधिक है और कब आपको ऑफ़ स्विच दबा देना चाहिए।

डॉ बर्मी ये 5 टिप्स फॉलो करने का सुझाव देती हैं-

1. हर वक़्त पोर्न न देखें, क्योंकि यह आपके रिश्तों को खराब करता है।
2. सेक्सुअल सम्बन्ध बनाने से पहले कभी पॉर्न न देखें, क्योंकि ऐसा करना आपको पोर्न पर डिपेंडेंट बना देता है।
3. जब भी पोर्न देखें तो इसे अपने पार्टनर के साथ डिस्कस करें, आप दोनों साथ में भी पोर्न देख सकते हैं।
4. पॉर्न देखकर उसे फैनटिसाइज़ करना नेचुरल है, लेकिन अपने पार्टनर से कोई भी एक्स्ट्राऑर्डिनरी उम्मीद न रखें। ज्यादा बेहतर है कि आप दोनों बात करके अपनी फैंटेसी शेयर करें।
5. अगर आप सारे काम छोड़ कर घर पर इसलिए रुक रही हैं, ताकि पोर्न देख सकें, तो यह लिमिट क्रॉस होने का सिग्नल है। यहीं खुद को रोकें और कंट्रोल करें।

याद रखें

पोर्न देखने के लिए शर्मिंदगी महसूस न करें, यह नेचुरल है। पोर्न तनाव मिटाने का अच्छा तरीका है, लेकिन ध्यान रखें कि आप अति तो नहीं कर रहे, क्योंकि अति किसी भी चीज़ की अच्छी नहीं होती।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

संबंधि‍त सामग्री