Sex Education : बच्चा पूछता है सेक्स से जुड़े सवाल, तो जानिए कैसे देना है उनका जवाब

नेशनल एजुकेशन डे (National Education Day 2022) के उपलक्ष्य पर हमसे जानिए कुछ आसान टिप्स, जिनकी मदद से आप अपने बच्चों को छोटी उम्र से सेक्स के बारे में सही तरह से जानकार बना सकती हैं।

apne bacchon se sex ke baare mein kaise baat karein
अपने बच्चे से सेक्स के बारे में कैसे बात करें। चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 10 November 2022, 21:00 pm IST
  • 145

एक दशक पहले तक पेरेंट्स अपने बच्चों से कभी भी खुलकर सेक्स के बारे में बात नहीं करते थे। मगर अब पेरेंट्स भी जागरूक हो गए हैं और बच्चों के पास भी खुद को एजुकेट करने या यूं कहें कि गलत जानकारी हासिल करने एक लिए कई तरीके मौजूद हैं। सेक्स एजुकेशन के बारे में बुक्स में कोई भी जानकारी नहीं दी जाती है, इसलिए बच्चे जानकारी हासिल करने के लिए पॉर्न और सोशल मीडिया के कंटेंट पर भरोसा करने लगते हैं और उसे सच मान लेते हैं।

मगर, छोटे बच्चों को फिर भी पेरेंट्स के वैलिडेशन की ज़रूरत होती है और वे हर छोटी चीज़ माता – पिता के साथ साझा करके उसे कन्फ़र्म करना चाहते हैं। ऐसे में बच्चों तक सही जानकारी पहुंचाने के लिए पेरेंट्स बहुत बड़ी भूमिका निभा सकते हैं।

बच्चों को एजुकेट करते समय कई तरह की बातों का ध्यान रखना पड़ता है। आप सीधा बच्चों से जाकर सेक्स के बारे में नहीं बता सकते हैं। इस तरह उनके कुछ समझ नहीं आयेगा या वे आपकी बातों को गलत तरह से समझ लेंगे। ऐसे में सही समय पर सही शिक्षा देना बहुत ज़रूरी है।

नेशनल एजुकेशन डे (National Education Day 2022) के उपलक्ष्य पर हमसे जानिए कुछ आसान टिप्स, जिनकी मदद से आप अपने बच्चों को छोटी उम्र से सेक्स के बारे में सही तरह से जानकार बना सकती हैं।

जानिए पेरेंट्स के लिए बच्चों को सेक्सुअली एजुकेट करने के आसान टिप्स

1. बच्चों के नज़रिये से सोचें और फिर उन्हें समझाएं

जब बच्चों को सेक्स के बारे में समझाने की बात आती है, हर पेरेंट इस बारे में बात करते हुये थोड़ा असहज महसूस कर सकता है। मगर, आपको उन्हें ज़्यादा खुलकर बताने की ज़रूरत नहीं है। बच्चों को उन्ही की भाषा में समझाएं और बस उनकी जिज्ञासा को संतुष्ट करने का प्रयास करें।

bacchon ko is tarah dein sex education
पहले बच्चों के नजरिए से चीजों को देखें और फिर उन्हें समझाएं। चित्र : शटरस्टॉक

2. बिना किसी बात के बच्चों को न समझाएं

जब बच्चे आपसे कुछ पूछें तभी उन्हें समझाएं। उन्हें स्पेशली एक सीरियस माहौल बनाकर सिखाने की ज़रूरत नहीं है, इससे बच्चों को डर लग सकता है या वे सेक्स को नॉर्मल से हटकर देख सकते हैं, जो कि सही नहीं है। इसलिए उन्हें खेल – खेल में समझाने का प्रयास करें।

वॉकहार्ट अस्पताल, मुंबई के एक वरिष्ठ मनोचिकित्सक डॉ सोनल आनंद के अनुसार बच्चों को सेक्स या उसके प्रोसेस से ज़्यादा प्रेगनेंसी में इन्टरेस्ट होता है। तो जब बच्चे आपसे किसी प्रेगनेंट महिला के बारे में पूछें तन उन्हें थोड़ा बहुत रिप्रोडक्शन के बारे में समझाएं।

3. पहले बच्चों की मनोस्थिति को समझें

यदि आपका बच्चा थोड़ा बड़ा है और आपसे टीवी पर किसिंग सीन देखर सेक्स के बारे में पूछ रहा है, तो यकीनन उन्हें पहले से इस बारे में थोड़ी बहुत जानकारी है। इसलिए यदि वो आपसे सवाल पूछें, तो आप भी उन्हें सवाल करें और जानने की कोशिश करें कि उन्हें क्या पता है। इस तरह आप पहले उनकी मिसइन्फॉर्मेशन को दूर करें और फिर उन्हें सही जानकारी दें।

janiye sex ke baare mein aapki knowledge kitni hai
जानिए यौन शिक्षा के बारे में। चित्र : शटरस्टॉक

4. बच्चों के साथ ऑनेस्ट रहें

जब भी पेरेंट्स अपने बच्चों से झूठ बोल रहे होते हैं, तो बच्चे आसानी से पहचान जाते हैं। इसलिए, बच्चों से किसी भी बारे में झूठ न बोलें, नहीं तो वे आपकी सही बात को भी मानने से इनकार कर देंगे। हां… आप अपनी बातों को मॉडिफाई करके बता सकती हैं, लेकिन उन्हें सही चीज़ ही बताएं। बेहतर है कि बच्चों के डाउट आपसे क्लियर हों।

5. सही मटीरियल प्रोवाइड कराएं

यदि आप अपने बच्चों को नहीं बता सकती हैं या आपको ऐसा करते हुये थोड़ा असहज महसूस हो रहा है, तो उन्हें सही मटीरियल प्रोवाइड कराएं। क्योंकि जब बच्चों को सेक्स के बारे में सही जानकारी नहीं मिलती है तो वे पॉर्न कंज्यूम करने की कोशिश करते हैं। जो उनके मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव डाल सकता है, इसलिए उन्हें सही मटीरियल या बुक्स लाकर दें। जिससे वे खेल – खेल में सीख सकें।

डॉ सोनल के अनुसार सेक्स एजुकेशन एक जर्नी है न कि कोई सेशन जो एक सिटिंग में आप बच्चों को बता सकती हैं। साथ ही, बच्चों से उनके बॉडी पार्ट और हाइजीन भी डिस्कस करें, यह भी सेक्स एजुकेशन का एक हिस्सा है।

यह भी पढ़ें :अलग-अलग होते हैं पीरियड क्रैम्प्स और पूप क्रैम्प्स, इन 5 लक्षणों से कर सकती हैं अंतर

  • 145
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें