वैलनेस
स्टोर

पीरियड्स के दौरान क्रैंकी महसूस करती है, तो ये 10 पोषक तत्व करेंगे इससे निपटने में आपकी मदद

Published on:15 February 2021, 12:00pm IST
पीरियड्स के दौरान क्रैंकी महसूस करना आम बात है, लेकिन अपने आहार में कुछ पोषक तत्वों को शामिल करके आप इससे निपट सकती हैं। जानना चाहती हैं कैसे? तो आगे पढ़ती रहिए।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 82 Likes
पीरियड्स का समय महिलाओं के लिए बेहद कठिन होता है। चित्र-शटरस्टॉक।

हम हमेशा इसको लेकर शिकायत करते हैं कि कैसे पीरियड्स का समय हमारे लिए बिल्कुल भी आसान नहीं है। लेकिन हमें कभी भी यह एहसास नहीं होता है कि समस्या हमारे भीतर है, ऐसे में हमें अपने मासिक धर्म को दोष देने के बजाय, वास्तव में इससे राहत पाने के लिए कुछ करना चाहिए।

नहीं, हम किसी भी चिकित्सा समाधान की सिफारिश नहीं कर रहे हैं, बल्कि हम पीएमएस (PMS) से निपटने के लिए कुछ समग्र तरीकों की ओर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं। क्या आप जानती हैं, सही खाद्य पदार्थों का सेवन करना, आपके पीएमएस (PMS) के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है? वे न केवल आपको आराम से रहने में मदद करते हैं, बल्कि कई मायनों में आपके मूड को भी बेहतर बनाने में मदद करते हैं!

इसका कारण है उनमें मौजूद पोषक तत्व। जेन मल्टीस्पेशिलिटी अस्पताल, मुमई में आहार विशेषज्ञ प्रिया पालन के अनुसार, हम जिन फूड्स का सेवन करते हैं, वे मासिक धर्म चक्र पर भी असर डालते हैं।

वह बताती हैं, “मासिक धर्म चक्र के दौरान महिलाएं जिन लक्षणों का अनुभव करती हैं, अपने आहार में कुछ माइक्रोन्यूट्रिएंट्स को शामिल करके उनसे निपटा जा सकता है। माइक्रोन्यूट्रिएंट्स यानी विटामिन और मिनरल्स, जो कि सेलुलर लेवल पर शरीर के चयापचय को विनियमित करने में मदद करते हैं। इस प्रकार, आहार में उन्हें शामिल करने से पीरियड्स के लक्षणों को दूर करने में मदद मिलती है।”

यहां ऐसे 10 माइक्रोन्यूट्रिएंट्स और उनके प्राकृतिक स्रोत हैं, जो आपको पीरियड्स के लक्षणों से निपटने में मदद करेंगे

  1. आयरन

जो महिलाएं मेनोरेजिया (जिसमें भारी रक्तस्राव होता है) से पीड़ित हैं, उनमें आयरन का स्तर कम होता है। अध्ययन बताते हैं कि आयरन सप्लीमेंट न केवल एनीमिया से निपटने में मदद करता है।  साथ ही हीमोग्लोबिन की एकाग्रता को भी बढ़ाता है और थकान को कम करता है। आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें जिसमें पालक, ऐमारैंथ के पत्ते, बीन्स, रेड मीट, स्प्राउट्स और तिल के बीज शामिल हैं। आयरन के अवशोषण को बढ़ाने के लिए विटामिन-सी के स्रोत जैसे नींबू, आंवला, खट्टे फलों को अपने आहार में शामिल करना चाहिए।

गन्ने का गुड़ एनीमिया जैसी बीमारी से बचा जा सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी भी पीरियड्स की ऐंठन का कारण बन सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. मैग्नीशियम

यह गर्भाशय की स्मूद मसल्स को आराम देने और मासिक धर्म की ऐंठन को कम करने में मदद करता है। यह एक शांत प्रभाव (calming effect) का कारण बनता है और तनाव को कम करता है। इसके लिए हरी पत्तेदार सब्जियां, नट्स, कद्दू के बीज, सन सीड्स, नट्स और चॉकलेट को आहार में जोड़ा जा सकता है।

  1. जिंक

एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन रिसेप्टर्स के लिए जिंक का उपयोग सह-कारक (co-factor) के रूप में किया जाता है। जिंक दर्द और मासिक धर्म की ऐंठन से राहत दिलाने में मदद करता है। अंडे, अनाज, फलियां, बीन्स, साथ ही कद्दू के बीज जिंक के अच्छे स्रोत हैं।

यह भी पढ़ें: क्‍या सचमुच वेजाइनल डिस्चार्ज से छुटकारा दिलाने में मददगार है आंवला की गुठली? जानिए क्‍या कहते हैं एक्‍सपर्ट

  1. कैल्शियम

मासिक धर्म संकट से जुड़े लक्षणों से राहत प्रदान करने में कैल्शियम की एक कार्यात्मक भूमिका है। यह पोषक तत्व व्यवहारिक परिवर्तन को कम करने में मदद करता है और प्रीमेन्स्ट्रुअल चरण के दौरान वॉटर रिटेंशन (water retention) से राहत प्रदान करता है। बादाम, दही, रागी, चना, पनीर, ड्रमस्टिक और बीज कैल्शियम के अच्छे स्रोत हैं।

कैल्शियम की कमी आपके भविष्‍य के लिए भी नुकसानदायक हो सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. विटामिन डी

कैल्शियम होमियोस्टेसिस विटामिन डी से प्रभावित होता है। विटामिन डी के सप्लीमेंट्स लेना, दर्द की तीव्रता को कम करने में मदद करता है। फॉर्टिफाइड फूड्स (Fortified foods) जैसे अनाज, और कई फलों के रस को आहार में जोड़ा जा सकता है।

  1. विटामिन बी 6

बी 6 नई लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने, ऑक्सीजन को कैरी करने और मूड स्विंग से निपटने में मदद करता है। ऐसे में अंडे, छोले, एवोकाडो, नट्स और बीज जैसे खाद्य पदार्थ खाएं।

  1. फोलिक एसिड

यह पोषक तत्व एनीमिया को दूर करने और मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने में मदद कर सकता है। पत्तेदार सब्जियां, एवोकाडो, बीन्स, अजवाइन, शतावरी, ब्रसल स्प्राउट्स फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत हैं।

  1. ओमेगा -3 फैटी एसिड

एंटी-इंफ्लेमेटरी ओमेगा -3 फैटी एसिड खाद्य पदार्थ शरीर में एक सूजन रसायन के कारण होने वाले सिरदर्द और ऐंठन का मुकाबला करने में मदद करते हैं, जिसे प्रोस्टाग्लैंडीन (prostaglandin) कहा जाता है। मछली, अखरोट, फ्लैक्ससीड्स और सोया ओमेगा-3 फैटी एसिड के अच्छे स्रोत हैं।

ओमेगा-3 फैटी एसिड आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। चित्र-शटरस्टॉक।
  1. विटामिन ई

इसमें एक एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो पेरोक्सीडेशन को कम करने और मासिक धर्म की ऐंठन की गंभीरता (severity of dysmenorrhea) से राहत प्रदान करने में मदद करता है। यह हार्मोन को संतुलित करने और चिंता को कम करने में मदद करता है। नट और बीज विटामिन ई के अच्छे स्रोत हैं।

  1. फाइबर

यह एस्ट्रोजन के स्तर को कम करने में मदद करता है, जो कि मासिक धर्म की ऐंठन को कम करने में काफी मदद करता है। सब्जियां, फल, अंकुरित अनाज, साबुत अनाज, जई फाइबर के अच्छे स्रोत हैं।

इस प्रकार, माइक्रोन्यूट्रिएंट्स से भरपूर पौष्टिक खाद्य पदार्थों को आहार में जोड़ने और प्रोसेस्ड फूड्स के सेवन से बचने से मासिक धर्म के दौरान होने वाले लक्षणों से निपटने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ें: वेजाइनल हेल्‍थ को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं ये 4 योगासन, जानिए इन्हें करने का आसान तरीका

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।