Period Bloating: पीरियड्स से पहले ही फूलने लगता है पेट, तो एक्सपर्ट के सुझाए ये 7 उपाय देंगे आपको आराम

Published on: 3 February 2022, 19:00 pm IST

हर महीने आने वाले पीरियड्स क्रैंप्स के अलावा ब्लोटिंग के साथ आते हैं। अगर आप भी इस दौरान पेट में जलन, अकड़न या भारीपन महसूस करती हैं, तो ये उपाय आप ही के लिए हैं।

pet ka har dard cancer nahi
ज़रूरी नहीं है की पेट में हर दर्द कैंसर ही हो। चित्र: शटरस्टॉक

महिलाओं को हर महीने पीरियड्स के दौरान कई दिक्क्तों का सामना करना पड़ता है। ऐसी ही एक समस्या है ब्लोटिंग (Bloating)। इसमें पीरियड्स आने से पहले महिलाओं का पेट फूलने लगता है। साथ ही वजन एकाएक बढ़ जाता है। एक्सपर्ट, इसे प्रीमेंस्टुअल सिंड्रोम के लक्षण मानते हैं। हालांकि, यह एक आम समस्या है जो कुछ महिलाओं में माहवारी शुरू होने के पहले होती है। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यही है कि आखिर पीरियड्स से पहले महिलाओं का पेट क्यों फूल जाता है? अगर आप भी इस समस्या से परेशान हैं तो आपके लिए हम कर रहे हैं इसके लिए एक एक्सपर्ट से बात। जानिए क्या है पीरियड्स में ब्लॉटिंग का कारण (Periods bloating causes) और इससे कैसे बचा जा सकता (How to deal with periods bloating) है। 

हार्मोनल बदलाव है इसका कारण (hormonal changes)

गाजियाबाद स्थित अनायाज क्लीनिक की स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर नीरा सिंह इस बारे में विस्तार से बताती हैं। वे कहती हैं कि महिलाओं में हर महीने कुछ हार्मोनल बदलाव होते हैं। माहवारी शुरू होने से पहले एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन्स के स्तर में एकाएक परिवर्तन होने लगता है। पीरियड्स के एक सप्ताह पहले प्रोजेस्टेरोन का स्तर कम हो जाता है। 

नतीजतन, यूटरस की परतें अत्यधिक फैलने लग जाती है। बता दें कि यूटरस के फैलाव के कारण ही पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग होती है। शरीर में हार्मोनल बदलाव के कारण आंतों की कार्य क्षमता धीमी पड़ जाती है। इस वजह से पानी और नमक जमा होकर वाटर रिटेंशन निर्मित होने लगता है। यही वजह है कि महिलाओं को माहवारी से पहले ब्लोटिंग की प्रॉब्लम आती है। पीरियड्स के पहले दिन यह समस्या अत्यधिक होने के कारण सुस्ती और असहजता बढ़ने लगती है।  

पेट फूलने के अलावा ये भी हैं पीरियड्स में ब्लोटिंग के लक्षण (Symptoms of Bloating During Periods)

माहवारी के समय पेट अत्यधिक भारी हो जाता है। जिससे महिलाओं का वजन अचानक बढ़ जाता है। इसके समस्या के लक्षण इस प्रकार है-  

  1. पेट में खिंचाव और कड़ापन।  
  2. खट्टी डकार और पेट भरा-भरा लगना। 
  3. पेट में जलन और मतली का अहसास। 
  4. खाने पीने में परेशानी और गैस बनना। 
  5. कुछ महिलाओं को आंत में भारीपन लगने लगता है। 

आखिर क्यों होती है माहवारी में ब्लोटिंग (Causes of Bloating During Periods)

  1. महिलाओं में हर महीने पीरियड्स के दौरान हार्मोनल परिवर्तन होते हैं। इस कारण से ब्लोटिंग की समस्या आती है। 
  2. आंत की प्रक्रिया धीमी होने के कारण पेट में पानी और नमक अत्यधिक मात्रा में जमा हो जाने के कारण। 
  3. पीरियड्स के दौरान ब्लोटिंग की एक वजह आंत का सिकुड़न भी है।  

क्या इससे बचा जा सकता है (Prevention for Bloating During Periods)

हालांकि यह समस्या बहुत आम है और पीरियड्स के बाद अपने आप खत्म हाे जाती है। फिर भी आप अगर बहुत ज्यादा असहज महसूस कर रहीं हैं, तो डॉ नीरा आपको कुछ इंस्टेंट रिलीफ टिप्स सुझा रहीं हैं – 

  1. पीरियड्स के दौरान नमक का सेवन कम करें। 
  2. हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करें। 
  3. पोटैशियम और मैग्नीशियम से भरपूर आहार खाएं। 
  4. धूम्रपान से तौबा करें। 
  5. प्रोबायोटिक और प्रीबायोटिक सप्लीमेंट्स ले सकते हैं। 
  6. आपको अतिरिक्त थकान हो सकती है और आराम की जरूरत है। मगर बहुत ज्यादा आलस न करें। 
  7. थोड़ा बहुत घूमने की कोशिश करें। 
  8. खानपान का विशेष ध्यान रखें। 
  9. तीखा, भुना, ज्यादा मसाला-मिर्च युक्त खाने से बचें।  
  10. तनाव मुक्त रहें। 
  11. अत्यधिक चाय का सेवन न करें। 
  12. ज्यादा प्रोटीन और वसा युक्त भोजन से परहेज करें। 
  13. चाय-कॉफी एक या दो बार से ज्यादा न लें। 
  14. कार्बोनेटेड ड्रिंक्स से बचे। 

पीरियड्स में ब्लोटिंग से बचने के 7 घरेलू उपाय (Home Remedies for Bloating)

नींबू पानी का सेवन (Lemon Water)

माहवारी के दौरान होने वाली ब्लोटिंग की समस्या से निजात दिलाने में नींबू-पानी कारगर उपाय है। दरअसल, नींबू में साइट्रिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यह पेट की समस्याओं को दूर करने में फायदेमंद है। ब्लोटिंग की समस्या ठीक करने के लिए एक गिलास गुनगुना पानी लेकर उसमें 1 एक चम्मच नींबू रस मिलाकर पीना चाहिए।  

bloating ki samasya se nijat dilane mei neemboo pani kargar upay hai.ब्लोटिंग की समस्या से निजात दिलाने में नींबू-पानी कारगर उपाय है। चित्र : शटरस्टॉक

फाइबर युक्त आहार लें (Fiber diet)

पेट और पाचन से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने में फाइबर उक्त आहार मददगार है। ब्लोटिंग की समस्या से छुटकारा पाने के लिए फाइबर युक्त भोजन अपनी डाइट में शामिल करें। हालांकि, अत्यधिक फाइबर युक्त भोजन से बचना चाहिए।  

खूब पानी पिएं  (More Water Intake for Bloating)

पेट से जुड़ी प्रॉब्लम से बचने के लिए पर्याप्त पानी पीना चाहिए। दरअसल, कुछ महिलाओं में कम पानी पीने के कारण पेट फूलने की समस्या आ जाती है। हालांकि, जरुरत से ज्यादा या जबरन पानी पीने की कोशिश नहीं करना चाहिए।  

काला नमक और जीरा (Black Salt Cumin Beneficial for Bloating)

माहवारी के दौरान होने वाली ब्लोटिंग से निजात दिलाने में काला नमक और जीरा पाउडर फायदेमंद है। ब्लोटिंग होने पर गर्म पानी के काले नमक और जीरा का सेवन करें। जीरा और काला नमक पाउडर तैयार करने के लिए सबसे पहले जीरे को तवे पर अच्छी तरह भूनें। इसके बाद जीरे और नमक को मिलाकर पीस लें और पाउडर बना लें। काला नमक और जीरा दोनों 50-50 ग्राम की मात्रा में ले सकते हैं। 

अजवाइन का नुस्खा (Celery recipe)

जीरा की तरह अजवाइन भी पेट से जुड़ी परेशानियों से निजात दिला सकता है। अजवाइन और पानी पीकर आप ब्लोटिंग की समस्या से राहत पा सकते हैं। इसके सबसे पहले एक गिलास पानी लेकर उसमें एक चम्मच अजवाइन, हींग (2-3 दाने) और 1 चुटकी नमक मिलाएं। अब इस पानी को गैस पर उबाल लें और फिर छानकर इसका सेवन करें।   

एलोवेरा है लाभदायक (Aloe-vera)

एलोवेरा जूस भी ब्लोटिंग की समस्या से राहत दिला सकता है। यह पेट में पैदा हुए बैक्टीरिया और संक्रमण की समस्या को दूर करता है। एलोवेरा जूस आप दिन में 2 से 3 बार ले सकते हैं।  

नारियल पानी (Drink Coconut Water)

हेल्थ के लिए नारियल पानी बेहद फायदेमंद है। इसमें कई तरह के मिनरल्स और विटामिन्स पाए जाते हैं। एलोवेरा के यही गुण पीरियड्स के दौरान होने वाली ब्लोटिंग की समस्या से राहत दिलाते हैं। साथ ही नारियल पानी में एंटीइंफ्लेमेरी गुण होते हैं, जो गैस की समस्या दूर करता है।  

ये भी पढ़ें: क्या सेक्स के बाद दर्द होना नॉर्मल है? स्त्री रोग विशेषज्ञ से जानिए इसका जवाब

श्याम दांगी श्याम दांगी

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें