वैलनेस
स्टोर

पीरियड्स के बारे में कभी नहीं करना चाहिए इन 5 बातों पर भरोसा

Published on:4 June 2021, 12:39pm IST
यहां हम माहवारी से संबंधित उन गलत धारणाओं के बारे में बात कर रहे हैं, जो बस एक-दूसरे के कानों में कही जा रही हैं और फैलते-फैलते डिजिटल दुनिया में भी आ गईं हैं।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 78 Likes
पीरियड्स के बारे में इन बातों पर कभी न करें भरोसा. चित्र : शटरस्टॉक

मासिक धर्म एक मुश्किल विषय है जिसके बारे में बात करना आज भी थोड़ा कठिन है। थोड़ी पुरानी पीढ़ी की बात करें तो इस विषय के संबंध में इतनी अज्ञानता है कि माएं अपनी अपनी बच्चियों को कई बार गलत जानकारियां दे देती हैं। इन गलत धारणाओं की सबसे बड़ी वजह है आज भी पीरियड्स के बारे में फुसफुसाकर बात करना या उस पर शर्म महसूस करना। यहां हम माहवारी से संबंधित उन गलत धारणाओं के बारे में बात कर रहे हैं, जो बस एक-दूसरे के कानों में कही जा रही हैं और फैलते-फैलते डिजिटल दुनिया में भी आ गईं हैं।

पहली माहवारी और ढेर सारी हिदायत

हमने बचपन से ही पीरियड्स को लेकर कई ऐसी बातें सुनी हैं कि हमें लगता है कि वाकई यही सच है। जैसे पीरियड्स में अचार को हाथ नहीं लगाना चाहिए! और हम भी सोचने लगते हैं कि कहीं वाकई ऐसा हो गया तो? लेकिन अब और नहीं हम आपके लिए आज ऐसे ही कुछ मिथ्‍स का भंडा फोड़ने वाले हैं।

मिथ 1. प्रीमेंसट्रूअल सिंड्रोम एक मिथ है या ऐसा कुछ नहीं होता है

कई महिलाएं आज भी ऐसा मानती हैं कि पीएमएस जैसा कुछ नहीं होता! परंतु यह सच नहीं है, पीरियड्स के कुछ दिन पहले जी घबराना, कमजोरी, चक्कर आना, मूड स्विंग्स यह सब प्रीमेंसट्रूअल सिंड्रोम के लक्षण हैं और इन्हें ठीक किया जा सकता है।

मिथ 2. खट्टा खाने से मासिक धर्म में ऐंठन बढ़ सकती है

सच में..मासिक धर्म में ऐंठन और खट्टे खाद्य पदार्थ खाने के बीच कोई संबंध नहीं है। हालांकि, पीरियड्स के दौरान महिलाओं के लिए स्वस्थ आहार का सेवन करना आवश्यक है। बीन्स, दालें, रोटी, ब्राउन ब्रेड और दही खाना सबसे अच्छा विकल्प है।

पीरियड मिथ को अपने दिमाग से निकाल दें। चित्र: शटरस्‍टॉक

मिथ 3. पीरियड्स में टैम्पोन का इस्तेमाल करने से आप अपनी वर्जिनिटी खो सकती हैं

शायद ये आपने अक्सर सुना होगा! पर ये बिल्कुल गलत है.. पीरियड्स में टैम्पोन का इस्तेमाल करने से आपकी वर्जिनिटी को कुछ नहीं होगा! आपकी जानकारी के लिए बता दें कि योनि लचीली होती है इसलिए एक टैम्पोन का इस्तेमाल करने से कोई नुकसान नहीं होगा। वर्जिनिटी के बारे में भी अब सोच बदलने का समय है।

मिथ 4. पीरियड्स के दौरान एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए

यह बिल्कुल गलत है फिर भी हमारी दादी-नानी यह मानती हैं कि पीरियड्स में एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए। मगर आपका भ्रम दूर करने के लिए बता दें कि पीरियड्स के दौरान कसरत करना बिल्कुल सामान्य है, बल्कि एक्सरसाइज करने से दर्द में राहत मिलती है। लेकिन हां.. सभी को अपने शरीर के हिसाब से कसरत करनी चाहिये।

मिथ 5. यदि आप पीरियड्स के दौरान सेक्स कर रही हैं, तो आप गर्भवती नहीं हो सकती हैं

हालांकि ऐसा बहुत कम होता है, लेकिन फिर भी मासिक धर्म के दौरान कोई भी महिला गर्भवती हो सकती है। ओव्यूलेशन और मासिक धर्म चक्र अप्रत्याशित हो सकता है और ओव्यूलेशन रक्तस्राव चरण के पहले, उस दौरान और बाद में भी हो सकता है। खासकर यदि आपके पीरियड्स अनियमित हैं।

इसलिए, कंडोम का उपयोग हमेशा करें क्योंकि पीरियड्स के दौरान भी सुरक्षित सेक्स ज़रूरी है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि इस दौरान महिलाएं एसटीडी की चपेट में आ सकती हैं।

यह भी पढ़ें : #ProudToBleed: ये 5 टिप्‍स बना सकते हैं आपके पीरियड सेक्‍स को और भी साफ और सुरक्षित

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।