वैलनेस
स्टोर

क्‍या पीरियड्स के दौरान तेज सर दर्द होता है? तो जानिए मेंस्ट्रुअल माइग्रेन से बचने के उपाय

Published on:23 January 2021, 13:00pm IST
यदि पीरियड्स के वक़्त आपके सर में एक तरफ दर्द होता है और आपको हर महीने इससे जूझना पड़ता है, तो आप मेंस्ट्रुअल माइग्रेन से पीड़ित हो सकती हैं।
Dr Madhuri Burande Laha
  • 80 Likes
पीरियड्स में होने वाले माइग्रेन से भी बचा जा सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

मेंस्ट्रुअल माइग्रेन यानी पीरियड्स से पहले होने वाला माइग्रेन काफी कॉमन है और इसकी वजह से महिलाओं को काफी परेशानी उठानी पड़ती है।

क्या आप भी उन महिलाओं में से एक हैं, जिन्हें अपने पीरियड्स के दौरान माइग्रेन का असहनीय दर्द होता है। अगर ऐसा है, तो आप मेंस्ट्रुअल माइग्रेन या मासिक धर्म में होने वाले माइग्रेन नामक स्थिति से पीड़ित हो सकती हैं! यह स्थिति असामान्य नहीं है और एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट के कारण होती है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

यदि आप इस समस्या से पीड़ित हैं, तो आप सिर के एक तरफ दर्द का सामना करेंगी। यह दर्द आपके मन की शांति को तो भंग करेगा ही, बल्कि पूरा दिन आपका किसी कार्य में मन नहीं लगेगा।

इसके अलावा, गर्भावस्था, प्रीमेनोपॉज़ और रजोनिवृत्ति के दौरान भी माइग्रेन का दर्द कभी भी दस्तक दे सकता है? ये माइग्रेन कभी भी शुरू हो सकता है और महीने के किसी भी समय अनुभव किया जा सकता है।

विभिन्न अध्ययन यह बताते हैं कि मेंस्ट्रुअल माइग्रेन की वजह से आपको पीरियड्स के दौरान पेट में दर्द और ऐंठन की समस्या हो सकती है। इसके अलावा, माइग्रेन के अन्य कारण भी है जैसे तनाव, थकान, शराब, अत्यधिक लाइट के संपर्क में आना और यहां तक कि तेज़ ध्वनि, ख़राब मौसम की स्थिति आदि भी हैं|

थकान और तनाव भी पीरियड्स में होने वाले सर दर्द के लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
थकान और तनाव भी पीरियड्स में होने वाले सर दर्द के लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

कई खाद्य पदार्थों की वजह से भी ऐसा हो सकता है जैसे चॉकलेट या केले, या फिर आर्टिफिशियल स्वीटनर्स जैसे कि एडिटिव्स मोनोसोडियम ग्लूटामेट (MSG)।

महिलाओं ने पीरियड्स के दौरान होने वाली इन परेशानियों को जीवन का हिस्‍सा मान लिया है। पर ऐसा नहीं है, आइये जानते हैं कुछ उपाय जिनसे आप इस कष्ट से मुक्ति पा सकती हैं।

1. ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) दवा

आपका डॉक्टर आपको कुछ दवाओं की सलाह देगा, जो आपको उस कष्टदायी दर्द से राहत दिलाने में मदद करेंगी। खुराक डॉक्टर द्वारा निर्धारित की जाएगी, साथ ही डॉक्टर द्वारा सुझाए गए कुछ विटामिन और मैग्नीशियम भी लेने होंगे।

2. तनाव से छुटकारा पाएं

किसी भी तरह के तनाव और चिंता से बचें। तनाव मुक्त रहने के लिए योग और ध्यान करने की कोशिश करें। इसी तरह, आप गहरी सांस लेने की योग क्रियाओं को भी अपना सकती हैं।

कुछ योगासन इस दर्द को कम करने में कर सकते हैं मदद। चित्र सौजन्य: शटरस्टॉक
कुछ योगासन इस दर्द को कम करने में कर सकते हैं मदद। चित्र सौजन्य: शटरस्टॉक

3. हर दिन व्यायाम करें

इसमें कोई दो राय नहीं कि व्यायाम करने से आप फिट और स्वस्थ रह सकती हैं। लेकिन, आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि शारीरिक रूप से सक्रिय रहने से आप, माइग्रेन से छुटकारा पा सकती हैं, जो हार्मोन द्वारा ट्रिगर होते हैं। इसके अलावा, बहुत सारा पानी पीने से आप खुद को हाइड्रेटेड रख पायेंगी।

यह भी पढ़ें – क्या पीरियड्स के दौरान आपके कपड़े भी हो जाते हैं टाइट, जानें पीरियड्स के दौरान वजन बढ़ने का कारण

Dr Madhuri Burande Laha Dr Madhuri Burande Laha

Dr Madhuri Burande Laha is a consultant obstetrician & gynaecologist at Motherhood Hospital, Kharadi (Pune).