क्या मास्टरबेट करने से मुंहासे हो जाते हैं? चलिये जानते हैं इस धारणा की सच्चाई

Published on: 7 December 2021, 21:00 pm IST

लड़कियों के लिए इतने सारे टैबू हैं कि उन्हें अलग-अलग तरीके से उन पर थोपा जाता है। ऐसा ही एक टैबू मास्टरबेशन के बारे में भी है।

Badhti umra ke saath masturbation kam nahi hota hai
हस्तमैथुन बढ़ती उम्र के साथ कम नहन होता है। चित्र : शटरस्टॉक

त्वचा से संबंधित समस्याओं के कई कारण होते हैं। पिंपल्स या मुंहासे कभी बाहरी धूल – मिट्टी और प्रदूषण के कारण होते हैं, तो कभी किसी शारीरिक समस्या के कारण। यह हॉर्मोनल उतार – चढ़ाव (Hormonal Imbalance) के कारण भी होते हैं।

कभी – कभी पीरियड्स (Periods) आने के दौरान या उसके बाद भी मुंहासे निकल आते हैं। मगर क्या आपने कभी यह सुना है कि मास्टरबेट (Masturbate) करने से मुंहासे (Acne) निकल आते हैं? जी हां… हस्तमैथुन को लेकर कई भ्रांतियां हैं। हस्तमैथुन और मुंहासे दोनों ही हार्मोनल परिवर्तन से संबंधित हैं, लेकिन क्या दोनों के बीच कोई संबंध है?

कुछ लोगों का ऐसा मानना है कि मास्टरबेट करने से मुंहासे होते हैं। तो चलिये इस लेख के माध्यम से यह पता करते हैं कि इस बात में कितनी सच्चाई है?

acne ek skin problem hai
एक्ने एक जटिल स्थिति है। चित्र : शटरस्टॉक

तो क्या मासटरबेट करने से मुंहासे होते हैं?

कुछ लोगों का मानना है कि हस्तमैथुन करने से पिंपल्स हो सकते हैं, लेकिन यह सच नहीं है। यौवन के दौरान हार्मोनल परिवर्तन होते हैं। ये हार्मोनल परिवर्तन शरीर में अधिक तेल का उत्पादन करने का कारण बनते हैं, जो मुंहासे के विकास में योगदान कर सकते हैं। कई लोग यौवन के दौरान हस्तमैथुन करना भी शुरू कर देते हैं, जिसका हार्मोन के स्तर पर भी बहुत कम प्रभाव पड़ता है।

यह आम धारणा है कि हस्तमैथुन से मुंहासे होते हैं। हालांकि, यह एक मिथ है। लोग ऐसा इसलिए सोचते हैं क्योंकि हस्तमैथुन और मुंहासे दोनों ही हार्मोनल परिवर्तन से संबंधित हैं।

जानिए इससे जुड़े अध्ययन में क्या सामने आया

विश्व जर्नलऑफ़ यूरोलॉजी द्वारा किए गए एक अध्ययन में यह सामने आया कि हस्तमैथुन करने के बाद हॉर्मोनल परिवर्तन होता है और यह सामान्य है। मगर इसकी मात्रा इतनी कम है कि यह मुहांसों का कारण नहीं बन सकता है।

यह एक मिथ है। चित्र : शटरस्टॉक

तो आखिर मुहांसों के क्या कारण होते हैं

मुंहासे एक त्वचा की स्थिति है जिसके कारण व्हाइटहेड्स, ब्लैकहेड्स और पिंपल्स विकसित होते हैं। त्वचा के नीचे के छिद्र उन ग्रंथियों से जुड़ते हैं, जो सीबम का उत्पादन करती हैं, जो एक तैलीय पदार्थ है। ये ग्रंथियां सीबम, मृत त्वचा, या अन्य मलबे के निर्माण से अवरुद्ध हो सकती हैं। बैक्टीरिया जमा हो सकते हैं और सूजन पैदा कर सकते हैं। इससे मुंहासे के लक्षण दिखाई देते हैं, जैसे कि फुंसी।

हालांकि मुंहासे किसी भी उम्र में विकसित हो सकते हैं, मगर यह यौवन के दौरान सबसे प्रमुख होता है। मुंहासे के सटीक कारण स्पष्ट नहीं हैं, लेकिन इससे संबंधित हो सकते हैं:

हार्मोनल परिवर्तन
दवाई
कॉस्मेटिक उपयोग
जेनेटिक्स

मुंहासे हो जाने पर इन बातों का रखें ख्याल

अपना चेहरा बहुत ज्यादा न धोएं, इससे आपकी त्वचा में जलन हो सकती है
माइल्ड क्लींजर और गुनगुने पानी का उपयोग करना
बहुत अधिक मेकअप या कॉस्मेटिक उत्पादों का उपयोग करने से बचें

यह भी पढ़ें : डियर लेडीज, जानिए क्या है अपनी बिकनी लाइन को ट्रिम या शेव करने का सही तरीका

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें