क्या आप भी रेगुलर सेक्स के लिए यूज करते हैं फ्लेवर्ड कंडोम? तो जान लीजिए इसके जोखिम

फ्लेवर्ड कंडोम आमतौर पर लेटेक्स या पॉलीयुरेथेन से बने होते हैं और एक फ्लेवरिंग एजेंट का एक चिपचिपा पदार्थ इस पर लगा होता है, जो अक्सर एक प्रकार की चीनी या कृत्रिम स्वीटनर होता है।
oral sex ke liye safe hain flavored condoms.
फ्लेवर्ड कंडोम विशेष रूप से ओरल सेक्स के लिए बनाए जाते हैं। अन्य प्रकार के सेक्स के लिए फ्लेवर्ड कंडोम का उपयोग स्वास्थ्य जोखिम पैदा कर सकता है। चित्र : अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Updated: 28 Jun 2024, 08:21 pm IST
  • 134
मेडिकली रिव्यूड

फ्लेवर्ड कंडोम ओरल सेक्स में सुखद स्वाद और गंध जोड़ने के लिए लोकप्रिय हैं, जिससे दोनों पार्टनर के लिए यह अनुभव अधिक आनंददायक हो जाता है। हालांकि, इस बात को लेकर चिंताएं हैं कि क्या ये फ्लेवर्ड कंडोम यीस्ट संक्रमण या अन्य योनि स्वास्थ्य समस्याएं पैदा कर सकते हैं। जोखिमों को समझने के लिए, फ्लेवर्ड कंडोम में शामिल सामग्रियों और पदार्थों को देखना आवश्यक है।

सामान्य कंडोम से कैसे अलग हैं फ्लेवर्ड कंडोम

फ्लेवर्ड कंडोम आमतौर पर लेटेक्स या पॉलीयुरेथेन से बने होते हैं और एक फ्लेवरिंग एजेंट का एक चिपचिपा पदार्थ इस पर लगा होता है, जो अक्सर एक प्रकार की चीनी या कृत्रिम स्वीटनर होता है। ये कंडोम मुख्य रूप से ओरल सेक्स के लिए डिज़ाइन किए गए हैं, जो अधिक आनंददायक स्वाद और सुगंध प्रदान करते हैं। स्वाद फल और कैंडी से लेकर कई किस्मों तक हो सकते हैं, और वे लेटेक्स की गंध को छिपाने और यौन अनुभव को बढ़ाने के लिए होते हैं।

इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए हमने बात की गायनेकोलॉजिस्ट रितु सेठी से।

स्त्री रोग विशेषज्ञ बता रही हैं फ्लेवर्ड कंडोम के जोखिम (Side effects of flavored condoms)

1 डिस्टर्ब हो सकता है वेजाइना का पीएच

कई फ्लेवर्ड कंडोम में उन्हें स्वाद देने के लिए ग्लूकोज या फ्रुक्टोज जैसी शर्करा होती है। जब ये शर्करा योनि के वातावरण के संपर्क में आती हैं, तो वे असंतुलन पैदा कर सकती हैं। योनि में एक नाजुक पीएच संतुलन और एक विशिष्ट माइक्रोबायोम होता है, जिसे चीनी द्वारा बाधित किया जा सकता है, जिससे यीस्ट की अधिक वृद्धि होती है और यीस्ट संक्रमण होता है।

condom se judijaruri baatein
जानें कंडोम के इस्तेमाल से जुडी कुछ जरुरी बातें। चित्र : एडॉबीस्टॉक

2 योनि में खुजली और इंफेक्शन

कुछ फ्लेवर्ड कंडोम चीनी के बजाय कृत्रिम मिठास का उपयोग करते हैं। हालांकि इनसे यीस्ट संक्रमण होने की संभावना कम हो सकती है। वे योनि क्षेत्रों में संवेदनशील त्वचा और म्युकस मेंब्रेन को परेशान कर सकते हैं। जिससे संभावित रूप से असुविधा या अन्य संक्रमण हो सकते हैं।

3 एलर्जी हो सकती है

फ्लेवर्ड कंडोम में इस्तेमाल किए जाने वाले फ्लेवरिंग एजेंट और अन्य रसायन कुछ व्यक्तियों में एलर्जी या संवेदनशीलता पैदा कर सकते हैं। लक्षणों में खुजली, लालिमा, सूजन और जलन शामिल हो सकते हैं, जो यीस्ट संक्रमण सहित अन्य संक्रमण का कारण बन सकते हैं।

फ्लेवर्ड कंडोम से होने वाले जोखिमों से बचने के उपाय (How to avoid flavored condoms health risk)

1 सिर्फ ब्लो जॉब के लिए इन्हें यूज करें

फ्लेवर्ड कंडोम ओरल सेक्स के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। योनि या वेजाइनल पेनिट्रेशन के लिए इनका उपयोग करने से बचें, ताकि इन क्षेत्रों में शर्करा और अन्य संभावित रूप से परेशान करने वाले पदार्थ प्रवेश न करें।

2 यूज करने से पहले सामग्री की जांच करें

फ्लेवर्ड कंडोम का उपयोग करने से पहले, सामग्री सूची में शर्करा या किसी ऐसे पदार्थ की जांच करें, जिसके प्रति आप संवेदनशील हो सकते हैं। ऐसे उत्पाद चुनें जिनमें जलन न करने वाले स्वीटनर हों या जिन्हें ज़रूरत पड़ने पर योनि के उपयोग के लिए सुरक्षित के रूप में लेबल किया गया हो।

3 पर्सनल हाइजीन मेंटेन रखें

फ्लेवर्ड कंडोम का उपयोग करने के बाद, अच्छी स्वच्छता रखना बहुत जरूरी है। किसी भी अवशेष को हटाने के लिए अपने मुंह और जेनाइटल क्षेत्र को पानी से धोएं। यह प्राकृतिक pH संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है और संभावित परेशानियों को समस्याएं पैदा करने से रोकता है।

condom ke fayde
दोनों पार्टनर को कंडोम का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए | चित्र : शटरस्टॉक

4 गैर-स्वाद वाले विकल्प चुनें

यदि आप संक्रमण के जोखिम के बारे में चिंतित हैं, तो योनि या एनल सेक्स के लिए गैर-स्वाद वाले कंडोम का उपयोग करने पर विचार करें। ऐसे कई विकल्प उपलब्ध हैं जो बिना किसी अतिरिक्त स्वाद के सुरक्षित और प्रभावी होने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।

5 किसी भी तरह के लक्षणों पर ध्यान दें

फ्लेवर कंडोम का इस्तेमाल करने के बाद जलन या संक्रमण के किसी भी लक्षण पर ध्यान दें। यीस्ट संक्रमण के लक्षणों में खुजली, जलन, असामान्य स्राव और बेचैनी शामिल हैं। अगर आपको ये लक्षण दिखाई देते हैं, तो इस्तेमाल बंद कर दें और उचित उपचार के लिए डॉक्टर से जरूर मिलें।

ये भी पढ़े- 30 की उम्र में हिना खान को हुआ ब्रैस्ट कैंसर, जानिए क्या है कैंसर की तीसरी स्टेज और इसका उपचार

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख