Scanty periods : जानिए अचानक क्यों कम हो जाता है पीरियड फ्लो और आप इससे कैसे बच सकती हैं

तनाव और लाइफस्टाइल में बदलाव आपकी शारीरिक और मानसिक सेहत को गंभीर रूप से प्रभावित करता है। तो क्या इसका असर माहवारी पर भी पड़ सकता है? एक्सपर्ट बता रहीं हैं इस बारे में सब कुछ।
scanty periods kyun hote hai
आपके मेंसुरेशन आने वाले हैं इसका एक बड़ा संकेत यह है कि आपके स्तन बढ़े हो जाते है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 13 Apr 2023, 19:00 pm IST
  • 134

हर महिला के पीरियड हैवी या बहुत दिनों तक नहीं होते। कुछ महिलाओं को हल्के पीरियड और कम दिनों के लिए भी पीरियड होते हैं। हर किसी के पीरियड एक जैसे तकलीफदेह भी नहीं होते। पर इनमें अचानक किसी भी तरह का बदलाव चिंताजनक हो सकता है। अगर आपके पीरियड अचानक बहुत हल्के (Scanty periods) हो गए हैं, तो यह शरीर में हो रहे बदलाव का संकेत है। इसलिए जरूरी है इसके कारणों को समझना। ताकि आप अपने स्वास्थ्य पर समय रहते ध्यान दे सकें।

आज कल खान पान में काफी बदलाव हो गया है, जिसकी वजह से पीरियड साइकल अनियमित होने लगी है। जंक, प्रोसेस्ड फूड, पैक्ड फूड भी आपकी सेहत पर भारी असर डालता है। आपको जानकर हैरानी होगी, पर यह सच है कि बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम भी आपकी मेंस्ट्रुअल हेल्थ को नुकसान पहुंचा रहा है।

कई बार तनाव, अपर्याप्त नींद या खराब लाइफस्टाइल भी आपकी मेंस्ट्रुअल हेल्थ को प्रभावित कर सकता है।

हल्के पीरियड या स्कैंटी पीरियड होने का क्या कारण है इस बारे में डॉ. अंजलि कुमार ने अपनी एक इंस्टाग्राम पोस्ट में विस्तार से बताया है। डॉ. अजलि कुमार एक स्त्री रोग विशेषज्ञ हैं और यूट्यूब पर मैत्री नाम का चैनल चलाती हैं। जिसमें वे महिलाओं की सेहत से जुड़ी चीजों पर खुलकर बात करती हैं।

scanty periods ke kayi wajah ho sakti hai
हल्के पीरियड या स्कैंटी पीरियड होने का कई कारण है।

एक्सपर्ट बता रहीं हैं हल्के पीरियड के सामान्य कारण (Common causes of Scanty periods)

डॉ अंजलि कहती हैं, “हर महिला के पीरियड एक-दूसरे से अलग होते हैं। किसी को हैवी पीरियड होते हैं, जिसे मेनोरेजिया (menorrhagia) कहा जाता है, तो किसी को हल्के पीरियड होते है जिसे हाइपोमेनोरिया (hypomenorrhea) कहा जाता है।

ये भी पढे़- गर्मियों में कमजोर और बेजान हो रहे हैं बाल, तो इन 5 नेचुरल ऑयल से लगाएं हेयर फॉल पर लगाम

1 सबसे बड़ा कारण है तनाव

डॉ. अंजलि कुमार के अनुसार शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से कोई भी तनाव आपकी सेहत को खराब कर सकता है। तनाव आपके पीरियड को भी प्रभावित कर सकता है। ये आपके हार्मोन में बदलाव कर सकता है जिससे मेंस्ट्रुअल साइकिल में बदलाव आ सकता है और पीरियड भी हल्के हो सकते है।

2 अचानक वजन का घटना

अगर आप अचानक से वजन को कम करते है तो भी आपके स्कैंटी पीरियड होने की संभावना होती है। क्योकि फैट में रूप में शरीर में रिप्रोडक्टिव हार्मोन एस्ट्रोजन मौजूद होता है। जैसे फैट कम होता है ये हार्मोन भी शरीर में कम होता होता है जिससे हल्के पीरियड या फिर काफी लंबे अंतराल में पीरियड होते है।

3 एक्सरसाइज न करना

किसी भी चीज को न करना या फिर जरूरत से ज्यादा करना दोनो ही खतरनाक हो सकते है। अगर आप रेगुलर एक्सरसाइज नही करती है या फिर बहुत ज्यादा एक्सरसाइज करती है तो ये भी आपके पीरियड को प्रभावित कर सकता है। थोड़ी सी एक्सरसाइज शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए जरूरी है।

4 थायराइड

पीरियड्स के अनियमित कम या ज्यादा होने का एक और बड़ा कारण थायराइड हार्मोन का असंतुलित होना हो सकता है। आज कल थायराइड की समस्या हर दूसरे व्यक्ति को परेशान कर रही है। थायराइड के शरीर का वजन भी काफी तेजी से बड़ता है जिससे भी स्कैंटि पीरियड या हल्के पीरियड हो सकते है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
kya hota hai period flu
अगर आप अचानक से वजन को कम करते है तो भी आपके स्कैंटी पीरियड होने की संभावना होती है।अडोबी स्टॉक

5 पीसीओएस

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम यानी पीसीओएस (PCOS) आज कल काफी लड़कियों में देखा जा रहा है। यह समस्या भी नियमित मासिक धर्म चक्र को बाधित कर सकती हैं क्योंकि हार्मोन का स्तर असंतुलित हो जाता है। इससे अनियमित पीरियड हो सकती है जो बहुत हल्की हो सकती है।

क्यों करें जब हल्के पीरियड या स्कैंटी पीरियड होने लगें (How to deal with Scanty periods)

1 व्यायाम करें

पीरियड के दौरान या रोजाना हल्का व्यायाम आपको स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है। पीरियड के दौरान भी आपको हल्की एक्सरसाइज करनी चाहिए इससे पीरियड का फ्लो आसान हो जाता है। अगर आपको जिम करना पसंद नही है तो आपके लिए काफी अच्छा है कि आप हल्के योगा जरूर करें। ये पीरियड के दौरान होने वाले क्रैंप और मूड स्विंग को भी ठीक करता है।

2 चुकंदर का सेवन करें

चुकंदर में काफी सारे पोषक तत्व होते है। इसमें आयरन, कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन सी, पोटेशियम, मैंगनीज, फोलिक एसिड और फाइबर होता है। यह शरीर में हिमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता है और खून की कमी को पूरा करता है। जिससे पीरियड नियमित हो सकते है।

3 पर्याप्त पानी पिएं

पीरियड के दौरान केवल खून ही शरीर से बाहर नही आता है बल्कि उसके साथ कई अन्य तरल पदार्थ जैसे पानी भी मिला होता है। गाढ़े खून को फ्लो करने में थोड़ी मुश्किल होती है। इसलिए आपको पानी पीना चाहिए ताकि पीरियड बल्ड आराम से फ्लो कर पाए।

ये भी पढे़- एंग्जाइटी किसी को भी परेशान कर सकती है, जानिए इससे तुरंत राहत पाने के एक्सपर्ट सुझाव

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख