वैलनेस
स्टोर

जानिए क्यों कभी-कभी लेट हो जाते हैं आपके पीरियड और कब है आपको डॉक्टर के पास जाने की जरूरत

Updated on: 29 July 2021, 16:57pm IST
आपकी शारीरिक और मानसिक स्थिति भी आपके प्रजनन स्वास्थ्य को प्रभावित करती है और कई बार पीरियड्स का लेट होना भी इसके कारण हो सकता है।
मोनिका अग्रवाल
  • 87 Likes
लेट पीरियड के कई कारण हो सकते हैं। चित्र: शटरस्टॉक
लेट पीरियड के कई कारण हो सकते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

आमतौर पर पीरियड साइकल 28 दिन का होता है। इसमें दो-चार दिन आगे-पीछे होना एकदम सामान्य है। जबकि कुछ महिलाओं का पीरियड साइकल (Period Cycle) 31 दिन का भी हो सकता है। शुरू के कुछ सालों में ही यह समझ आने लगता है कि आपका पीरियड साइकल कितने दिन का है। पर कई बार कुछ खास स्थितियों में आपके पीरियड्स लेट भी हो सकते हैं। आज हम उन्हीं स्थितियों के बारे में बात करेंगे, जो आपके पीरियड लेट (Late periods causes) होने का कारण हो सकती हैं।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल,गाइनेकोलॉजिस्ट,डॉक्टर रंजना बेकन के मुताबिक आपके पीरियड लेट होने का कारण आपके हार्मोन्स का असंतुलन होना या आपके स्वास्थ्य से जुड़ी कुछ समस्याएं हो सकती हैं।

पीरियड्स लेट दो ही समय होते हैं पहला जब पीरियड्स शुरू हुए हों और दूसरा जब आपका मेनोपॉज का समय हो लेकिन अगर इनके अलावा भी आपके पीरियड्स बहुत समय लेट हो जाते हैं, तो आपको समझ लेना चाहिए की यह सब नॉर्मल नहीं है और किन्हीं स्वास्थ्य समस्याओं के कारण ऐसा हो रहा है। 

वो कारण जिनसे पीरियड्स लेट हो सकते हैं

1 तनाव : 

स्ट्रेस पीरियड्स लेट होने का सबसे बड़ा कारण है और इसके दौरान आपके हार्मोन्स में बदलाव आने लगते हैं। यह बदलाव आपके मस्तिष्क के पीरियड्स रेग्यूलेट करने के रेस्पॉन्स को बदल सकता है।

तनाव का असर आपके मासिक धर्म चक्र पर भी पड़ता है। चित्र: शटरस्टॉक
तनाव का असर आपके मासिक धर्म चक्र पर भी पड़ता है। चित्र: शटरस्टॉक

तनाव के कारण आप बीमार भी पड़ सकती हैं या आपका एकदम से वजन भी बढ़ सकता है, जो पीरियड्स लेट होने का एक बड़ा कारण है। इससे बचने के लिए आपको एक्सरसाइज और कुछ रिलैक्सिंग तकनीकों का प्रयोग करना चाहिए।

यह भी पढ़ें – डियर लेडीज, नोट कीजिए मुनक्का के ये बेमिसाल फायदे, ताकि आप रहें हमेशा सेहतमंद

2 शरीर का वजन कम होना

अगर आपकी हाइट या वजन नॉर्मल से 10 प्रतिशत नीचे है, तो आपके शरीर में ओवुलेशन से जुड़ी समस्या हो सकती है। इसका कारण आपका ईटिंग डिसऑर्डर भी हो सकता है। एक हेल्दी तरीके से शरीर के वजन को बढ़ाने और अपने खाने की आदतों को सही रखने से भी पीरियड्स नियमित हो सकते हैं।

3 मोटापा : 

जिस प्रकार लो बॉडी वेट आपके हार्मोन्स को बदल सकता है और आपके ओवुलेशन को प्रभावित कर सकता है उसी प्रकार ओवर वेट होना भी आपके पीरियड्स के लेट होने का एक मुख्य कारण हो सकता है। अगर आपके डॉक्टर को आपके पीरियड्स लेट होने का कारण आपकी डाइट या आपका वजन लगता है, तो वह आप को वजन कम करने से जुड़े कुछ सुझाव दे सकते हैं। 

4 पीसीओएस : 

यह वह स्थिति होती है जिसमें आपका शरीर मेल हार्मोन एंड्रोजन को अधिक प्रोड्यूस करने लगता है। इस स्थिति के दौरान आपके हार्मोन्स इंबैलेंस हो जाते हैं। जिसके कारण आपकी ओवरीज में सिस्ट बनने लगते हैं। इस स्थिति के कारण ओवुलेशन होना कम हो सकता है या बिल्कुल बंद भी हो सकता है। आपके डॉक्टर आपको पीरियड्स नियमित करने के लिए कुछ दवाइयां दे सकते हैं।

5  गर्भ निरोधक गोलियां : 

अगर आप बर्थ कंट्रोल पिल्स का सेवन करती हैं, तो वह आप एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टिन नामक हार्मोन अधिक प्रोड्यूस करने लगती हैं और इनके कारण आपकी ओवरीज एग रिलीज करना बंद कर सकती है।

यह भी पढ़ें – ये 7 कारण साबित करते हैं कि आपके लिए ज्यादा फायदेमंद है कपड़े उतार कर सोना

जब आप बर्थ कंट्रोल पिल्स लेना बंद करती हैं उस समय से लेकर आपकी पीरियड्स साइकिल नियमित होने में लगभग 6 महीने का समय लग सकता है। कुछ अन्य प्रकार के बर्थ कंट्रोल पिल्स भी आपके पीरियड्स को लेट कर सकते हैं।

6 क्रोनिक बीमारी : 

अगर आप किसी प्रकार की क्रोनिक बीमारी जैसे डायबिटीज या सिलिएक डिजीज से पीड़ित हैं, तो भी आपकी साइकिल अनियमित हो सकती है। अगर आपकी ब्लड शुगर में बदलाव आता है, तो इससे आपके हार्मोन्स में भी बदलाव हो सकता है। जिस कारण आपके पीरियड्स अनियमित हो सकते हैं।

डायबिटीज जैसी लंबी चलने वाली बीमारियां भी पीरियड लेट होने का कारण हो सकती हैं। चित्र: शटरस्टॉक
डायबिटीज जैसी लंबी चलने वाली बीमारियां भी पीरियड लेट होने का कारण हो सकती हैं। चित्र: शटरस्टॉक

अगर आपके पीरियड्स के अनियमित होने के कारण ऊपर लिखित हैं, तो आपको अपनी शारीरिक स्थिति या उनसे जुड़े लक्षण कम करने की आवश्यकता है। अगर आपके पीरियड्स काफी दिनों तक लेट हो गए हैं और उसके बाद हैवी फ्लो आता है या पीरियड्स के साथ-साथ उल्टियां, जी मिचलाने जैसे लक्षण दिखते हैं तो आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए और इन सब लक्षणों के बारे में बात करनी चाहिए।

मोनिका अग्रवाल मोनिका अग्रवाल

स्वतंत्र लेखिका-पत्रकार मोनिका अग्रवाल ब्यूटी, फिटनेस और स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर लगातार काम कर रहीं हैं। अपने खाली समय में बैडमिंटन खेलना और साहित्य पढ़ना पसंद करती हैं।